Vardhman Mahavira Hindi Kahaniya

Vardhman Mahavira Hindi Kahaniya | short bal kahani in hindi, baccho ki kahani suno, dadi maa ki kahaniyan, bal kahaniyan, cinderella ki kahani, hindi panchatantra stories, baccho ki kahaniya aur cartoon, stories, kids story in english, moral stories, kids story books, stories for kids with pictures, short story, short stories for kids, story for kids with  moral, moral stories for childrens in hindi, infobells hindi moral stories, hindi panchatantra stories, moral stories in hindi,  story in hindi for class 1, hindi story books, story in hindi for class 4, story in hindi for class 6, panchtantra ki kahaniya.

Vardhman Mahavira Hindi Kahaniya

रस्तुत पोस्ट ‘Vardhman Mahavira Hindi Kahaniya’ में जैन धर्म के 24वें  तीर्थंकर भगवान महावीर के जीवन से सम्बंधित दो प्रेरक कहानियां शामिल की गयी हैं. ये कहानियां उनके मानवीय मूल्यों के उच्चतम आदर्श प्रस्तुत करती हैं. आशा है, आपको पसंद आयेंगी.

Vardhman Mahavira Hindi Kahaniya

Vardhman Mahavira Hindi Kahaniya

Vardhman  Mahavira Hindi Kahaniya अन्याय है दास प्रथा

महाराजा सिद्धार्थ के पुत्र वर्धमान बचपन से ही धार्मिक संस्कारों में पले – बढ़े थे. उनका हृदय दुसरे के दुख को देखकर द्रवित हो उठता था. वह यह मानने लगे थे कि प्रत्येक प्राणी में भगवान का निवास है कभी किसी को भी कष्ट नहीं पहुंचाना चाहिए.

राजकुमार युवा हो गए. एक दिन वह अपने मित्रों के साथ उद्दान में भ्रमण करने जा रहे थे. रास्ते में एक धनाढ्य व्यक्ति की हवेली के अंदर से चीखने-चिल्लाने की आवाज आई. रूदन सुनकर राजकुमार के पाँव वहीं ठहर गए. एक मित्र ने कहा, ‘ यहाँ क्यों ठहर गए? इस हवेली से तो प्रतिदिन चीख-पुकार की आवाज आती रहती है. ‘राजकुमार ने पूछा,’कौन चीख-पुकार कर रहा है?

‘मित्र ने बताया,’इस हवेली का मालिक अपने दास को मारता-पीटता है, दास पिटते समय चिल्लाता है, यह सुनकर वर्धमान का हृदय करूणा से भर गया. उन्होंने कहा, ‘क्या मनुष्य मनुष्य का दास हो सकता है? सभी प्राणी समान हैं. सभी में एक जैसी आत्मा होती है.’

मित्र ने बताया, ‘धनाढ्य लोग पैसे के बल पर गरीबों को दास की तरह खरीदते हैं. उनसे काम करते हैं. यह राजकीय व्यवस्था है.’ वर्धमान ने कहा, ‘यह घोर अव्यवस्था है. इस पाप कर्म को बंद किया जाना चाहिए’

राजकुमार वर्धमान वापस लौट आए. कुछ ही दिनों में उन्होंने आदेश जारी करके दास प्रथा को अन्याय व अधर्म घोषित कर दिया.

Vardhman Mahavira Hindi Kahaniya अपना-अपना धर्म

भगवान महावीर जहाँ एक ओर पवित्र आचरण और सेवा-परोपकार के कार्यों को धर्म बताते थे, वहीं कहा करते थे कि वस्तु का सहज स्वभाव ही उसका धर्म है.

एक बार एक व्यक्ति उनके सत्संग के लिए पहुंचा. उसने अनेक शास्त्रों का अध्ययन किया था, फिर भी वह यह नहीं जान सका कि धर्म किसे कहना चाहिए. कुछ पंडित कर्मकाण्ड को तो कुछ तीर्थयात्रा करने को धर्म बताते थे. वह जिस संत के पास पहुंचता, उन्हीं से पूछता,’महाराज, धर्म किसे कहा जाता है?’ भगवान महावीर से भी उसने यही प्रश्न किया कि उनके अनुसार धर्म क्या है?

महावीर ने उत्तर दिया,’जो वस्तुओं का सहज स्वभाव है, वही उसका धर्म है. सभी वस्तुओं का अलग-अलग चरम है’ उन्होंने विस्तार से समझाते हुए कहा,’आग जलाती है, यह उसका धर्म है पानी नीचे की ओर चला जाता है, यह उसका धर्म है. आदमी जन्मता और मरता है, यह उसकी नियति है- स्वभाव है. अतः जन्म के बाद मृत्यु को स्वभाव मानकर हम मृत्युपरांत कर्तव्य पालन, सेवा-परोपकार के कार्य में निरंतर लगे रहें, तो समझो कि हम अपने धर्म का पालन कर मोक्ष मार्ग की ओर बढ़ रहे हैं’

जिज्ञासु धर्म का सार समझकर संतुष्ट हो गया.

आपको यह हिंदी कहानी कैसी लगी, अपने विचार कमेंट द्वारा दें. धन्यवाद!

APJ Abdul Kalam Wet Grinder Hindi Story

APJ Abdul Kalam Wet Grinder Hindi Story | short bal kahani in hindi, baccho ki kahani suno, dadi maa ki kahaniyan, bal kahaniyan, cinderella ki kahani, hindi panchatantra stories, baccho ki kahaniya aur cartoon, stories, kids story in english, moral stories, kids story books, stories for kids with pictures, short story, short stories for kids, story for kids with  moral, moral stories for childrens in hindi, infobells hindi moral stories, hindi panchatantra stories, moral stories in hindi,  story in hindi for class 1, hindi story books, story in hindi for class 4, story in hindi for class 6, panchtantra ki kahaniya.

APJ Abdul Kalam Wet Grinder Hindi Story 

Dr APJ Abdul Kalam को कौन नहीं जानता. वह हमारे देश के राष्ट्रपति थे. कई लोग उनके बारे में यह बोलते हैं कि उनको हमेशा overrate किया गया यानि वो जितना थे उससे कई गुना बढ़ा चढ़ाकर उनके बारे में कहा गया, और लिखा गया. मैं यहाँ पर उनके बारे में एक छोटी सी बात शेयर करना चाहता हूँ जो उनकी महानता को दिखाता है.

APJ Abdul Kalam Wet Grinder Hindi Story

यह एक सच्ची घटना है जो 2014  में घटी थी.

जैसा कि आपको पता होगा कि राष्ट्रपति पद का कार्यकाल पूरा होने के बाद Dr APJ Abdul Kalam देश भर में स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी, कॉर्पोरेट जगत के कार्यकर्मों में भाग लेते रहते थे. ऐसे ही एक कार्यक्रम के दौरान उनकी मृत्यु भी हो गयी थी और देश ने एक महान विभूति को खो दिया.

इरोड में एक फर्म है – सौभाग्य इंटरप्राइजेज. यह फर्म wet grinder यानि गीली चक्की बनाने के लिये प्रसिद्द है. Wet grinder का उपयोग रसोई के कार्यों में होता है. इसी फर्म द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में Dr APJ Abdul Kalam को आमंत्रित किया गया. वे उस कार्यक्रम में भाग लेने गए.

APJ Abdul Kalam Wet Grinder Hindi Story

उस कार्यक्रम की समाप्ति के दिन सौभाग्य इंटरप्राइजेज ने उनको एक wet grinder उपहार स्वरुप दिया. ऐसे Dr APJ Abdul Kalam भी अपने घर में उपयोग के लिये एक wet grinder लेने की सोच रहे थे. अब्दुल कलाम साहब ने उस wet grinder को उपहार के रूप में लेना अस्वीकार कर दिया. उन्होंने उसके लिये एक 4850 रूपये का चेक काटकर उस कंपनी के अधिकारी को दे दिया.

कंपनी और कंपनी के प्रबंध निदेशक कलाम साहब के इस व्यवहार से बहुत प्रभावित हुए और अपने आपको गौरवान्वित महसूस करने लगे. उन लोगों ने उस चेक को भुनाने की बजाय फ्रेम करके अपने कार्यालय में दीवार पर सम्मानपूर्वक लगवा दिया.

दो महीने बाद, उन लोगों को Dr APJ Abdul Kalam के ऑफिस से फ़ोन आया कि उस 4850 रूपये के चेक को बैंक में जमाकर उसे clear करा लें. यदि वे लोग ऐसा नहीं करते हैं तो उनका wet grinder वापस कर दिया जाएगा.

कोई अन्य विकल्प नहीं देख सौभाग्य इंटरप्राइजेज के प्रबंध निदेशक ने उस चेक का फोटो कॉपी करा लिया. उस फोटो कॉपी को फ्रेम कराकर अपने ऑफिस में लगवा दिया और कलाम साहब वाला चेक बैंक में क्लीयरेंस के लिये भेज दिया.

ऐसे थे हमारे कलाम साहब

बात तो बहुत छोटी है और साधारण सी जान पड़ती है. लेकिन यदि इस पर विचार किया जाय तो इससे कलाम साहब की छोटी छोटी चीजों के बारे में जानकारी रखना और उसका पालन करना स्पष्ट दीखता है. यही छोटी छोटी बातें लोगों को महान बनाती हैं.

वाकई कलाम साहब एक विनम्र इंसान थे, जिन्होंने देश और मानवता के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया। सन्दर्भ के लिये उस चेक का चित्र भी दिया जा रहा है, यह चित्र इन्टरनेट से लिया गया है.

APJ Abdul Kalam Wet Grinder Hindi Story

 

आपको यह हिंदी कहानी कैसी लगी, अपने विचार कमेंट द्वारा दें. धन्यवाद!

गद्दारी का पुरस्कार हिंदी देशभक्ति कहानी Gaddari Ka Puraskaar Desh Bhakti Hindi Story

गद्दारी का पुरस्कार हिंदी देशभक्ति कहानी Gaddari Ka Puraskaar Desh Bhakti Hindi Story | short bal kahani in hindi, baccho ki kahani suno, dadi maa ki kahaniyan, bal kahaniyan, cinderella ki kahani, hindi panchatantra stories, baccho ki kahaniya aur cartoon, stories, kids story in english, moral stories, kids story books, stories for kids with pictures, short story, short stories for kids, story for kids with  moral, moral stories for childrens in hindi, infobells hindi moral stories, hindi panchatantra stories, moral stories in hindi,  story in hindi for class 1, hindi story books, story in hindi for class 4, story in hindi for class 6, panchtantra ki kahaniya.

गद्दारी का पुरस्कार हिंदी देशभक्ति कहानी Gaddari Ka Puraskaar Desh Bhakti Hindi Story

 

Gaddari Ka Puraskaar Desh Bhakti Hindi Story

चापेकर बंधुओं ने शहादत की उच्चतम मिसाल पेश की. सादर नमन!

अप्रैल 1897 ईo में पूना शहर को महामारी प्लेग की काली छाया ने घेर रखा था. शहर की मुस्कान को मानो ग्रहण लग गया था. चारों ओर उदासी छाई हुई थी. हर व्यक्ति महामारी के चपेट में आने वाले खतरे से बोझिल था. मुर्दा घरों पर मुर्दों की लाइन लगी थीं. कई घरों में तो शवों को उठाने वाला भी कोई नहीं बचा था. लोग शहर छोड़-छोड़ कर अन्यत्र भाग रहे थे.

मौत के दैवी-तांडव के बीच एक और खेल चल रहा था. वह खेल था महामारी से ग्रस्त जनता के लूट का खेल. वह खेल था रोग के कीटाणुओं को मरने के लिये दवा छिडकने के बहाने घरों में घुसकर जवान बहू-बेटियों के साथ अभद्रता और छेड़-छाड़ का खेल. वह खेल था विरोध करने पर घरों को आग लगाने का खेल. आखिर यह खेल कौन खेल रहा था?

Gaddari Ka Puraskaar Desh Bhakti Hindi Story

प्लेग महामारी पर काबू पाने के लिये मिस्टर वाल्टर चार्ल्स रैंड को पूना का प्लेग कमिश्नर नियुक्त किया गया था. रैंड महलालची, क्रूर और अत्याचारी था. उसने कर्मचारियों और सैनिकों की ऐसी टीम तैयार की हुई थी जो उसके इशारे पे काम करे. अत: उसके कर्मचारी प्लेग की गिल्टी को देखने के बहाने औरतों के वस्त्र उतरवा लेते थे और अभद्रता की सीमा लाँघ कर उन्हें बेइज्जत करते थे. उनके जेवर उतरवा लेते थे. यह खेल प्लेग कमिश्नर रैंड खेल रहा था.

लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने लार्ड सांडर्स को कड़ा पत्र लिखा. उन्होंने इस पत्र में रैंड के अत्याचारों को तुरंत बंद करने की मांग की थी. इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ा. तिलक के ‘केसरी’ पत्र के ओजस्वी लेखों ने युवकों में नई चेतना भर दी. उनकी प्रेरणा से महाराष्ट्र में देश की आजादी हेतु अनेक गुप्त संगठन कार्य कर रहे थे. ऐसे ही एक संगठन के सदस्य थे – दामोदर हरि चापेकर, बालकृष्ण हरि चापेकर, इन दोनों का छोटा भाई वासुदेव चापेकर एवं महादेव रानाडे. वासुदेव और रानाडे की आयु अभी केवल सत्रह वर्ष थी. एस युवा दल ने घोषणा कर दी – “पूना की जनता को रैंड के अत्याचारों से शीघ्र ही मुक्ति मिल जाएगी.”

Gaddari Ka Puraskaar Desh Bhakti Hindi Story

दामोदर चापेकर ने रैंड के कोचवान से दोस्ती गांठ ली. उससे नौकरी मांगने के बहाने से रैंड के बारे में काफी जानकारी हासिल कर ली. वासुदेव चापेकर ने रैंड के यार-दोस्तों, रिश्तेदारों और कार्यक्रमों का ब्यौरा तैयार किया. महादेव रानाडे ने शस्त्रों का प्रबंध किया. इस प्रकार यह युवा दल तीन माह तक पूरी तैयारी में जुटा रहा.

22 जून, 1897 ई. महारानी विक्टोरिया के राज्यारोहण को पच्चीस वर्ष पूरे हो चुके थे. पूना के गवर्नमेंट हाउस में राज्यारोहण की हीरक जयंती का कार्यक्रम था. कमिश्नर रैंड भी इसमें उपस्थित था. यह युवा दल घात लगाये बाहर बैठा था और उत्सव की समाप्ति का इन्तजार कर रहा था.

Gaddari Ka Puraskaar Desh Bhakti Hindi Story

रात्रि के बारह बजकर दस मिनट पर उत्सव समाप्त हुआ. रैंड बाहर निकला और बग्घी पर सवार होकर घर की ओर जाने लगा. युवा दल ने भी लुकते-छिपते आगे बढ़ते हुए बग्घी से कुछ दूरी बनाए रखी. जैसे ही बग्घी सुनसान से इलाके में पहुंची दामोदर चापेकर रैंड की बग्घी पर चढ़ा और उसे गोलियों का निशाना बना डाला. उसके पीछे केवल एक बग्घी और थी. बालकृष्ण चापेकर ने स बग्घी में बैठे अंग्रेज अधकारी आयरिष्ट की हत्या कर दी. यह क्रांतिकारी दल अपना काम करके सुरक्षित भाग निकला.

अगले दिन रैंड की हत्या का समाचार जैसे ही शहर में फैला, शहर के लोगों ने चैन की साँस ली. अपराधियों को पकड़ वाने वाले को बीस हजार रूपये के इनाम की घोषणा कर दी गई. उन दिनों २० हजार रूपये बहुत बड़ी रकम हुआ करती थी. शहर की नाकेबंदी कर खुफिया पुलिस को सतर्क कर दिया गया.

चापेकर बन्धुओं के दल में गणेश शंकर द्रविड़ और रामचन्द्र द्रविड़ दो सगे भाई थे. उन्होंने इनाम की लालच में रैंड की हत्या का भेद पुलिस को बता दिया. घर का भेदी लंका डाहे. अत: वासुदेव चापेकर गिरफ्तार कर लिए गए. 18 अप्रैल,1898 को इन्हें फाँसी दे दी गई. बालकृष्ण चापेकर भूमिगत हो गए बाद में इन्हें भी आत्मसमर्पण करना पड़ा.

Gaddari Ka Puraskaar Desh Bhakti Hindi Story

एक भाई को फाँसी लग चुकी थी. दूसरे के लिये फाँसी का फंदा तैयार था. यह विचार मन में आते ही वासुदेव बेचैन हो उठता था. एक दिन वह महादेव रानाडे से मिला और बोला – “मेरे दोनों भाइयों को द्रविड़ भाइयों ने पकड़वाया है. उनकी फाँसी के लिये वे ही जिम्मेदार हैं. मैं उन्हें इस गद्दारी की सजा अवश्य दूँगा. क्या तुम मेरा साथ दोगे?”

“वासुदेव ! हमने देश के लिये ही मरने और जीने की कसम खाई थी. मैं उसे भूला नहीं हूँ. हम लोग उन्हें गद्दारी का मजा अवश्य चखाएंगे “

महादेव रानाडे से बात करके वासुदेव अपने घर पहुंचा. माँ के चरण स्पर्श करता हुआ माँ से बोला – “माँ मुझे आशीर्वाद दीजिए.”

“माँ भौंचक्की सी होकर पूछ बैठीं – “बेटा कैसा आशीर्वाद? तू क्या करने जा रहा है?”

Gaddari Ka Puraskaar Desh Bhakti Hindi Story

माँ, मैं अपने भाइयों को पकडवाने वाले को इनाम देने जा रहा हूँ.”

“पकडवाने वाले को…… इनाम ? मैं समझ गई, तू जरूर कोई गलत कार्य करने जा रहा है. बेटा इनाम और सजा तो ऊपर वाले के हाथ में है. हम उसे क्या सजा देंगे?”

“लेकिन माँ, ऊपर वाला स्वयं तो सजा देने आता नहीं है वह भी किसी न किसी को भेजता है, तो मुझे भी ऊपर वाले का आदेश है. अत: माँ मुझे आशीर्वाद दो.”

यह कहते हुए वासुदेव ने अपनी माँ का हाथ पकड़ा, उसे अपने सर पर रखा और चल दिया. माँ बिलखते हुए हृदय की पीड़ा को थामे उसे आशीर्वाद देती हुई आखें फाड़ कर उसकी ओर निहारती ही रह गई.

8 फरवरी,1899 ई. महादेव रानाडे और वासुदेव ने पंजाबी वेश धारण किया और द्रविड़ बन्धुओं के घर संदेश पहुंचा दिया कि उन्हें पुलिस स्टेशन बुलवाया है. दोनों भाइयों ने सोचा – “जरूर इनाम के बारे में बात करनी होगी और वह घर से निकल पड़े. घर से थोड़ी ही दूर चले थे कि दनादन गोलियों की बौछार से द्रविड़ भाइयों को वहीँ ढेर कर दिया.” देश के गद्दारों का अंत देख दोनों बहुत खुश थे. दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया.

Gaddari Ka Puraskaar Desh Bhakti Hindi Story

वासुदेव चापेकर ने 8 मई तथा रानाडे ने 10 मई, 1899 को फाँसी का फन्दा चूमा. वासुदेव के बड़े भाई बालकृष्ण चापेकर को उसके चार दिन बाद 12 मई को फाँसी पर लटकाया गया.

जिस माँ ने अपने तीन बेटों को फाँसी के फंदे पर झूलते हुए देखा हो, उस माँ के हृदय की पीड़ा का अनुमान लगाना कठिन है. राष्ट्र ऐसी वीर माताओं के आगे नतमस्तक है. राष्ट्र ऐसे वीर बालकों का सदैव ऋणी रहेगा. आज हम जिस आजाद हवा में सांस ले रहे हैं, न जाने कितने वीर सपूतों के बलिदानों का यह परिणाम है. सभी जाने- अनजाने वीर देशभक्तों को सादर नमन!

आपको यह हिंदी कहानी कैसी लगी, अपने विचार कमेंट द्वारा दें. धन्यवाद!

सबसे अच्छा अपना घर हिंदी कहानी Hindi Story Sabse Achha Apna Ghar

सबसे अच्छा अपना घर हिंदी कहानी Hindi Story Sabse Achha Apna Ghar | short bal kahani in hindi, baccho ki kahani suno, dadi maa ki kahaniyan, bal kahaniyan, cinderella ki kahani, hindi panchatantra stories, baccho ki kahaniya aur cartoon, stories, kids story in english, moral stories, kids story books, stories for kids with pictures, short story, short stories for kids, story for kids with  moral, moral stories for childrens in hindi, infobells hindi moral stories, hindi panchatantra stories, moral stories in hindi,  story in hindi for class 1, hindi story books, story in hindi for class 4, story in hindi for class 6, panchtantra ki kahaniya.

सबसे अच्छा अपना घर हिंदी कहानी Hindi Story Sabse Achha Apna Ghar

आज विष्णुलोक में सभी प्रकार के पक्षियों का मेला लगा है. सारे पक्षी सज धज कर पधारे हैं. अवसर ही ऐसा है. तभी भगवान् विष्णु वहां आये और सभी पक्षियों की ओर ध्यान से देखने लगे. उनकी नजर गरुड़ के सफ़ेद मुख, लाल पंख और सुनहले शरीर पर पड़ी. उन्होंने उस पक्षी गरुड को अपना रथ बना लिया.

Hindi Story Sabse Achha Apna Ghar

अब गरुड़ सुबह उठते, तालाब के सुगंधित जल में स्नान करते. सुन्दर वस्त्र और गहने धारण करते, और तैयार होकर श्री हरि विष्णु की सेवा में उपस्थित हो जाते. उनको अपने पीठ पर बिठाकर पूरी सृष्टि का चक्कर लगाते. ऐसा करते हुए पक्षिराज गरुड़ का समय काटने लगा. कुछ महीनों बाद गरुड़ राज को अपना पुराना घर जाने की इच्छा हुई. उन्होंने श्री हरि विष्णु से छुट्टी माँगी. श्री हरि विष्णु ने कहा – अभी विष्णु लोक में बहुत काम है, कभी और अपने घर चले जाना.

Hindi Story Sabse Achha Apna Ghar

कुछ महीनों के बाद गरुड़ ने पुनः छुट्टी माँगी. श्री हरि विष्णु ने कहा – “मैं जानता हूँ गरुड़, तुम्हें कभी खुले आकाश में, तो कभी पेड़ों कि फुनगी पर उड़ना अच्छा लगता है. इस लोक में भी पेड हैं, वन हैं, नदी हैं, उसके किनारे बड़े-बड़े पेड़ हैं. तुम वहां जाओ, खूब विचरण करो, तुम्हारा मन लग जाएगा. अभी तुम्हें अपने घर जाने की क्या जरुरत है.”

गरुड़ बोले – “प्रभु! मुझे अपने घर कि बहुत याद आ रही है. मुझे चाहे आप दो दिन कि छुट्टी दे दीजिये, लेकिन मुझे अपने घर जाने दीजिये. मेरी आपसे विनती है.”

श्री हरि विष्णु ने कहा – “तुमने छुट्टी छुट्टी की रट लगा रखी है. यहाँ तुम्हें किस चीज की कमी है. जरा बताओ तो मुझे? सोने के लिये नर्म नर्म बिस्तर, खाने के लिये मेवे-मिष्टान, दूध दही, फल, मेवे जो चाहो खाओ. नहाने के लिये स्वच्छ जल वाला तालाब. तुम्हारे घर में वहां क्या ऐसा है जो तुम्हें यहाँ नहीं मिल रहा है और जिसके लिये तुम वहां अपने घर जाने की रट लगा रखे हो.”

Hindi Story Sabse Achha Apna Ghar

गरुड ने कहा – “ नहीं प्रभु! ऐसा कुछ भी नहीं है. आपके लोक में किसी चीज की कोई कमी नहीं है. आप तो तीनों लोकों के स्वामी हैं. यहाँ आने के लिये तो ऋषि मुनि वर्षों तक तपस्या करते हैं. लेकिन क्या करें प्रभु अपने घर की बहुत याद आ रही है. मुझे कुछ दिनों के लिये छुट्टी दे दीजिये. आपकी बड़ी कृपा होगी.”

यह सब सुनकर श्री हरि विष्णु ने गरुड़ को छुट्टी दे दी. छुट्टी मिलते ही गरुड़ ने अपने घर की ओर उड़ चले.

गरुड़ के जाते ही श्री हरि विष्णु ने अपने एक सेवक को बुलाया और उससे कहा – “तुम गरुड़ के पीछे पीछे जाओ और वहां देखो कि उसका घर कैसा है? वह कैसा रहता है? क्या खाता है? सब कुछ पता करो.”

Hindi Story Sabse Achha Apna Ghar

वह सेवक गरुड़ के पीछे पीछे गया. उसने देख कि गरुड़ एक पुराने वृक्ष की कोटर में बैठे हैं. वहां से आती जाती चिड़िया को देख खुश हो जाते हैं. उनके आवाज कि नक़ल करते हैं. कभी कौआ कि तरह कॉव कॉव करते हैं तो कभी तोता की तरह बोलते तो कभी मैना की तरह बोलते. सड़ी गली पत्तियों को हटाते, उसमें कीडे मकोडे को खाते. कभी नील गगन में उंची उड़ान लगाते तो कभी पानी की खोज में खूब उड़ते. कभी चिड़ियों के झुण्ड में उड़ते तो कभी नदी किनारे कीचड में लोटते. सेवक कई ड़ों तो यह सब देखता रहा और पुनः वापस विष्णु लोक जाकर श्री हरि को यह सब बताया.

अपनी छुट्टियां बिताकर जब गरुड़ विष्णु लोक पहुंचे तो श्री हरि ने पूछा – “सुनाओ गरुड़! कैसी रही तुम्हारी छुट्टी?

“प्रभु बहुत अच्छा रहा. खूब मजा आया”– गरुड़ खुश होकर बोले.

श्री हरि विष्णु बोले – पक्षिराज! यहाँ सब कुछ है, सारी सुविधाएं है. लेकिन इनके बावजूद तुम पेड़ की कोटर में रहने गए. कीडेमकोडे का भोजन करने गए. इसी के लिये तुमने रोते हुए छुट्टी माँगी थी.”

Hindi Story Sabse Achha Apna Ghar

“प्रभु! आप तो जगत है स्वामी हैं. आपको तो ज्ञात हि है कि अपना घर सबसे अच्छा होता है. चाहे वह पेड़ का कोटर ही क्यों न हो. यह आपका लोक है. आपके यहाँ मैं आपका सेवक हूँ. कुछ नियम और कायदे क़ानून से बंधा हूँ. चाहकर भी सदा अपने मन की नहीं कर सकता. यहाँ मुझे वैसी आजादी कहाँ? आजादी तो केवल अपने घर, अपने वतन में होती है. इसलिए सबसे अच्छा होता है अपना घर.”

गरुड़ के मुख से यह सब सुनकर श्री हरि विष्णु बहुत प्रभावित हुए. उन्होंने कहा – “मैं तो तुम्हारे मुंह से यह सब सुनना चाह रहा था. यह बिलकुल सत्य है कि अपना घर सबसे अच्छा और प्रिय होता है.”

 

आपको यह हिंदी कहानी कैसी लगी, अपने विचार कमेंट द्वारा दें. धन्यवाद!

सोना बरसाने वाला संत हिंदी कहानी Saint aur Gold Rain Hindi Story

सोना बरसाने वाला संत हिंदी कहानी Saint aur Gold Rain Hindi Story | short bal kahani in hindi, baccho ki kahani suno, dadi maa ki kahaniyan, bal kahaniyan, cinderella ki kahani, hindi panchatantra stories, baccho ki kahaniya aur cartoon, stories, kids story in english, moral stories, kids story books, stories for kids with pictures, short story, short stories for kids, story for kids with  moral, moral stories for childrens in hindi, infobells hindi moral stories, hindi panchatantra stories, moral stories in hindi,  story in hindi for class 1, hindi story books, story in hindi for class 4, story in hindi for class 6, panchtantra ki kahaniya.

 

एक बहुत सिद्ध संत थे. उन्हें आकाश से सोना बरसाने की विद्या आती थी. परन्तु वह विद्या एक खास नक्षत्र में ही अपना काम कर सकती थी. यह नक्षत्र समाप्त हो जाने पर विद्या बेअसर हो जाती थी. विद्या में एक खास बात यह थी कि उसका प्रयोग वे संत अपने लाभ के लिये नहीं कर सकते थे.

Hindi Story Saint aur Gold Rain

चूँकि संत भ्रमण बहुत करते हैं, इसलिए उनको कभी नगर तो कभी निर्जन स्थान से गुजरना पड़ता है. एक दिन वे अपनी यात्रा के दौरान उनके मार्ग में एक भयंकर जंगल पड़ा. जंगल में एक पेड़ के नीचे कुछ डाकू बैठे थे जिन्हें कई दिनों से कुछ मिला नहीं था. डाकुओं ने संत को घेर लिया, और बोले- ‘तुम्हारे पास जो कुछ हो उसे रख दो नहीं तो तलवार से काटकर दो टुकड़े कर देंगे,’ संत बोले – मैं तो स्वयं भिक्षा मांगने जा रहा हूँ मेरे पास कुछ नहीं है जो आप लोगों को दूं.’ डाकू बोले – ‘तो मरने के लिए तैयार हो जा.’

संत बहुत घबरा गए. तभी उसे अपनी स्वर्ण विद्या का ख्याल आया. यह भी ध्यान आया कि वह नक्षत्र अब लगने ही वाला है. वे डाकुओं से बोले –‘आप लोग आधे घंटे इंतजार कीजीये. मुझे स्वर्ण – विद्या आती है. पर वह विद्या एक खास नक्षत्र में ही काम कर सकती है. उस नक्षत्र के लगने में अभी आधे घंटे बाकी है. आप लोग मेरे साथ यहाँ से थोड़ी दूर पर बहने वाली नदी के किनारे चलें. वहीं मैदान में आकाश से सोने की बारिश होगी.’

डाकू संत की बात मान गये. उसे बांधकर नदी के किनारे लाये. संत ने कहा –‘ अब नक्षत्र लगने वाला है. मैं नदी में छाती भर पानी में खड़ा होकर मन्त्र जाप करूंगा. इससे आकाश से एक क्षण के लिए सोना बरसेगा. आप लोग उसे ले लीजिएगा.’ संत नदी के अंदर जाकर छाती भर पानी में मन्त्र जपने लगा. इतने में आकाश से सोने की बूंदें गिरने लगी. ठीक एक क्षण तक यह स्वर्ण-वर्षा हुई. डाकुओं ने अपनी- अपनी झोलियां भर लीं. वे खुशी से आगे बढ़े.

Hindi Story Saint aur Gold Rain

कुछ ही दूर जाने पर उन्हें डाकुओं का एक अन्य गिरोह मिल गया. उस गिरोह में बहुत सारे डाकू थे. गिरोह ने उन्हें घेर लिया और जो भी पास में हो, रख देने को कहा. पहले वाले गिरोह के डाकुओं ने कहा, – ‘हमें छोड़ दो. हमारे पीछे-पीछे जो संत आ रहा है, वह आकाश से स्वर्ण की वर्षा कर सकता है. इससे आप लोगों को इतना सारा सोना मिल जायेगा कि सारी जिन्दगी आपको मेहनत नहीं करनी पड़ेगी. पर डाकुओं के दूसरे गिरोह ने उन्हें बंदी बना लिया और उस संत के पास आये. उस संत ने साफ मना कर दिया. उसने कहा – ‘जिस नक्षत्र में वह विद्या काम कर सकती है, वह अब समाप्त हो गया है वह नक्षत्र अब साल भर के बाद लगेगा.’

दूसरा गिरोह इस पर बहुत नाराज हुआ. उसने संत को वहीं तलवार से मार डाला और कहा कि यह झूठ बोलता है. हमें सोना देना नहीं चाहता.’ इसके बाद उन्होंने डाकुओं के पहले वाले गिरोह को मारना शुरू किया. थोड़ी ही देर में पहले गिरोह के सभी डाकू मार डाले गये. दूसरे गिरोह ने सारा सोना अपने कब्जे में कर लिया.

अब डाकुओं के बीच लूट का बंटवारा शुरू हुआ. थोड़ी ही देर में उनके बीच बंटवारे के बारे में झगड़ा होने लगा और मार-काट मच गई, अंत में दो को छोडकर शेष डाकू कट मरे.

शेष बचे दोनों डाकू बहुत थक गये थे. वे भूखे भी थे. उन्होंने आपस में सलाह किया कि एक डाकू सोने की रखवाली करता रहे, दूसरा पास के गाँव से जाकर कुछ खाना लाये.

Hindi Story Saint aur Gold Rain

जो डाकू खाना लेने गया था उसने वहीं भर पेट खाना खा लिया और अपने साथी के लिये लाये जाने वाले खाने में जहर मिला दिया, ताकि जहरीला खाना खाकर वह मर जाये और वह सारा सोना ले ले.

उधर उसका साथी इस फिराक में था कि जब वह खाना लेकर आये तो वह उसके उपर अचानक से टूट पड़े और तलवार से मारकर उसे खत्म कर दें और सारा सोना ले ले.

जब डाकू खाना लेकर आया और वह निश्चिंततापूर्वक खाना रखा रहा था तो पहले से ही मन बनाये उसका साथी उसके ऊपर टूट पड़े और मार डाला.

अपने साथी को मारकर डाकू ने सोचा कि अब आराम से भोजन कर थोडा सुस्ता ले, तब सोना लेकर चले.

भोजन कर वह लेट गया और थोड़ी देर में सदा के लिए आँख मूँद ली. सारा सोना धरा का धरा रह गया.

लालच या लोभ करनेवाले का यही हश्र होता है.

आपको यह हिंदी कहानी कैसी लगी, अपने विचार कमेंट द्वारा दें. धन्यवाद!

तोता और चने का दाना हिंदी कहानी Parrot Aur Chane Ka Dana Hindi Story

तोता और चने का दाना हिंदी कहानी Parrot Aur Chane Ka Dana Hindi Story | short bal kahani in hindi, baccho ki kahani suno, dadi maa ki kahaniyan, bal kahaniyan, cinderella ki kahani, hindi panchatantra stories, baccho ki kahaniya aur cartoon, stories, kids story in english, moral stories, kids story books, stories for kids with pictures, short story, short stories for kids, story for kids with  moral, moral stories for childrens in hindi, infobells hindi moral stories, hindi panchatantra stories, moral stories in hindi,  story in hindi for class 1, hindi story books, story in hindi for class 4, story in hindi for class 6, panchtantra ki kahaniya.

 

तोता और चने का दाना हिंदी कहानी Parrot Aur Chane Ka Dana Hindi Story

एक तोता था. उसे भूख लगी हुई थी. उसे कहीं से चने का एक दाना मिल गया. दाने को अपनी चोंच में पकड़ उसे खाने के लिये वह एक खूंटे के ऊपर जा बैठा. खूंटे में एक दरार थी. उसने जैसे ही खूंटे पर चना का दाना रखकर उसे फोड़ने के लिये उसपर चोंच मारी, दाल उस दरार में चली गयी. तोता बहुत परेशान हो गया. सोचा, अब क्या करें? उसने खूंटे से विनती इस प्रकार से की:

parrot aur chane ka dana hindi story

खूंटा- खूंटा दालि दे,
खुंटवा में दालि बा,
का खाई, का पीई,
का लेई बसेरे जाई.

खूंटे ने जब यह सुना तो तोते को डांटकर भगा दिया. तोता बढई के पास गया. वह बढई से जाकर बोला-

बढई-बढई, खूंटा चीर,
खुंटवा में दालि बा,
का खाई, का पीई,
का लेई बसेरे जाई.

parrot aur chane ka dana hindi story

बढई ने उसे भगा दिया. उसने तोता से कहा – ‘मेरे पास फुर्सत नहीं है.’ बढई से नाराज होकर तोता राजा के पास गया. वह राजा से जाकर बोला-

राजा राजा, बढई डांट,
बढई न खूंटा चीरइ,
खुंटवा में दालि बा,
का खाई, का पीई,
का लेई, बसेरे जाई.

राजा ने तोते को वहां से भगा दिया क्योंकि वह उस समय अपनी रानी से बतिया रहा था. अब तोता रानी से बोला –

रानी रानी, राजा छोड़,
राजा न बढई डांटइ,
बढई न खूंटा चीरइ,
खुंटवा में दालि बा,
का खाई, का पीई,
का लेई, बसेरे जाई.

रानी ने भी तोते को भगा दिया. अब तोता सांप के पास गया. जाकर सांप से बोला-

सांप सांप, रानी डस,
रानी न राजा छोड़इ,
राजा न बढई डांटइ,
बढई न खूंटा चीरइ,
खुंटवा में दालि बा,
का खाई, का पीई,
का लेई, बसेरे जाई.

parrot aur chane ka dana hindi story

सांप ने भी तोते को दुत्कार कर भगा दिया. अब तोता लाठी के पास जाकर उससे बोला-

लाठी लाठी, सर्प ठंठाव,
सर्प न रानी डसइ,
रानी न राजा छोड़इ,
राजा न बढई डांटइ,
बढई न खूंटा चीरइ,
खुंटवा में दालि बा,
का खाई, का पीई,
का लेई, बसेरे जाई.

लाठी ने भी तोते की बात नहीं मानी. अब तोता भाड़ के पास गया. उसको बोला-

भाड़ भाड़, लाठी जार,
लाठी न सर्प ठंठावइ,
सर्प न रानी डसइ,
रानी न राजा छोड़इ,
राजा न बढई डांटइ,
बढई न खूंटा चीरइ,
खुंटवा में दालि बा,
का खाई, का पीई,
का लेई, बसेरे जाई.

भाड़ ने भी तोते को भगा दिया. नाराज होकर अब वह समुद्र के पास पहुंचा. वह समुद्र से बोला-

समुद्र समुद्र, भाड़ बुताव,
भाड़ न लाठी जारइ,
लाठी न सर्प ठंठावइ,
सर्प न रानी डसइ,
रानी न राजा छोड़इ,
राजा न बढई डांटइ,
बढई न खूंटा चीरइ,
खुंटवा में दालि बा,
का खाई, का पीई,
का लेई, बसेरे जाई.

parrot aur chane ka dana hindi story

औरों की भांति ही समुद्र ने भी तोते को डांट कर भगा दिया. अब वह झल्लाहट में आकर हाथी के पास गया और उसको बोला –

हाथी हाथी, समुद्र सोख,
समुद्र न भाड़ बुतावइ,
भाड़ न लाठी जारइ,
लाठी न सर्प ठंठावइ,
सर्प न रानी डसइ,
रानी न राजा छोड़इ,
राजा न बढई डांटइ,
बढई न खूंटा चीरइ,
खुंटवा में दालि बा,
का खाई, का पीई,
का लेई, बसेरे जाई.

हाथी ने भी तोते की बात को नजरअंदाज करते हुए उसको वहां से चले जाने को कहा. अब वह आकाशबेलि के पास गया. बोला –

बंवरि बंवरि, हाथी बाँध,
हाथी न समुद्र सोखइ,
समुद्र न भाड़ बुतावइ,
भाड़ न लाठी जारइ,
लाठी न सर्प ठंठावइ,
सर्प न रानी डसइ,
रानी न राजा छोड़इ,
राजा न बढई डांटइ,
बढई न खूंटा चीरइ,
खुंटवा में दालि बा,
का खाई, का पीई,
का लेई, बसेरे जाई.

आकाशबेलि ने भी तोते को भगा दिया. अब तोता चूहे के पास गया. वह चूहे से बोला –

मूस मूस बंवरि काट,
बंवरि न हाथी बाँधइ,
हाथी न समुद्र सोखइ,
समुद्र न भाड़ बुतावइ,
भाड़ न लाठी जारइ,
लाठी न सर्प ठंठावइ,
सर्प न रानी डसइ,
रानी न राजा छोड़इ,
राजा न बढई डांटइ,
बढई न खूंटा चीरइ,
खुंटवा में दालि बा,
का खाई, का पीई,
का लेई, बसेरे जाई.

parrot aur chane ka dana hindi story

चूहे ने तोते की पूरी बात ध्यान से सुना. उसे तोते के ऊपर दया आ गयी. वह बोला- ‘चलो, मैं अभी चलता हूँ. अभी बंवरि को काट- कूटकर बराबर कर देता हूँ.’ और वह आकाशबेलि की ओर उसे काटने को दौड़ा. इस पर आकाशबेलि सहमते हुए बोली-

‘हमके काटइ ओटइ मत कोइ,
हम त… हाथी बाँधब लोइ.’

अब वह हाथी को बाँधने के लिये दौड़ पडी. अपनी ओर आकाशबेलि को आते देखकर हाथी बोला-

‘हमके बाँधइ ओंधइ मत कोइ,
हम त… समुद्र सोखब लोइ.’

और वह समुद्र को पीने के लिये दौड़ पड़ा. अपनी ओर हाथी को आता देखकर समुद्र डर गया. वह समझ गया कि हाथी गुस्से में आकर उसे पी जाएगा. इसलिए वह डरकर बोला-

‘हमके पीअइ उअइ मत कोइ,
हम त… भाड़ बुताउब लोइ.’

समुद्र भाड़ को बुझाने के लिये उसकी तरफ दौड़ा. अपनी तरफ समुद्र को आता देख भाड़ बोला-

‘हंमई बुतावइ उतावइ मत कोइ,
हम त… लाठी जारब लोइ.’

भाड़ लाठी को जलाने के लिये उसकी ओर दौड़ा. अपनी तरफ भाड़ को आते देखकर लाठी बोली-

‘हमके जरावइ ओरावइ मत कोइ,
हम त… सर्प ठंठाउब लोइ.’

लाठी सर्प को पीट –पीट कर मारने के लिये दौड़ी. अपनी ओर लाठी को आते देखकर सांप बोला-

‘हमके ठंठावइ ओठावइ मत कोइ,
हम त… रानी डसब लोइ.’

सांप रानी को डसने के लिये चल पड़ा. अपनी ओर सांप को आते देखकर रानी बोली –

‘हमके डसइ ओंसइ मत कोइ,
हम त… राजा छोड़ब लोइ.’

रानी राजा को छोड़ने को तैयार हो गयी. यह देखकर राजा बोला –

‘हमके छोड़इ ओड़इ मत कोइ,
हम त… बढई डांटब लोइ.’

राजा उस बढई की खबर लेने निकल पड़ा. बढई ने सोचा कि अब तो राजा के हाथों मार पड़ना निश्चित है. वह तुरंत बोला –

‘हमके डांटइ ओंटइ मत कोइ,
हम त… खूंटा चीरन लोइ.’

और बढई आरी लेकर खूंटा चीरने चल पड़ा. बढई को अपनी ओर आता देख खूंटा बोला-

‘हमके चीरइ उरइ मत कोइ,
हम त… दालि देबइ लोइ.’

और फ़ौरन खूंटे ने चने की दाल निकाल कर बाहर फेंक दिया और उस दाने को लेकर तोता फुर्र से उड़ गया.

 

आपको यह हिंदी कहानी कैसी लगी, अपने विचार कमेंट द्वारा दें. धन्यवाद!

महात्मा गांधी से जुड़ा प्रेरक प्रसंग Mahatma Gandhi Devotion Motivational Story

महात्मा गांधी से जुड़ा प्रेरक प्रसंग Mahatma Gandhi Devotion Motivational Story | short bal kahani in hindi, baccho ki kahani suno, dadi maa ki kahaniyan, bal kahaniyan, cinderella ki kahani, hindi panchatantra stories, baccho ki kahaniya aur cartoon, stories, kids story in english, moral stories, kids story books, stories for kids with pictures, short story, short stories for kids, story for kids with  moral, moral stories for childrens in hindi, infobells hindi moral stories, hindi panchatantra stories, moral stories in hindi,  story in hindi for class 1, hindi story books, story in hindi for class 4, story in hindi for class 6, panchtantra ki kahaniya.

महात्मा गांधी से जुड़ा प्रेरक प्रसंग Mahatma Gandhi Devotion Motivational Story

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर ने बापू के विषय में लिखा:Mahatma Gandhi Devotion Motivational Story

तू चला, लोग कुछ चौंक पड़े,
‘तूफ़ान उठा या आंधी है?’
ईसा की बोली रूह, ‘अरे!
यह तो बेचारा गांधी है!’

और आगे ..

बापू ने राह बना डाली,
चलना चाहे, संसार चले,
डगमग होते हों पाँव अगर
तो पकड़ प्रेम का तार चले!

Mahatma Gandhi Devotion Motivational Story

यह घटना उस समय की है, जब महात्मा गांधी यरवदा जेल में थे. उन दिनों यरवदा जेल में ही उनका ऑपरेशन हुआ था. ऑपरेशन होने के बाद वे शरीर से बेहद कमजोर हो गए थे. यहाँ तक कि उनको चलने फिरने में भी कठिनाई हो रही थी. वे पैरों में चप्पल की बजाय खडाऊं पहनते थे. वे जेल भी खडाऊं पहनकर ही गए थे. कई महीने उपयोग करने के कारण उनका खडाऊं टूट गया था. जेल प्रशासन की ओर से उन्हें एक नया खडाऊं दिया गया था, लेकिन वह खडाऊं बहुत वजनी था यानि भारी था. एक तो ऑपरेशन की वजह से कमजोर पड़ा शरीर और ऊपर से वजनी खडाऊं. इसे पहनकर चलने में गांधीजी को बहुत तकलीफ होती थी. कुछ दिनों बाद वे अपने आश्रम आ गए.

Mahatma Gandhi Devotion Motivational Story

एक रात की बात है. गांधीजी वही भारी वाला खडाऊं पहन कर चल रहे थे. इसको पहनकर चलने में उनको कुछ ज्यादा कष्ट हो रहा था. आश्रम में रह रहे सहयोगियों को उनकी यह तकलीफ नहीं देखी गयी. उसने चुपके से जेल से मिली उस भारी खडाऊं को वहां से हटाकर उसकी जगह एक हल्की खडाऊं की जोड़ी रख दी.

सुबह होने पर गांधीजी जब खडाऊं पहनने के लिये खड़े हुए तो उन्होंने अपने खडाऊं को इधर उधर ढूंढा. जब वह कहीं नहीं मिले तब उनकी नजर उस नए खडाऊं के जोड़ी पर पडी तो उसे नहीं पहनी और बोले – “अरे, मेरी खडाऊं तो रात तक यहीं पर थीं. पता नहीं कौन अपनी नयी खडाऊं यहाँ छोड़ कर चला गया है.” तभी एक आश्रमवासी उनके पास आया और बोला – “बापू! यह नयी खडाऊं की जोड़ी मैं आपके लिये ही लाया हूँ. आपको वह भारी खडाऊं पहनने में तकलीफ होती थी. मुझसे यह देखा नहीं गया, इसलिए मैंने ही उसे हटाकर इस नयी जोड़ी को वहां रख दिया था.”

इस पर गांधीजी बोले –“आश्रम के चारों तरफ रुपयों की बरसात हो रही है. इसलिए तो तुम्हें नयी जोड़ी खडाऊं लाने की सूझी. क्या तुम्हें यह पता है कि जो लोग रूपये भेजते हैं उनको यह विश्वास है कि उनके पाई पाई का यहाँ सदुपयोग हो रहा है? लेकिन यहाँ तो उनके साथ विश्वासघात हो रहा है.”

Mahatma Gandhi Devotion Motivational Story

यह सुनकर वह आश्रमवासी लज्जित हो गया. उसे अपनी गलती का एहसास हो गया. उसने कसम खाई कि आगे से वह बापू के आदेश का पालन करते हुए आश्रम के पाई पाई का सदुपयोग करेगा.

आज लोग सार्वजनिक जीवन में यदि इस सिद्दांत का पालन करें तो पता नहीं कितने जरूरतमंद लोगों का कल्याण हो जाए. आपको यह प्रेरक प्रसंग पढने के लिये धन्यवाद!

रम्पलस्टिल्टस्किन हिंदी कहानी Hindi Story Dwarf Rampalstiltskin

रम्पलस्टिल्टस्किन हिंदी कहानी Hindi Story Dwarf Rampalstiltskin | short bal kahani in hindi, baccho ki kahani suno, dadi maa ki kahaniyan, bal kahaniyan, cinderella ki kahani, hindi panchatantra stories, baccho ki kahaniya aur cartoon, stories, kids story in english, moral stories, kids story books, stories for kids with pictures, short story, short stories for kids, story for kids with  moral, रम्पलस्टिल्टस्किन हिंदी कहानी Hindi Story Dwarf Rampalstiltskin , moral stories for childrens in hindi, infobells hindi moral stories, hindi panchatantra stories, moral stories in hindi,  story in hindi for class 1, hindi story books, story in hindi for class 4, story in hindi for class 6, panchtantra ki kahaniya.

रम्पलस्टिल्टस्किन हिंदी कहानी Hindi Story Dwarf Rampalstiltskin 

एक समय में एक कारखाने के मालिक की एक सुंदर लडकी थी. एक दिन राजा के सामने उसने अपना महत्व जताने के लिए कह दिया कि उसकी एक बेटी है, जो घास से बुनकर सोना बना सकती है. राजा को सोने से बेहद प्यार था. उसने सोचा, ”यह कला तो मुझे बेहद पसंद आयेगी.” और उसने कारखाने के मालिक से कहा, “यदि तुम्हारी लडकी इतनी चतुर है तो उसे एक दिन महल में लेकर आओ. मैं उसका काम देखूँगा.”

sleepy

जैसे ही वह महल में आयी, राजा उसे एक कमरे में ले गया, जिसमें घास भरी थी. राजा ने उसे एक चरखा और चरखी दी और बोला, ”अब काम शुरू करो. यदि कल सुबह तक तुमने सारी घास को काटकर सोना न बना दिया तो तुम अपनी जान से हाथ धो बैठोगी.” यह कहकर उसने कमरे का दरवाजा बंद कर दिया और लडकी को अकेला छोड़ दिया.

वहाँ वह बहुत देर तक बैठी रही और अपनी जान बचाने के बारे में सोचते रही, क्योंकि वह तो घास से सोना कातने की कला बिलकुल भी नहीं जानती थी. उसकी चिंता बढती गयी और आखिरकार वह रोने लगी. तभी दरवाजा खुला और एक बौना भीतर आकर बोला, ”नमस्कार, सुंदर लडकी, तुम इतनी बुरी तरह क्यों रो रही हो?” वह बोली, ”ओह, मुझे इस घास को कातकर सोना बनाना ही होगा, जो कि मुझे आता ही नहीं है.”
बौने ने पूछा, “यदि मैं तुम्हारे लिए यह कात दूं तो तुम मुझे क्या दोगी?”

लडकी बोली, “मेरा हार”

बौने ने हार ले लिया और चरखे के सामने बैठ गया – सर्र,सर्र,सर्र. तीन बार पहिया घूमा और चरखी भर गयी. फिर उसने दूसरी तरफ लगाया – सर्र,सर्र,सर्र,तीन बार फिर और दूसरी चरखी भर गईं. वह इसी तरह पूरी रात काम करता रहा. जब तक कि पूरी घास खत्म नहीं हो गयी और सारी चरखियां सोने से भर गईं. अगले दिन सुबह-सुबह राजा आया और सोने को देखकर चकित रह गया. वह बेहद खुश था, लेकिन संतुष्ट नहीं, वह लडकी को एक दूसरे और बड़े घास से भरे कमरे में ले गया और उसे जान की धमकी देते हुए घास को कातकर सोना बनाने के लिए कहा.

लडकी परेशान थी और रो रही थी कि तभी पहले की तरह अचानक दरवाजा खुला और बौना भीतर आया. बौने ने पूछा कि लडकी उसे सहायता के बदले क्या देगी. वह बोली, “मेरी अंगूठी,” बौने ने अंगूठी ली और काम शुरू कर दिया. सुबह तक सारी घास सोने में बदल गयी थी. राजा बेहद खुश था, लेकिन अभी भी संतुष्ट नहीं. वह लडकी को तीसरे और बड़े कमरे में ले गया, उसमें भी और कमरों की तरह घास भरी थी. वह बोला, “यह सब तुम रात भर में कात लोगी तो मैं तुमसे विवाह कर लूँगा.” उसने सोचा, “क्योंकि इतनी अमीर पत्नी दुनिया में किसी और को नहीं मिलेगी.”

जब लड़की अकेली रह गयी तो बौना फिर आ गया और उसने तीसरी बार लड़की से पूछा, ”यदि मैं यह कात दूं तो तुम मुझे क्या दोगी?”
लड़की बोली, “मेरे पास तो कुछ नहीं है, तुम्हें देने के लिए.” वह बोला, ‘तब मुझे अपना पहला बच्चा देने का वादा करो.”

लड़की ने सोचा, “कौन जनता है कि कब क्या होगा?” उसे इस मुसीबत से बचने का कोई रास्ता न मालूम था. उसने हाँ कर दी. वह तुरंत बैठ गया और काम खत्म कर दिया. जब सुबह हुई और राजा ने देखा कि उसकी इच्छा पूरी हो गयी है तो उसने लड़की से विवाह कर लिया और कारखाने के मालिक की सुंदर लड़की रानी बन गयी.

एक साल बाद जब वह बौने को बिलकुल भूल चुकी थी, उसका एक बेटा पैदा हुआ. तभी अचानक बौना आया और उसने अपनी इच्छा दुहराई. भयभीत रानी ने उसे अपने राज्य की अमूल्य सम्पति लेकर अपने बेटे को छोड़ने के लिए कहा, लेकिन बौना बोला- “नहीं, दुनिया की सारी सम्पत्ति से अधिक मुझे बच्चा प्यारा है.”

रानी इतना रोयी और चिल्लायी कि बौने को उस पर दया आ गयी और वह बोला, “मैं तुम्हें तीन दिन का समय देता हूँ. इस बीच यदि तुम मेरा नाम पता लगा लोगी तो मैं तुम्हारे बच्चे को छोड़ दूँगा.”

पूरी रात रानी सोचती रही. फिर उसने एक आदमी को पूरे देश में अनोखे और नये नाम खोजने के लिए भी भेजा. अगली सुबह बौना आया और रानी ने ‘कैस्पर,’ ‘मुलशुआर, ’बाल्थासार’और दूसरे अजीब नामों से शुरूआत की, लेकिन हर बार बौना बोलता, “यह मेरा नाम नहीं हैं.”

दूसरे दिन रानी ने अपने आदमियों से नाम पूछे और बौने को ‘गाय की पसली’,’भेड़ का कंधा’और ‘ह्वेल की हड्डी’ कहकर बुलाया. लेकिन हर बार वह बोला, “यह मेरा नाम नहीं है.” तीसरे दिन रानी का एक आदमी वापस आया और बोला, “मुझे एक भी नाम नहीं मिला. लेकिन जब मैं जंगल के पास एक ऊँचे पहाड़ पर आया, जहाँ लोमड़ियाँ और खरगोश एक दूसरे को शुभरात्रि कह रहे थे, तो मैंने वहां एक छोटा-सा घर देखा. उस घर के दरवाजे के सामने आग जल रही थी. आग के आसपास अनोखा-सा बौना एक पैर पर नाच रहा था और जोर-जोर से गा रहा था.-

“आज तो मैंने उबला है, लेकिन कल उसे भूनूंगा,
कल मैं रानी का बच्चा लूँगा;
आह! कितना प्रसिद्ध है, पर सब हैं अनजान,
कि मेरा नाम है – “रम्पलस्टिल्टस्किन.”

जब रानी ने यह सुना तो वह बहुत खुश हुई क्योंकि अब उसे नाम पता चल गया था. जल्दी ही बौना आया और बोला, “अब बोलो रानी, मेरा नाम क्या है?”

पहले वह बोली, “क्या तुम्हारा नाम है कामर्स?” “नहीं.”

“क्या तुम हल हो?”

“नहीं.”

“क्या तुम्हारा नाम है रम्पलस्टिल्टस्किन?”

“जरूर जादूगरनी ने तुम्हें बताया है – जादूगरनी ने बताया है.” बौना चीखा और उसने अपना दायाँ पैर गुस्से में इतनी जोर से जमीन पर पटका कि वह उसे दोबारा उठा ही नहीं पाया. फिर उसने दोनों हाथों से अपना बायां पैर पकड़ा और दायाँ पैर इतनी जोर से खींचा कि वह बाहर आ गया और जोर से चीखते हुए दूर भाग गया. उस दिन के बाद से आज तक रानी ने अपने उस दुष्ट मेहमान को फिर कभी नहीं देखा.

इस कहानी से यह सीख मिलती है कि धैर्य और बुद्धिमत्ता से कठिन से कठिन समस्या का समाधान हो जाता है. आपको इस कहानी को पढने के लिये और इस ब्लॉग पर पधारने के लिये बहुत – बहुत धन्यवाद!

 

आपको यह हिंदी कहानी कैसी लगी, अपने विचार कमेंट द्वारा दें. धन्यवाद!

कमाने की कला हिंदी कहानी Art of Earning Hindi Story

कमाने की कला हिंदी कहानी Art of Earning Hindi Story | short bal kahani in hindi, baccho ki kahani suno, dadi maa ki kahaniyan, bal kahaniyan, cinderella ki kahani, hindi panchatantra stories, baccho ki kahaniya aur cartoon, stories, kids story in english, moral stories, kids story books, stories for kids with pictures, short story, short stories for kids, story for kids with  moral, कमाने की कला हिंदी कहानी Art of Earning Hindi Story,  moral stories for childrens in hindi, infobells hindi moral stories, hindi panchatantra stories, moral stories in hindi,  story in hindi for class 1, hindi story books, story in hindi for class 4, story in hindi for class 6, panchtantra ki kahaniya.

कमाने की कला हिंदी कहानी Art of Earning Hindi Story 

Art of Earning Hindi Story  में यह बताया गया है कि बुद्धिमान व्यक्ति हर स्थिति में शांत रहकर कोई न कोई उपाय जरुर निकाल लेता है. किसी  राजा के राज्य में एक मुंशी जी थे. वे राजा के करिन्दा थे. मुंशी जी बहुत ही चतुर व्यक्ति थे.कमाने का कोई अवसर हाथ से जाने नहीं देते. अगर गुंजाइश न हो तो भी कोई न कोई राह निकाल ही लेते. जबान के मीठे और कलम के तेज उनके बारे में यह प्रसिद्ध था कि वे इस तरह पैसा बनाते हैं कि न तो कभी जनता को किसी प्रकार की कोई शिकायत होती, न ही राजकोष को कोई हानि. मुंशी जी दाल में नमक के बराबर खाते थे. जनता भी खुश, राजा भी खुश और मुंशी जी भी खुश.

art of earning

धीरे-धीरे मुंशी जी की ख्याति राजा के कानों में पड़ी. राजा को बड़ा आश्चर्य हुआ. एक दिन उन्होंने मुंशी जी बुलवा भेजा. मुंशी जी कान पर कलम रखे, अपना चौपडा बगल में दबाये, फौरन हाजिर हुए. राजा को सलाम किया और डर के मारे कांपते हुए से एक तरफ खड़े हो गये.
राजा ने पूछा –‘मुंशी जी आपकी बड़ी तारीफें सुनी हैं. कभी आपकी कोई शिकायत नहीं मिली.’

सब आपकी कृपा है, गरीब परवर, मुंशी जी बोले.

Art of Earning Hindi Story

मुंशी जी, आपको भी कुछ मिल जाता है? राजा ने कहा. मुंशी जी बोले ‘सारी रियाया ही आपका दिया खाती है अन्नदाता. राजा समझ गये कि मुंशीजी काफी चतुर, पैसा कमाने में घाघ तथा औरों की तुलना में ज्यादा विश्वस्त हैं. मुंशी जो भी समझ गये कि दाई के आगे पेट छिपाना बेवकूफी है. राजा ने कुछ जानकर ही उन्हें बुलवाया है और यह सवाल पूछ रहा है. अत: जबाब इस प्रकार दिया जाये कि झूठ बोलकर राजा की निगाह में गिरने की नौबत भी न आये और इस विषम अवसर का कुछ फायदा भी मिले.

राजा मुंशी जी से बातचीत कर बहुत संतुष्ट हुआ. उसने उन्हें एक घड़े में से सौ लड्डू दिये और कहा कि कल शाम इन लड्डूओं को लेकर वापस आना. इनकी संख्या कम नहीं होनी चाहिये, न ये टूटे. आपको भी कुछ मिले.

मुंशी जी ने सिर झुककर कहा – ‘जैसी सरकार की आज्ञा.’ और लड्डू लेकर चले गये.

