Short Essay on ‘Horse’ in Hindi | ‘Ghoda’ par Nibandh in hindi

Short Essay on ‘Horse’ in Hindi | ‘Ghoda’ par Nibandh in hindi Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Horse’ in Hindi | ‘Ghoda’ par Nibandh in hindi

घोड़ा

‘घोड़ा’ एक पालतू पशु है जो प्राचीन समय से मनुष्य की किसी न किसी रूप में सेवा करता आया है। यह Equidae कुटुंब का सदस्य है। इस कुटुंब में घोड़े के साथ-साथ गधा, जेबरा, टटटू एवं खच्चर भी आते हैं।

घोड़े को लगभग 5000 वर्ष पहले मनुष्य ने पहली बार पालना शुरू किया था। अंग्रेजी में नर घोड़े को ‘Stallion’ और मादा घोड़ी को ‘Mare’ कहते हैं। इसी प्रकार युवा घोड़े को अंग्रेजी में ‘Colt’ और युवा घोड़ी को ‘Filly’ कहते हैं।

घोड़े पूरी दुनिया में पाए जाते हैं। ये कई रंग और नस्ल के होते हैं। यह एक शक्तिशाली जानवर है जो बिना रुके कई घंटो तक दौड़ सकता है। यह सिर्फ नाक से सांस लेते हैं, मुंह से सांस नहीं लेते।

घोड़ा एक शाकाहारी पशु है। यह घास, भूसा एवं अनाज खाता है। इसे चना बहुत पसंद है जो इसकी ताकत का प्रमुख स्त्रोत है। यह मैदानों में हरी घास चरता है और अपने मालिक के द्वारा दिया गया खाना खाता है।

घोड़ा बोझा ढोने, सवारी करने और गाड़ी खींचने के काम में आता है। प्राचीन समय में घोड़े ही मनुष्य के आवागमन का साधन हुआ करते थे। पुराने समय में घोड़ा लड़ाई के काम में भी आता था। कुछ देशों में घोड़ों से खेत जोतने का काम भी लिया जाता है।

 

 

 

horse essay topics,

essay on horse for class 9,

essay on horse for class 7,

my favourite animal horse,

if i were a horse essay,

short paragraph on horse,

essay on horse riding,

10 lines on horse,

Comments

comments

Leave a Comment

error: