August 15, 2018 | Hindigk50k

Essay on ‘Bharat Ratna Award’ in Hindi Hindi Nibandah (186 Words)

Essay on ‘Bharat Ratna Award’ in Hindi Hindi Nibandah (186 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Essay on ‘Bharat Ratna Award’ in Hindi Hindi Nibandah (186 Words)

 

‘Bharat Ratna’ is the India’s highest award given to a civilian. It is awarded for the highest degrees of national service. This service includes artistic, literary and scientific achievements, as well as public service.

Bharat Ratna was instituted on 2 January 1954. The award was originally limited to achievements in the arts, literature, science and public services but the government expanded the criteria to include ‘any field of human endeavour’ in December 2011. Recommendations for the Bharat Ratna are made by the Prime Minister to the President, with a maximum of three nominees being awarded per year.

Recipients of Bharat Ratna receive a Sanad (certificate) signed by the President and a peepal-leaf–shaped medallion; there is no monetary grant associated with the award.

The first recipients of the Bharat Ratna were politician C. Rajagopalachari, scientist C. V. Raman and philosopher Sarvepalli Radhakrishnan, who were honoured in 1954. In 1966, former Prime Minister Lal Bahadur Shastri became the first individual to be honoured posthumously. Most recently, Indian government has announced the award to freedom fighter Madan Mohan Malaviya (posthumously) and former Prime Minister Atal Bihari Vajpayee.

 

 

Year Laureates Notes
1954 C Rajagopalachari 1944.jpg C. Rajagopalachari An Indian independence activist, statesman, and lawyer, Rajagopalachari was the only Indian and last Governor-General of independent India. He was Chief Minister of Madras Presidency (1937–39) and Madras State (1952–54); and founder of Indian political party Swatantra Party.[62]
Photograph of Sarvepalli Radhakrishnan presented to First Lady Jacqueline Kennedy in 1962.jpg Sarvepalli Radhakrishnan Philosopher Radhakrishnan served as India’s first Vice-President (1952–62) and second President (1962–67).[63][64] Since 1962, his birthday on 5 September is observed as “Teachers’ Day” in India.[65]
Sir CV Raman.JPG C. V. Raman Widely known for his work on the scattering of light and the discovery of the effect, better known as “Raman scattering“, Raman mainly worked in the field of atomic physics and electromagnetism and was presented Nobel Prize in Physics in 1930.[66]
1955  – Bhagwan Das Independence activist, philosopher, and educationist, Das is a co-founder of Mahatma Gandhi Kashi Vidyapith and worked with Madan Mohan Malaviya for the foundation of Banaras Hindu University.[67]
Visvesvaraya Statue bust at JIT.jpg M. Visvesvaraya Civil engineer, statesman, and Diwan of Mysore (1912–18), Visvesvaraya was a Knight Commander of the Order of the Indian Empire. His birthday, 15 September, is observed as “Engineer’s Day” in India.[68]
Jnehru.jpg Jawaharlal Nehru Independence activist and author, Nehru is the first and the longest-serving Prime Minister of India (1947–64).[49][69]
1957 Pandit Govind Ballabh Pant.jpg Govind Ballabh Pant Independence activist Pant was premier of United Provinces (1937–39, 1946–50) and first Chief Minister of Uttar Pradesh (1950–54). He served as Union Home Minister from 1955–61.[70]
1958 Dr Dhondo Keshav Karve Cropped.png Dhondo Keshav Karve Social reformer and educator, Karve is widely known for his works related to woman education and remarriage of Hindu widows. He established the Widow Marriage Association (1883), Hindu Widows Home (1896), and started Shreemati Nathibai Damodar Thackersey Women’s University in 1916.[8][71]
1961  – Bidhan Chandra Roy A physician, political leader, philanthropist, educationist, and social worker, Roy is often considered as “Maker of Modern West Bengal”.[72] He was second Chief Minister of West Bengal (1948–62) and his birthday on 1 July is observed as National Doctors’ Day in India.[51]
 – Purushottam Das Tandon Often titled as “Rajarshi”, Tandon was an independence activist and served as speaker of the Uttar Pradesh Legislative Assembly (1937–50). He was actively involved in a campaign to get official language status to Hindi.[73]
1962 Food Minister Rajendra Prasad during a radio broadcast in Dec 1947 cropped.jpg Rajendra Prasad Independence activist, lawyer, statesman, and scholar,[74] Prasad was closely associated with Mahatma Gandhi in the non-cooperation movement for Indian independence.[75] He was later elected as the first President of India (1950–62).[63]
1963  – Zakir Husain Independence activist and education philosopher, Husain served as a Vice Chancellor of Aligarh Muslim University (1948–56) and the Governor of Bihar (1957–62).[76] Later, he was elected as second Vice-President of India (1962–67) and went on to become the third President of India (1967–69).[63][64]
PV Kane.jpg Pandurang Vaman Kane Indologist and Sanskrit scholar,[77] Kane is best known for his five volume literary work, History of Dharmaśāstra: Ancient and Medieval Religious and Civil Law in India; the “monumental” work that extends over nearly 6,500 pages and being published from 1930 to 1962.[78]
1966 1736 Lal Bahadur Shastri cropped.jpg Lal Bahadur Shastri[i]# Known for his slogan “Jai Jawan Jai Kisan” (“Hail the Soldier, Hail the Farmer”),[79] Independence activist Shastri served as second Prime Minister of India (1964–66) and led the country during the Indo-Pakistani War of 1965.[49][80]
1971 Indira Gandhi in 1967.jpg Indira Gandhi Known as the “Iron Lady of India”,[81] Gandhi was the Prime Minister of India during 1966–77 and 1980–84.[49] During the Indo-Pakistani War of 1971, her government supported Bangladesh Liberation War which led to the formation of a new country, Bangladesh.[82]
1975 V.V.Giri.jpg V. V. Giri While studying at the University College Dublin, Giri was involved in the Irish Sinn Féin movement. Returning to India, he organized labour unions and brought them to take active participation in Indian freedom struggle. He was elected as the first President of All India Trade Union Congress in 1926. Post-independence, Giri held positions of Governor of Uttar Pradesh, Kerala and Mysore and various other cabinet ministries. He became the first acting President and was eventually elected as the fourth President of India (1969–74).[63][83][84]
1976 Kamarajar cropped.jpeg K. Kamaraj[ii]# Independence activist and statesman Kamaraj was a Chief Minister of Tamil Nadu for three terms; 1954–57, 1957–62, and 1962–63.[85][86]
1980 MotherTeresa 090.jpg Mother Teresa + “Saint Mother Teresa of Calcutta” was a catholic nun and the founder of the Missionaries of Charity. She was awarded the Nobel Peace Prize for her humanitarian work in 1979 and was beatified on 19 October 2003 by Pope John Paul II and canonised on 4 September 2016 by Pope Francis.[87]
1983 Gandhi and Vinoba.jpg Vinoba Bhave[iii]# Independence activist, social reformer, and a close associate of Mahatma Gandhi, Bhave is best known for his Bhoodan movement, “Land-Gift Movement”.[88] He was given the honorific title “Acharya” (“teacher”) and was awarded the Ramon Magsaysay Award (1958) for his humanitarian work.[89]
1987 Khan Abdul Ghaffar Khan.jpg Khan Abdul Ghaffar Khan* Widely known as “Frontier Gandhi”, independence activist and Pashtun leader Khan was a follower of Mahatma Gandhi. He joined Khilafat Movement in 1920 and founded Khudai Khidmatgar (“Red Shirt movement”) in 1929.[90]
1988 Puducherry MGR statue.jpg M. G. Ramachandran[iv][d]# Actor turned politician Ramachandran served as Chief Minister of Tamil Nadu for three terms; 1977–80, 1980–84, 1985–87.[85]
1990 Dr. Bhimrao Ambedkar.jpg B. R. Ambedkar[v]# Social reformer and leader of the Dalits (“Untouchables”),[92] Ambedkar was the Chief architect of the Indian Constitution and also served as the first Law Minister of India.[93] Ambedkar predominantly campaigned against the social discrimination with Dalits, the Hindu varna system.[94] He was associated with the Dalit Buddhist movement and accepted Buddhism as a religion along with his close to half a million followers on 14 October 1956.[95]
Nelson Mandela-2008 (edit).jpg Nelson Mandela* Leader of the Anti-Apartheid Movement in South Africa, Mandela was the President of South Africa (1994–99).[96] Often called as the “Gandhi of South Africa”,[97] Mandela’s African National Congress movement was influenced by Gandhian philosophy.[98] In 1993, he was awarded the Nobel Peace Prize.[99]
1991 Rajiv Gandhi (cropped).jpg Rajiv Gandhi[vi]# Gandhi was the ninth Prime Minister of India serving from 1984 to 1989.[49]
Sardar patel (cropped).jpg Vallabhbhai Patel[vii]# Widely known as the “Iron Man of India”,[100] Patel was an independence activist and first Deputy Prime Minister of India (1947–50). Post independence, “Sardar” (“Leader”) Patel worked with V. P. Menon towards dissolving 555 princely states into the Indian union.[101][102]
Morarji Desai (portrait).png Morarji Desai[e] Independence activist Desai was the sixth Prime Minister of India (1977–79).[49] He is the only Indian national to be awarded the Nishan-e-Pakistan, highest civilian award given by the Government of Pakistan.[104]
1992 Maulana Abul Kalam Azad.jpg Abul Kalam Azad[viii][f]# Independence activist Azad was India’s first Minister of Education and worked towards free primary education. He was widely known as “Maulana Azad” and his birthday on 11 November is observed as National Education Day in India.[107]
J.R.D. Tata (1955).jpg J. R. D. Tata Industrialist, philanthropist, and aviation pioneer, Tata founded India’s first airline Air India. He is the founder of various institutes including Tata Institute of Fundamental Research, Tata Memorial Hospital, Tata Institute of Social Sciences, Tata Motors, TCS, National Institute of Advanced Studies, and National Centre for the Performing Arts.[108]
SatyajitRay.jpg Satyajit Ray Having debuted as a director with Pather Panchali (1955),[109] film-maker Ray is credited with bringing world recognition to Indian cinema.[110] In 1984, Ray was awarded the Dadasaheb Phalke Award, India’s highest award in cinema.[111]
1997 Gulzarilal Nanda (cropped).jpg Gulzarilal Nanda Independence activist Nanda was two times interim Prime Minister of India (1964, 1966) and two times deputy chairman of the Planning Commission.[49][112]
 – Aruna Asaf Ali[ix]# Independence activist Ali is better known for hoisting the Indian flag in Bombay during the Quit India Movement in 1942. Post Independence, Ali was elected as Delhi’s first mayor in 1958.[113]
A. P. J. Abdul Kalam in 2008.jpg A. P. J. Abdul Kalam Aerospace and defence scientist, Kalam was involved in the development of India’s first satellite launch vehicle SLV III and was the architect of Integrated Guided Missile Development Program. He worked for Indian National Committee for Space Research, Indian Space Research Organisation, Defence Research and Development Laboratory and was appointed as the Scientific Advisor to the Defence Minister, Secretary to Department of Defence Research and Development and Director General of Defence Research and Development Organisation.[114] Later, he served as the eleventh President of India from 2002 till 2007.[63]
1998 Ms subbulakshmi 140x190.jpg M. S. Subbulakshmi Carnatic classical vocalist Subbulakshmi, often hailed as “Queen of songs”, is the first Indian musician to receive the Ramon Magsaysay award.[115]
Chidambaram Subramaniam.jpg Chidambaram Subramaniam Independence activist and former Minister of Agriculture of India (1964–66), Subramaniam is known for his contribution towards Green Revolution in India. During the late 1970s, he worked for International Rice Research Institute, Manila, and the International Maize and Wheat Research Institute, Mexico.[116]
1999  – Jayaprakash Narayan[x]# Independence activist, social reformer, and commonly referred as “Lok Nayak” (“People’s Hero”), Narayan is better known for “Total Revolution Movement” or “JP Movement” initiated during the mid-1970s to “overthrow the corrupt and exploitative Congress government”.[117]
Amartya Sen NIH.jpg Amartya Sen Winner of the Nobel Memorial Prize in Economic Sciences (1998),[118] Sen has done research over several topics including social choice theory, ethics and political philosophy, welfare economics, decision theory, development economics, public health, and gender studies.[119]
Gopinath Bordoloi.jpg Gopinath Bordoloi[xi]# Independence activist Bordoloi is the first Chief Minister of Assam (1946–50).[120] His efforts and association with the then Minister of Home Affairs Vallabhbhai Patel were widely acknowledged while keeping Assam united with India when parts of it were to merge with East Pakistan.[121]
Ravi Shankar 2009 crop.jpg Ravi Shankar Winner of four Grammy Awards and often considered “the world’s best-known exponent of Hindustani classical music”, sitar player Shankar is known for his collaborative work with Western musicians including Yehudi Menuhin and George Harrison.[122]
2001 LataMangeshkar10.jpg Lata Mangeshkar Widely credited as the “nightingale of India”,[123] playback singer Mangeshkar started her career in the 1940s and has sung songs in over 36 languages.[124] In 1989, Mangeshkar was awarded the Dadasaheb Phalke Award, India’s highest award in cinema.[111]
Bismillah at Concert1 (edited) 2.jpg Bismillah Khan Hindustani classical shehnai player, Khan played the instrument for more than eight decades and is credited to have brought the instrument to the centre stage of Indian music.[125]
2008 Pandit Bhimsen Joshi (cropped).jpg Bhimsen Joshi Hindustani classical vocalist, Joshi was a disciple of Kirana gharana, an Indian musical school. He is widely known for the Khyal genre of singing with a “mastery over rhythm and accurate notes”.[126][127]
2014 CNRrao2.jpg C. N. R. Rao The recipient of Honorary Doctorates from 63 Universities including Purdue, IIT Bombay, Oxford, chemist and professor Rao has worked prominently in the fields of Solid State and Materials Chemistry, Spectroscopy and Molecular Structure. He has authored around 1600 research papers and 48 books.[128]
Sachin at Castrol Golden Spanner Awards (crop).jpg Sachin Tendulkar Having debuted in 1989, Tendulkar played 664 international cricket matches in a career spanning over two decades. He holds various cricket records including the only player to have scored one hundred international centuries, the first batsman to score a double century in a One Day International and the only player to complete more than 30,000 runs in both ODI and Test cricket.[129][130]
2015 Madan Mohan Malaviya1.jpg Madan Mohan Malaviya[xii]# Scholar and educational reformer Malaviya is a founder of Akhil Bharatiya Hindu Mahasabha (1906) and Banaras Hindu University and served as the university’s vice-chancellor from 1919 till 1938. He was the President of Indian National Congress for four terms and was the Chairman of Hindustan Times from 1924 to 1946.[131]
Ab vajpayee.jpg Atal Bihari Vajpayee Parliamentarian for over four decades, Vajpayee was elected nine times to the Lok Sabha, twice to the Rajya Sabha and served as the Prime Minister of India for three terms; 1996, 1998, 1999–2004.[49] He was Minister of External Affairs during 1977–79 and was awarded the “Best Parliamentarian” in 1994.[132]

 

bharat ratna 2018,

bharat ratna winners 2017,

bharat ratna award 2018,

bharat ratna 2017 winners list,

short note on bharat ratna award,

bharat ratna award 2017 winner,

bharat ratna 2016,

bharat ratna award in music,

Essay on ‘Bharat Ratna Award’ in Hindi Hindi Nibandah (186 Words)

 

Short Essay on ‘Ramdhari Singh Dinkar’ in Hindi | ‘Ramdhari Singh Dinkar’ par Nibandh (100 Words)

Short Essay on ‘Ramdhari Singh Dinkar’ in Hindi | ‘Ramdhari Singh Dinkar’ par Nibandh (100 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Ramdhari Singh Dinkar’ in Hindi | ‘Ramdhari Singh Dinkar’ par Nibandh (100 Words)

रामधारी सिंह ‘दिनकर’

‘रामधारी सिंह दिनकर’ का जन्म 1908 ई0 में मुंगेर जिले के सिमरिया नामक गाँव में एक साधारण किसान परिवार में हुआ था। दिनकर को भारत सरकार ने ‘पद्मभूषण’ की उपाधि से सम्मानित किया। ‘संस्कृति के चार अध्याय’ नामक उनकी पुस्तक पर ‘साहित्य-अकादमी पुरस्कार’ और ‘उर्वशी’ पर उन्हें ‘भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार’ मिला।

दिनकर की प्रमुख गद्य-कृतियाँ हैं- ‘शुद्ध-कविता की खोज’, ‘साहित्योंमुखी’, ‘दिनकर की डायरी’, ‘काव्य की भूमिका’, ‘रेती के फूल’, ‘मिट्टी की ओर’, ‘अर्धनारीश्वर’ आदि जिनमें उनके विभिन्न विचारात्मक एवं समीक्षात्मक निबंध संग्रहीत हैं। उनकी प्रमुख काव्य-कृतियाँ हैं- ‘रेणुका’, ‘हुंकार’, ‘रश्मिरथी’, ‘रसवंती’, ‘नीलकुसुम’, ‘कुरुक्षेत्र’, ‘उर्वशी’ आदि।

Short Essay on ‘Ramdhari Singh Dinkar’ in Hindi | ‘Ramdhari Singh Dinkar’ par Nibandh (100 Words)

 

Short Essay on ‘Kanhaiyalal Mishra Prabhakar’ in Hindi | ‘Kanhaiyalal Mishra Prabhakar’ par Nibandh (100 Words)

Short Essay on ‘Kanhaiyalal Mishra Prabhakar’ in Hindi | ‘Kanhaiyalal Mishra Prabhakar’ par Nibandh (100 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Kanhaiyalal Mishra Prabhakar’ in Hindi | ‘Kanhaiyalal Mishra Prabhakar’ par Nibandh (100 Words)

कन्हैयालाल मिश्र ‘प्रभाकर’

कन्हैयालाल मिश्र ‘प्रभाकर’ का जन्म सहारनपुर जिले के देवबंद गॉंव में सन 1906 ई0 को हुआ। इन्हें एक श्रेष्ठ निबंध-लेखक, संस्मरणकार तथा लघु कथाकार के रूप में प्रतिष्ठा प्राप्त है। इनकी शैली दृष्टान्तपरक और मर्म को छूने वाली है। यह अपनी बात और भावनाओं को व्यक्त करने में सिद्धहस्त हैं। जीवन की छोटी सी घटना भी कितनी महत्वपूर्ण और उत्प्रेरक हो सकती है, यह इनके साहित्य में सर्वत्र दृष्टगत होता है।

‘तपती पगडंडियों पर पद यात्रा’, ‘जिंदगी मुस्कुराई’, बाज पायलिया के घुन्घारे’, ‘मोटी हो गई सेना’, क्षणबोले कण मुस्काएं’, ‘दीपजले, शंख बजे’ आदि कन्हैयालाल मिश्र ‘प्रभाकर’ की उल्लेखनीय कृतियाँ हैं।

Short Essay on ‘Kanhaiyalal Mishra Prabhakar’ in Hindi | ‘Kanhaiyalal Mishra Prabhakar’ par Nibandh (100 Words)

 

Short Essay on ‘Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh’ in Hindi | ‘Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh’ par Nibandh (100 Words)

Short Essay on ‘Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh’ in Hindi | ‘Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh’ par Nibandh (100 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh’ in Hindi | ‘Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh’ par Nibandh (100 Words)

अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

‘अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध’ का जन्म निज़ामाबाद जिला आजमगढ़ में सन 1865 ई0 में हुआ था। ‘हरिऔध’ इनका उपनाम है। ये खड़ी बोली कविता में नए प्रयोग करने वाले पहले कवि थे। संस्कृतनिष्ठ शब्दों के साथ ही इन्होने कविता की भाषा में बोलचाल की मुहावरेदार भाषा का भी प्रयोग किया है।

अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’ की कविताओं में देशभक्ति, राष्ट्रीयता व चरित्र-निर्माण का स्वर मुखरित हुआ है। कठिन से कठिन और सरल से सरल दोनों प्रकार की भाषाओँ में कविता लिख सकना इनकी एक उल्लेखनीय विशेषता है। भारतीय साहित्य में ‘हरिऔध’ का नाम सदैव याद रखा जायेगा।

Short Essay on ‘Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh’ in Hindi | ‘Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh’ par Nibandh (100 Words)

 

Short Essay on ‘Babu Gulabrai’ in Hindi | ‘Babu Gulabrai’ par Nibandh (165 Words)

Short Essay on ‘Babu Gulabrai’ in Hindi | ‘Babu Gulabrai’ par Nibandh (165 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Babu Gulabrai’ in Hindi | ‘Babu Gulabrai’ par Nibandh (165 Words)

बाबू गुलाबराय

बाबू गुलाबराय का जन्म सन 17 जनवरी 1888 ई0 में इटावा के छ्पैटी मोहल्ले में हुआ था। इनके पिता का नाम बाबू भवानी प्रसाद था जो न्यायालय में मुन्सरिफ थे। इनकी माता श्रीमती गोमती देवी एक धार्मिक प्रवृत्ति की महिला थीं। बाबू गुलाबराय ने एम0ए0 एवं एल0एल0बी0 की शिक्षा आगरा विश्वविद्यालय से पूर्ण की। इनके जीवन-क्रम एवं चिंतन पर वेदांती और धार्मिक घरेलू वातावरण का भरपूर प्रभाव पड़ा था।

बाबू गुलाबराय को साहित्य के अध्ययन-अध्यापन का मुख्य शौक रहा है। बाबू गुलाबराय की विभिन्न पक्षों पर ढेरों रचनाएँ हैं- दर्शन, साहित्य, आलोचना, साहित्य का इतिहास, निबंध, बाल साहित्य इत्यादि। सभी क्षेत्रों में इनकी कलम योग्यता के साथ चली है। गद्यकारों में बाबू गुलाबराय का विशिष्ट स्थान और मान है। बाबू गुलाबराय का भाषा पर अद्भुत अधिकार रहा है। उनके लिए जैसा विषय रहा, वैसी ही भाषा पर सदा सरल और रोचक उनकी पकड़ रही।

उनकी मृत्यु 13 अप्रैल सन उन्नीस सौ तिरसठ में हुई।

Short Essay on ‘Babu Gulabrai’ in Hindi | ‘Babu Gulabrai’ par Nibandh (165 Words)

 

Short Essay on ‘Sarveshwar Dayal Saxena’ in Hindi | ‘Sarveshwar Dayal Saxena’ par Nibandh (100 Words)

Short Essay on ‘Sarveshwar Dayal Saxena’ in Hindi | ‘Sarveshwar Dayal Saxena’ par Nibandh (100 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Sarveshwar Dayal Saxena’ in Hindi | ‘Sarveshwar Dayal Saxena’ par Nibandh (100 Words)

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

‘सर्वेश्वर दयाल सक्सेना’ का जन्म उत्तर प्रदेश के जिला बस्ती में 15 सितम्बर उन्नीस सौ सताईस को हुआ था। इनका बचपन आर्थिक तंगी में बीता। इनकी शिक्षा बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय एवं इलाहबाद विश्वविद्यालय से संपन्न हुई।

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना प्रसिद्द कवि एवं लेखक थे। इनके प्रमुख काव्य-संग्रह हैं- ‘काठ की घंटियाँ’, ‘बाँस का पुल’, ‘एक सूनी नाव’। इनकी रचनाओं में संवेदना और आक्रोश- दोनों बातें एक साथ उभर कर आती हैं। कविता के अतिरिक्त सर्वेश्वर दयाल सक्सेना ने पत्रकारिता के क्षेत्र में भी पर्याप्त ख्याति अर्जित की। ये अनेक वर्षों तक ‘दिनमान’ के संपादक रहे।

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की मृत्यु 24 सितम्बर उन्नीस सौ तिरासी को हुई।

Short Essay on ‘Sarveshwar Dayal Saxena’ in Hindi | ‘Sarveshwar Dayal Saxena’ par Nibandh (100 Words)

 

Short Essay on ‘Rabindranath Tagore’ in Hindi | ‘Gurudev Rabindranath Tagore’ par Nibandh (140 Words)

Short Essay on ‘Rabindranath Tagore’ in Hindi | ‘Gurudev Rabindranath Tagore’ par Nibandh (140 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Rabindranath Tagore’ in Hindi | ‘Gurudev Rabindranath Tagore’ par Nibandh (140 Words)

रबीन्द्रनाथ टैगोर पर निबंध 1 (100 शब्द)

रबीन्द्रनाथ टैगोर एक महान भारतीय कवि थे। उनका जन्म 7 मई 1861 में कोलकाता के जोर-साँको में हुआ था। इनके माता-पिता का नाम शारदा देवी (माता) और महर्षि देवेन्द्रनाथ टैगोर (पिता) था। टैगोर ने अपनी शिक्षा घर में ही विभिन्न विषयों के निजी शिक्षकों के संरक्षण में ली। कविता लिखने की शुरुआत इन्होंने बहुत कम उम्र में ही कर दी थी। वो अभी-भी एक प्रसिद्ध कवि बने हुए हैं क्योंकि उन्होंने हजारों कविताएँ, लघु कहानियाँ, गानें, निबंध, नाटक आदि लिखें हैं। टैगोर और उनका कार्य पूरे विश्वभर में प्रसिद्ध है। वो पहले ऐसे भारतीय बने जिन्हें “गीतांजलि” नामक अपने महान लेखन के लिये 1913 में नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वो एक दर्शनशास्त्री, एक चित्रकार और एक महान देशभक्त भी थे जिन्होंने हमारे देश के राष्ट्रगान “जन गण मन” की रचना की।

रबीन्द्रनाथ टैगोर

रबीन्द्रनाथटैगोर पर निबंध 2 (150 शब्द)

रबीन्द्रनाथ टैगोर एक महान कवि, देशभक्त, दर्शनशास्त्री, मानवतावादी और चित्रकार थे। महर्षि देवेन्द्रनाथ टैगोर और शारदा देवी के घर में अपने पैतृक निवास में 7 मई 1861 को कलकत्ता के जोर-साँको में उनका जन्म हुआ। वो अपने माता-पिता की 14वीं संतान थे हालांकि दूसरों से अलग थे। निजी शिक्षकों के द्वारा घर पर विभिन्न विषयों के बारे में अपनी उचित शिक्षा और ज्ञान को उन्होंने प्राप्त किया। जब रबीन्द्र बहुत छोटे थे तभी से इन्होंने कविता लिखना शुरु कर दिया था और उनमें से कुछ पत्रिकाओं में भी छपे थे।

वो उच्च शिक्षा के लिये इंग्लैंड गये लेकिन वहां शिक्षा की पारंपरिक व्यवस्था के द्वारा संतुष्ट नहीं हुए और वो भारत लौटकर और बंगाल के वीरभूमि के बोलपूर में शांतिनिकेतन के नाम से अपना खुद का स्कूल खोला। यही स्कूल बाद में कॉलेज़ बना और उसके बाद एक विश्वविद्यालय (विश्व-भारती)। 1913 में “गीतांजलि” के लिये इनको नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। ब्रिटिश क्राउन के द्वारा इन्हें नाइटवुड से भी सम्मानित किया गया लेकिन जलियाँवालाबाग में नरसंहार के खिलाफ विरोध स्वरुप में उन्होंने उस सम्मान को वापस कर दिया।

रबीन्द्रनाथ टैगोर पर निबंध 3 (200 शब्द)

रबीन्द्रनाथ टैगोर एक महान भारतीय कवि और अपने माता-पिता के सबसे छोटे बेटे थे। बंगाल, 19वीं शताब्दी में ब्रह्म समाज के वो एक नेता थे। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा घर से ली जबकि इंग्लैड में उच्च शिक्षा ली। अपने औपचारिक स्कूलिंग के लिये 17 वर्ष की आयु में वो इंग्लैंड गये हालांकि पूरा नहीं कर सके। उनकी रुचि और मानवता से उनके नज़दीकी जुड़ाव ने देश की प्रति कुछ सामाजिक सुधार करने के लिये उनका ध्यान खींचा। तब उन्होंने एक स्कूल शांतिनिकेतन की शुरुआत की जहां वो शिक्षा के उपनिषद के आदर्शों का अनुसरण करते हैं। उन्होंने खुद को भारतीय राष्ट्रवादी आंदोलन में भी शामिल किया और अपने गैर-भावनात्मक और मनमौजी तरीकों का अनुगमन किया। गाँधीजी उनके समर्पित मित्र थे। देश के प्रति उनके आपार प्रेम को देखा गया जब देश में अंग्रेजी नीतियों के ख़िलाफ़ एक विरोध के रुप में 1919 में ब्रिटिश सरकार द्वारा दिया गया सम्मान उन्होंने वापस कर दिया था।

वो एक अच्छे लेखक थे और उन्होंने अपने पैदाइशी स्थान बंगाल में लेखन में सफलता प्राप्त की। लेखन में उनकी लगातार सफलता ने भारत के आध्यात्मिक विरासत की एक प्रसिद्ध आवाज़ बनने के लिये उनको काबिल बनाया। मनासी, सोनर तारी, गीतांजलि, गीतिमलया, बलाका आदि जैसे उनके कविताओं के कुछ अद्वितीय संस्करण हैं। कविताओं के अलावा, वो नृत्य नाटक, संगीत नाटक, निबंध, यात्रा वृतांत, आत्मकथा आदि लिखने के लिये भी प्रसिद्ध थे।


 

रबीन्द्रनाथ टैगोर पर निबंध 4 (250 शब्द)

रबीन्द्रनाथ टैगोर रबीन्द्रनाथ ठाकुर के नाम से भी जाने जाते थे और गुरुदेव के नाम से अधिक प्रसिद्ध थे। वो एक महान भारतीय कवि थे जिन्होंने देश को कई प्रसिद्ध लेखन दिया। बेशक, वो कालीदास के बाद एक महानतम कवि थे। आज, वो पूरी दुनिया में एक महानतम कवि और सभी जीवन काल के लेखक के रुप में प्रसिद्ध हैं। उनका जन्म महर्षि देवेन्द्रनाथ टैगोर (पिता) और शारदा देवी (माता) के घर 1861 में 7 मई को कलकत्ता के जोर-साँको में एक अमीर और सुसंस्कृत परिवार में हुआ था। 1875 में जब टैगोर 14 वर्ष के थे तभी इनकी माता का देहांत हो गया था। अपने शुरुआती उम्र में ही इन्होंने कविता लिखने में रुचि को विकसित कर लिया था। वो एक चित्रकार, दर्शनशास्त्री, देशभक्त, शिक्षाविद्, उपन्यासकार, गायक, निबंध लेखक, कहानी लेखक और रचनात्मक कार्यकर्ता भी थे।

उपन्यास और लघु कथा के रुप में उनका महान लेखन मानव चरित्र के बारे में उनकी बुद्धिमत्ता, गहरे अनुभव और समझ की ओर इशारा करता है। वो एक ऐसे कवि थे जिन्होंने देश को बहुत प्यारा राष्ट्रगान “जन गण मन” दिया है। उनके कुछ महत्वपूर्ण कार्य हैं: “गीतांजलि, आमार सोनार बांग्ला, घेर-बेर, रबीन्द्र संगीत” आदि। “गीतांजलि” के उनके महान अंग्रेजी संस्करण लेखन के लिये 1913 में उन्हें नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वो पहले भारतीय और पहले एशियाई थे जिनको ये सम्मान प्राप्त हुआ। वो 1902 में शांतिनिकेतन में विश्वभारती यूनिवर्सिटी के संस्थापक थे। जलियाँवाला बाग नरसंहार के ख़िलाफ़ एक विरोध में 1919 में ब्रिटिश सरकार द्वारा दिये गये एक अवार्ड “नाइटवुड” को इन्होंने अपने देश और देशवासियों के प्रति अन्तहीन प्यार के कारण वापस कर दिया। इनका महान लेखन आज भी देश के लोगों को प्रेरणा देता है।

रबीन्द्रनाथ टैगोर पर निबंध 5 (300 शब्द)

रबीन्द्रनाथ टैगोर एक प्रसिद्ध भारतीय कवि थे जो गुरुदेव के नाम से प्रसिद्ध थे। टैगोर का जन्म कलकत्ता के जोर-साँको में 7 मई 1861 को एक अमीर सुसंस्कृत परिवार में हुआ था। उनके अभिवावक महर्षि देवेन्द्रनाथ (पिता) और शारदा देवी (माता) थीं। वो बचपन से ही कविताएँ लिखने के शौक़ीन थे। एक महान कवि होने के साथ ही, वो एक मानवतावादी, देशभक्त, चित्रकार, उपन्यासकार, कहानी लेखक, शिक्षाविद् और दर्शनशास्त्री भी थे। वो देश के सांस्कृतिक दूत थे जिन्होंने पूरी दुनिया में भारतीय संस्कृति के ज्ञान को फैलाया है। वो अपने समय के एक प्रतिभासंपन्न बच्चे थे जिसने बहुत महान कार्य किये। कविता लेखन के क्षेत्र में वो एक उगते सूरज के सामान थे।

कविताओं या कहानी के रुप में अपने लेखन के माध्यम से लोगों के मानसिक और नैतिक भावना को अच्छे से प्रदर्शित किया। आज के लोगों के लिये भी उनका लेखन अग्रणी और क्रांतिकारी साबित हुआ है। जलियाँवाला बाग नरसंहार की त्रासदी के कारण वो बहुत दुखी थे जिसमें जनरल डायर और उसके सैनिकों के द्वारा अमृतसर में 1919 में 13 अप्रैल को महिलाओं और बच्चों सहित बहुत सारे निर्दोष लोग मारे गये थे।

वो एक महान कवि होने के साथ ही एक देशभक्त भी थे जो हमेशा जीवन की एकात्मकता और इसके भाव में भरोसा करता है। अपने पूरे लेखन के द्वारा प्यार, शांति और भाईचारे को बनाये रखने के साथ ही उनको एक रखने और लोगों को और पास लाने के लिये उन्होंने अपना सबसे बेहतर प्रयास किया। अपनी कविताओं और कहानियों के माध्यम से प्यार और सौहार्द के बारे में उन्होंने अच्छे से बताया था। टैगोर के पूरे जीवन ने एक दूसरे से प्यार और सौहार्द के स्पष्ट विचार को भी उपलब्ध कराया। निम्न वक्तव्यों से उनका देश के प्रति समर्पण दिखायी देता है, “मेरा देश जो हमेशा भारत है, मेरे पितर का देश है, मेरे बच्चों का देश है, मेरे देश ने मुझे जीवन और मजबूती दी है”। और दुबारा, “मैं फिर से अवश्य भारत में पैदा होऊँगा”।


 

रबीन्द्रनाथ टैगोर पर निबंध 6 (400 शब्द)

रबीन्द्रनाथ टैगोर का जन्म भारत के कलकत्ता में 7 मई 1861 को देवेन्द्रनाथ टैगोर और शारदा देवी के घर हुआ था। उनका जन्म एक समृद्ध और सुसंस्कृत ब्राह्मण परिवार में हुआ था। इन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने घर पर निजी शिक्षकों के माध्यम से प्राप्त की और कभी स्कूल नहीं गये हालांकि उच्च शिक्षा के लिये इंग्लैंड गये थे। टैगोर 8 वर्ष की उम्र से ही कविता लिखने लगे थे। उनकी कविताएँ स्यूडोनिम भानुसिंहों के तहत प्रकाशित हुयी जब वो केवल 16 वर्ष के थे। कानून की पढ़ाई करने के लिये 1878 में वो इंग्लैंड चले गये हालांकि बिना पढ़ाई को पूरा किये वापस भारत लौट आये क्योंकि उन्हें एक कवि और लेखक के रुप में आगे बढ़ना था।

इंग्लैंड से लंबी समुद्री यात्रा के दौरान उन्होंने अपने कार्य गीतांजलि को अंग्रेजी में अनुवादित किया। जिस वर्ष गीतांजलि का प्रकाशन हुआ था उसी वर्ष के समय उन्हें साहित्य के लिये नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्होंने अपने लेखन में भारतीय संस्कृति की रहस्यवाद और भावनात्मक सुंदरता को दिखाया जिसके लिये पहली बार किसी गैर-पश्चिमी व्यक्ति को इस प्रतिष्ठित सम्मान से नवाज़ा गया। एक प्रसिद्ध कवि होने के साथ ही साथ, वो एक प्रतिभाशाली लेखक, उपन्यासकार, संगीतकार, नाटक लेखक, चित्रकार और दर्शनशास्त्री थे। कविता और कहानी लिखने के दौरान कैसे भाषा पर नियंत्रण रखना है इसकी उन्हें अच्छे से जानकारी थी। वो एक अच्छे दर्शनशास्त्री थे जिसके माध्यम से स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान भारतीय लोगों की बड़ी संख्या को उन्होंने प्रभावित किया।

भारतीय साहित्य के लिये उनका योगदान बहुत बड़ा और अविस्मरणीय है। उनके रबीन्द्रसंगीत में दो गीत बहुत प्रसिद्ध हुए क्योंकि वो दो देशों के राष्ट्रगान हैं “जन मन गण” (भारत का राष्ट्रगान) और “आमार सोनार बांग्ला” (बांग्लादेश का राष्ट्रगान)। उनकी रचनात्मक लेखन, चाहे वो कविता या कहानी के रुप में हों, आज भी उसे कोई चुनौती नहीं दे सकता। शायद वो पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने अपने असरदार लेखन से पूरब और पश्चिम के बीच की दूरी को कम कर दिया।

उनकी एक और रचना ‘पूरवी’ थी जिसमें उन्होंने सामाजिक, नैतिक, सांस्कृतिक, धार्मिक, राजनीतिक आदि जैसे बहुत सारे विषयों के तहत संध्या और सुबह के गीतों को दर्शाया है। 1890 में उनके द्वारा मनासी लिखा गया था जिसमें उन्होंने कुछ सामाजिक और काव्यात्मक कविताओं को संग्रहित किया था। उनके ज़्यादतर लेखन बंगाली लोगों के जीवन पर आधारित होते थे। उनकी एक दूसरी रचना ‘गलपगुच्छा’ थी जिसमें भारतीय लोगों की गरीबी, पिछड़ापन और निरक्षरता पर आधारित कहानियों का संग्रह था। उनकी दूसरी कविता संग्रह जैसे सोनार तारी, कल्पना, चित्रा, नैवेद्या आदि और गोरा, चित्रांगदा और मालिनी, बिनोदिनी और नौका डुबाई, राजा और रानी आदि जैसे उपन्यास हैं। वो बहुत ही धार्मिक और आध्यात्मिक पुरुष थे जिन्होंने मुश्किल वक्त़ में दूसरों की बहुत मदद की। वो एक महान शिक्षाविद् थे इस वजह से उन्होंने एक शांति का निवास-स्थान, शांतिनिकेन नाम के एक अनोखी यूनिवर्सिटी की स्थापना की। भारत की स्वतंत्रता को देखे बिना ही रबीन्द्रनाथ टैगोर 7 अगस्त 1941 को दुनिया से चल बसे।

 

rabindranath tagore biography,

rabindranath tagore information,

rabindranath tagore family,

rabindranath tagore works,

rabindranath tagore wikipedia,

rabindranath tagore poems,

rabindranath tagore biography in bengali,

rabindranath tagore biography in english,

 

Short Essay on ‘Rabindranath Tagore’ in Hindi | ‘Gurudev Rabindranath Tagore’ par Nibandh (140 Words)

 

Short Essay on ‘Jaishankar Prasad’ in Hindi | ‘Jaishankar Prasad’ par Nibandh (110 Words)

Short Essay on ‘Jaishankar Prasad’ in Hindi | ‘Jaishankar Prasad’ par Nibandh (110 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Jaishankar Prasad’ in Hindi | ‘Jaishankar Prasad’ par Nibandh (110 Words)

जयशंकर प्रसाद

‘जयशंकर प्रसाद’ का जन्म 30 जनवरी, 1889 ई० में उत्तर प्रदेश, भारत के वाराणसी के एक संभ्रांत वैश्य परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम बाबू देवकी प्रसाद था जो सुंघनी साहू के नाम से प्रसिद्द थे। इनकी प्रारंभिक शिक्षा घर पर ही हुई। इन्होने घर पर ही रहकर संस्कृत, हिंदी, फ़ारसी और उर्दू का अध्ययन किया। प्रसादजी को किशोरावस्था में ही पारिवारिक उत्तरदायित्व भी संभालना पड़ा।

जयशंकर प्रसाद एक प्रसिद्द कवि, नाटककार एवं कथाकार थे। ‘कामायनी’, ‘आँसू’, ‘झरना’ एवं ‘लहर’ आदि इनकी प्रसिद्द काव्य-कृतियां हैं। इनके प्रमुख नाटक ‘अजातशत्रु’, ‘ध्रुवस्वामिनी’ एवं ‘चन्द्रगुप्त’ आदि हैं। प्रसादजी ने अनेक प्रसिद्द कहानियां भी लिखी हैं। 14 जनवरी, 1937 को जयशंकर प्रसाद का निधन हुआ।

Short Essay on ‘Jaishankar Prasad’ in Hindi | ‘Jaishankar Prasad’ par Nibandh (110 Words)

 

Short Essay on ‘Makhanlal Chaturvedi’ in Hindi | ‘Makhanlal Chaturvedi’ par Nibandh (135 Words)

Short Essay on ‘Makhanlal Chaturvedi’ in Hindi | ‘Makhanlal Chaturvedi’ par Nibandh (135 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Makhanlal Chaturvedi’ in Hindi | ‘Makhanlal Chaturvedi’ par Nibandh (135 Words)

माखनलाल चतुर्वेदी

‘माखनलाल चतुर्वेदी’ का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश, भारत के होशंगाबाद जिले के बावई नामक गाँव में हुआ था। प्राथमिक शिक्षा के पश्चात इन्होने घर पर रहकर ही संस्कृत, बंगला, गुजराती, अंग्रेज़ी आदि भाषाओँ का अध्ययन किया। 1931 ई० में मासिक पत्रिका ‘प्रभा’ का संपादन किया। फिर ये सक्रिय रूप से राष्ट्रीय आंदोलन से जुड़ गए।

माखनलाल चतुर्वेदी के काव्य का मूल स्वर राष्ट्रीयता है। इसमें त्याग, बलिदान, कर्त्तव्य-भावना और समर्पण का भाव है। इनकी कविताओं में कहीं पौरुष की हुंकार है तो कहीं करुणा से भरी मनुहार है। इनकी भाषा ओजगुण से युक्त है। ‘हिमकिरीटिनी’ और ‘हिम तरंगिनी’ इनके प्रमुख कविता संग्रह हैं। इन्होने नाटक, कहानी, निबंध और संस्मरण आदि भी लिखे हैं। वर्ष 1955 में इन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार प्रदान किया गया। माखनलाल चतुर्वेदी का निधन 80 वर्ष की आयु में 30 जनवरी, 1968 को हुआ।

Short Essay on ‘Makhanlal Chaturvedi’ in Hindi | ‘Makhanlal Chaturvedi’ par Nibandh (135 Words)

 

Short Essay on ‘Bhagwati Charan Verma’ in Hindi | ‘Bhagwati Charan Verma’ par Nibandh (160 Words)

Short Essay on ‘Bhagwati Charan Verma’ in Hindi | ‘Bhagwati Charan Verma’ par Nibandh (160 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Bhagwati Charan Verma’ in Hindi | ‘Bhagwati Charan Verma’ par Nibandh (160 Words)

भगवती चरण वर्मा

‘भगवती चरण वर्मा’ का जन्म शफीपुर, जिला उन्नाव, उत्तर प्रदेश, भारत में 30 अगस्त, 1903 में हुआ था। उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से बी०ए०, एल०एल०बी० की परीक्षा उत्तीर्ण की। भगवती चरण वर्मा ने शिक्षा समाप्त करने के बाद वकालत की लेकिन बाद में फ़िल्म, आकाशवाणी और सम्पादन कार्य से जुड़ गए। भगवती चरण वर्मा हिन्दी के प्रसिद्ध साहित्यकार थे।

भगवती चरण वर्मा ने अनेक उपन्यास लिखे हैं। ‘चित्रलेख’ उपन्यास पर बनी फ़िल्म से इनको अत्यधिक ख्याति मिली। 1961 ईo में उनको ‘भूले बिसरे चित्र’ महाकाव्य के लिए ‘साहित्य अकादमी’ पुरस्कार मिला। साथ ही, 1971 में भारत का सर्वोच्च सम्मान ‘पद्म-भूषण’ भी उनको मिला और 1978 में वे राज्य सभा के लिए मनोनीत हुए। भगवती चरण वर्मा की प्रमुख रचनाएँ निम्न हैं- मधुकरण, प्रेम-संगीत, मानव, रंगों से मोह, पतन, चित्रलेख, तीन वर्ष, इंस्टालमेंट, दो बाँके, एक दिन, टेढ़े-मेढ़े रास्ते, हमारी उलझन, भूले-बिसरे चित्र आदि। भगवती चरण वर्मा का निधन 5 अक्टूबर, 1981 को हुआ।

Short Essay on ‘Bhagwati Charan Verma’ in Hindi | ‘Bhagwati Charan Verma’ par Nibandh (160 Words)