Art of Earning Hindi Story

घर जाकर मुंशी जी ने एक बांस का टोकरा लिया. घड़े में से एक एक लड्डू निकाल कर टोकरे में रखते. इस प्रकार घड़े में जो चूरा बच जाता, उसे एक वर्तन में रख लेते. इसी प्रकार टोकरे में से लड्डू निकालकर जब घड़े में रखते तब भी कुछ चूरा टोकरे में बच जाता. शाम तक काफी चूरा इकट्ठा हो गया. एक भी लड्डू न कम हुये, न टूटे. सूरज डूबते-डूबते मुंशी जी लड्डू का घडा और चूरे से भरा बर्तन लेकर राजदरबार में हाजिर हुये और राजा से हाथ जोडकर बोले ‘सरकार, माई-बाप, ये लड्डू गिनवा लीजिये. राजा ने गिनवाया तो सौ के सौ लड्डू तहदर्ज मिले. उन्होंने मुस्कुराकर मुंशी जी से पूछा – ‘मुंशी जी, कुछ मिला?’ मुंशी जी ने लड्डूओं के चूरे से भरा बर्तन राजा के सामने रख दिया और हाथ जोडकर एक तरफ खड़े हो गये. राजा बहुत खुश हुये.

राजा ने सोचा कि मुंशी है पूरा घाघ. व्यवहार में भी नफीस है. इसकी अक्लमंदी का एक और इम्तहान लेना चाहिये. इस बार इसे ऐसे काम पर लगाया जाना चाहिये जहाँ कुछ मिलने की संभावना शून्य हो. अत: उन्होंने मुंशी जी से कहा –‘मुंशी जी, कल से आप नदी के किनारे बैठकर लहरें गिनिये. एक सप्ताह में आकर मुझे बतलाइये कि आपने क्या किया? मुंशी जी सिर झुकाकर चले गये.

दूसरे दिन सबेरे ही मुंशी जी अपना चौपडा और कलम लेकर नदी के घाट पर बैठ गये. वहां उन्होंने एक बड़ी सी तख्ती लगवा दी जिस पर लिखा था –‘शासन के आदेश से लहरों की गिनती. गडबडी पैदा करने वालों को सजा.’ मुंशी जी झूठ-मूठ लहरों की संख्या चौपडा में लिखने लगे.

Art of Earning Hindi Story

अब नाव चलाने वाले परेशान हुये कि क्या माजरा है. उन्होंने मुंशी जी से पूछा. मुंशी जी ने कहा –‘भाई, सीधे राजा साहब का हुक्म है. लहरों में गडबडी नहीं होनी चाहिये.’ नाव वालों ने आपस में सलाह किया कि भाई यह काम पता नहीं कब तक जारी रहेगा. नाव चलाने से लहरें तो टूटेगी ही. अत; मुंशी जी की हथेली गर्म कर अपना काम करें, नहीं तो नाव चलाना बंद कर देने से पता नहीं कब तक कमाई बंद रहेगी.’ और मुंशी जी को हर फेरे की उतराई का कुछ न कुछ देने लगे. दूसरे दिन उस पार मेला था.

उसमें मुंशी जी को और भी आमदनी हुई. धीरे-धीरे प्रचार होने लगा. अब तो नहाने वाले, जानवरों को धोने वाले, मछली मारने वाले सभी से बिना मांगे मुंशी जी को कुछ न कुछ मिलने लगा.

सप्ताह बीतने पर मुंशी जी राजा के दरबार में हाजिर हुये और रूपयों से भरी थैली राजा के सामने रखकर हाथ जोडकर एक कोने में खड़े हो गये.

राजा ने मुंशी जी की अक्ल का लोहा मान लिया. उन्हें अपना वजीरे खजाना बना लिया.

 

आपको यह हिंदी कहानी कैसी लगी, अपने विचार कमेंट द्वारा दें. धन्यवाद!

पैसा माँ बाप रिश्ता नहीं हिंदी कहानी Hindi Story

पैसा माँ बाप रिश्ता नहीं हिंदी कहानी Hindi Story | short bal kahani in hindi, baccho ki kahani suno, dadi maa ki kahaniyan, bal kahaniyan, cinderella ki kahani, hindi panchatantra stories, baccho ki kahaniya aur cartoon, stories, kids story in english, पैसा माँ बाप रिश्ता नहीं हिंदी कहानी Hindi Story, moral stories, kids story books, stories for kids with pictures, short story, short stories for kids, story for kids with  moral, moral stories for childrens in hindi, infobells hindi moral stories, hindi panchatantra stories, moral stories in hindi,  story in hindi for class 1, hindi story books, story in hindi for class 4, story in hindi for class 6, panchtantra ki kahaniya.

पैसा माँ बाप रिश्ता नहीं हिंदी कहानी Hindi Story

यह कहानी एक गरीब युवक की है. वह गरीब युवक कमाने के लिए गांव से शहर आया. कुछ समय बाद उसको अच्छी नौकरी मिल गयी.
इसी दौरान उसके कई भी दोस्त बन गए. इनमें से एक दोस्त का घर रास्ते में ही पड़ता था। दोनों ऑफिस साथ -साथ जाया करते थे।

hindistory

वक़्त बीतता गया, काम चलता रहा। अब उसे नौकरी में भी तरक्की मिल गयी थी. तनख्वाह भी अच्छी खासी हो गयी थी. वह बहुत खुश था।
आज उसका जन्म दिन है. वह आज बहुत प्रसन्न है. ऑफिस में लोगों ने जन्म दिन की बधाइयाँ दी. शाम को ऑफिस से छूटते ही अपने दोस्तों को साथ ले शहर के एक बड़े होटल में जबरदस्त पार्टी की. पार्टी समाप्त होते ही सारे दोस्त अपने-अपने घर चले गए गए।

वह गरीब युवक यहाँ आकर इतना घुल-मिल गया कि उसे आपने माँ-बाप, भाई-बहन का जरा भी ख्याल नहीं आया. गांव में
माँ-बाप ने अपने बेटे के लिए मंदिर जाकर पूजा की. ईश्वर से अपने बेटे की लंबी उम्र की कामना की.

उसके घर वाले वहां उसपर आस लगाए बैठे थे कि शहर से उनका बेटा आएगा तो सब मुश्किल हल हो जाएगी। लेकिन वह सब भूल गया था. उसे दोस्तों के साथ घूमना, पार्टी करना, फोन पर बातें करना यह करने के लिए उसे समय था, लेकिन अपने घरवालों की ओर कभी ध्यान ज्ञान ही नहीं गया.

पैसों से घर खरीदा, कार ख़रीदी, एक बार भी अपने घर वालों को बुलाना उसने जरुरी नहीं समाझा। ऐशो आराम की सारी चीजें खरीदी, सब कुछ पा लिया।

एक दिन वह अचानक बीमार हुआ, अस्पताल में भर्ती हुआ. रात हुई दवाइयां लेने के बाद डॉक्टर ने उसे आराम करने को कहा।

जब वह सोया तो गहरी नींद में चिल्लाने लगा. माँ-बाबा … माँ-बाबा … माँ-बाबा… रात भर यही चलता रहा. डॉक्टर ने दवाइयां दी लेकिन असर नहीं हो रहा था।

आखिर में सुबह डॉक्टर ने उसके घर सन्देश भिजवाया कि उनका बेटा बीमार है, और यहाँ हॉस्पिटल में भर्ती है. माँ-बाप को जैसे ही पता चला, वे भागे चले आये. माँ ने बेटे को देखते ही अपने सीने से लगाया। उनको देखते ही उसके स्वास्थ्य में बहुत सुधार हुआ. डॉक्टर ने उसे उसी दिन अस्पताल से घर भेज दिया. मानो माँ-बाप उसके लिये दवाइयां बनकर आये थे.

 

उसने पैसों से दुनिया की सारी चीजें खरीदी. पैसों से दोस्त, डॉक्टर, नर्स, दवाइयां सबकुछ उसने पा लिया. सबकुछ मिला, लेकिन माँ-बाप नहीं!

पैसा अच्छा जीवन जीने के लिए आवश्यक है लेकिन माँ, बाप या अन्य कोई रिश्ता भी बहुत जरुरी होता है. कमाने के पीछे रिश्तों को गवाना बेबकूफी है.

दोस्तो, यह कहानी रवि चव्हाण (Sgurram) जो नांदेड़, महाराष्ट् के रहनेवाले हैं, ने भेजी है. अभी रवि एक छात्र हैं और पढाई करते हैं. अपने आस-पास की घटनाओं को देख उसे शब्दों में पिरोकर कहानी लिखना उनका शौक है. बेहतरलाइफ डॉट कॉम की ओर से रवि को बहुत बहुत धनयवाद! मैं इनके उज्ज्वल जीवन की कामना करता हूँ.

आपको यह हिंदी कहानी कैसी लगी, अपने विचार कमेंट द्वारा दें. धन्यवाद!

error: