August 14, 2018 | Hindigk50k

Short Essay on ‘Camel’ in Hindi | ‘Oont’ par Nibandh (100 Words)

Short Essay on ‘Camel’ in Hindi | ‘Oont’ par Nibandh (100 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Camel’ in Hindi | ‘Oont’ par Nibandh (100 Words)

ऊँट

‘ऊँट’ एक विशाल जानवर होता है। इसके एक बड़ा उभार होता है। इसके पैर बहुत लम्बे होते हैं। इसकी गर्दन लम्बी होती है। इसके पेट में एक बड़ी सी थैली होती है। ऊँट को ‘रेगिस्तान का जहाज’ भी कहा जाता है।

ऊँट एक बहुत उपयोगी जानवर होता है। यह बहुत वफादार होता है एवं अपने धैर्य के लिए प्रसिद्द है। यह रेगिस्तान में आसानी से चल एवं दौड़ सकता है। यह अपने शरीर के उभार में अधिक मात्रा में पानी एकत्र कर सकता है। जिस कारण यह काफी दिन तक बगैर पानी के रह सकता है। यह गाड़ी खींचने एवं बोझा उठाने के काम आता है। ऊँट का उपयोग कृषि कार्य एवं पानी खींचने में भी किया जाता है।

 

 

long essay on camel,

autobiography of a camel essay,

5 sentences about camel in english,

camel essay in hindi,

short paragraph on camel in english,

write an autobiography of a camel,

essay on camel in punjabi,

autobiography of animal camel,

Short Essay on ‘Lion’ in Hindi | ‘Sher’ par Nibandh (100 Words)

Short Essay on ‘Lion’ in Hindi | ‘Sher’ par Nibandh (100 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Lion’ in Hindi | ‘Sher’ par Nibandh (100 Words)

शेर

‘शेर’ एक जंगली जानवर है। इसका शरीर बहुत मजबूत होता है। इसके चार पैर होते हैं। इसका सिर बड़ा होता है। इसकी आँखें देखने में चमकदार दिखती हैं। इसके जबड़े मजबूत एवं दांत काफी पैने होते हैं। इसका शरीर छोटे स्लेटी/ भूरे रंग के बालों से ढंका रहता है।

शेर को ‘जंगल का राजा’ कहा जाता है। इसकी वाह्याकृति बहुत भव्य होती है। शेर मांस खाता है। यह काफी तेज दौड़ सकता है। शेर की दहाड़ (गर्जना) बहुत प्रसिद्द है। यह बहुत तेज दहाड़ता है। शेर जंगल में पाया जाता है। इसके पंजे काफी मजबूत होते हैं। शेर बाघ की तुलना में कम क्रूर होता है।

 

lion the king essay,

essay on lion for class 3,

short essay on tiger,

five sentence about lion in english,

lion essay in hindi,

few lines on lion in english for class 1,

essay on king of jungle,

if i was a lion essay,

Short Essay on ‘Tiger’ in Hindi | ‘Bagh’ par Nibandh (100 Words)

Short Essay on ‘Tiger’ in Hindi | ‘Bagh’ par Nibandh (100 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Tiger’ in Hindi | ‘Bagh’ par Nibandh (100 Words)

बाघ

‘बाघ’ भारत का राष्ट्रीय पशु है। इसका शरीर काफी मजबूत होता है। बाघ का रंग पीला/ हल्का भूरा होता है जिस पर काली धारियां होती हैं। इसकी पूंछ लम्बी होती है। इसके चार पैर होते हैं। इसके दांत बड़े एवं पैने होते हैं। इसके पंजों में नुकीले नाख़ून होते हैं।

बाघ बिल्ली के परिवार से सम्बद्ध होता है। यह एक बहुत बड़ी बिल्ली की भांति दिखता है। बाघ सामान्यतया जंगल में पाया जाता है। इसको खून व मांस बहुत पसंद है। यह बहुत ही हिंसक एवं क्रूर जानवर होता है।

भारत में बाघ का शिकार भारत सरकार द्वारा पूर्णतया प्रतिबंधित कर दिया गया है। हम बाघ को चिड़ियाघर एवं सर्कस में देख सकते हैं।

 

 

short essay on save tigers,

national animal tiger essay,

essay on tiger for class 2,

if i were a tiger essay,

some lines about tiger in english,

essay on save tiger project,

very short essay on save tigers,

our national animal tiger,

Short Essay on ‘Peacock’ in Hindi | ‘Mor’ par Nibandh (120 Words)

Short Essay on ‘Peacock’ in Hindi | ‘Mor’ par Nibandh (120 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Peacock’ in Hindi | ‘Mor’ par Nibandh (120 Words)

मोर

‘मोर’ भारत का राष्ट्रीय पक्षी है। यह एक बड़ा पक्षी है एवं इसके आकर्षक रंगीन पंख काफी लम्बे होते हैं। मोर के सर पर मुकुट जैसी खूबसूरत कलंगी होती है। इसकी लम्बी गर्दन पर सुन्दर नीला मखमली रंग होता है। यह भारत के सभी क्षेत्रों में पाया जाता है।

मोर नुकसानदायक कीट-पतंगों को खाता है और इसलिए यह किसानों का अच्छा मित्र होता है। मोर शब्द पुल्लिंग है तथा स्त्रीलिंग को मोरनी कहते हैं। मोर का नृत्य बहुत प्रसिद्द है। मयूर नृत्य समूह में किया जाता है। नृत्य के समय मोर अपने पंख फैला कर बडा सुन्दर मगर धीमी गति का नृत्य करता है।

मोर का शिकार भारत में पूर्णतया प्रतिबंधित है। इसे भारतीय वन्य-जीवन (संरक्षण) अधिनियम, 1972 के तहत पूर्ण संरक्षण दिया गया है।

 

my favourite bird essay,

if i were a peacock essay in english,

my favourite bird peacock essay in english,

essay on peacock in hindi,

autobiography of a peacock bird,

10 lines on peacock in english,

peacock essay in tamil,

about peacock bird,

Short Essay on ‘Goat’ in Hindi | ‘Bakari’ par Nibandh (100 Words)

Short Essay on ‘Goat’ in Hindi | ‘Bakari’ par Nibandh (100 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Goat’ in Hindi | ‘Bakari’ par Nibandh (100 Words)

बकरी

‘बकरी’ एक उपयोगी पशु है। बकरी को अति प्राचीन काल से ही पालतू पशु के रूप में मनुष्य द्वारा प्रयोग किया जाता रहा है। बकरी के चार संभाग पेट होता है। इसकी पूंछ छोटी और ऊपर उठी होती है।

भारत देश में बकरी बहुत प्रचलित पशु है। यह जीवित रहने के दौरान एवं मृत्यु के पश्चात् भी बहुत उपयोगी है। हमको बकरी से दूध प्राप्त होता है। बकरी का दूध बहुत पौष्टिक होता है। नवजात शिशुओं के लिए बकरी का दूध बहुत लाभकारी होता है। पहाड़ में बकरियां बोझा ढोने के काम भी आती हैं। बकरियों के सींग का प्रयोग कई वस्तुओं को बनाने में किया जाता है।

 

 

essay on goat for class 1,

5 lines on goat in hindi,

essay on sheep,

goat animal information,

5 sentences about goat in hindi,

essay on goat in hindi,

all about goats,

essay on horse,

Short Essay on ‘Pigeon’ in Hindi | ‘Kabutar’ par Nibandh (100 Words)

Short Essay on ‘Pigeon’ in Hindi | ‘Kabutar’ par Nibandh (100 Words) Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Pigeon’ in Hindi | ‘Kabutar’ par Nibandh (100 Words)

कबूतर

‘कबूतर’ एक सुन्दर पक्षी है। यह सम्पूर्ण विश्व में पाया जाता है। यह एक नियततापी, उड़ने वाला पक्षी है जिसका शरीर परों से ढका रहता है। इसके मुँह के स्थान पर इसकी छोटी नुकीली चोंच होती है। इनकी चोंच और माथे के बीच त्वचा की झिल्ली होती है। कबूतर बीज, दाने, अनाज, मेवे एवं दालें इत्यादि खाता है।

कबूतर एक शांत स्वभाव वाला पक्षी है। कबूतर कई प्रकार के होते हैं। भारत में यह सफेद और स्लेटी रंग के होते हैं। पुराने जमाने में इसका प्रयोग पत्र और चिट्ठियां भेजने के लिये किया जाता था। कबूतरों को शांति का प्रतीक और सौभाग्य का सूचक माना जाता है।

 

10 lines on pigeon,

pigeon bird information in english,

essay on dove bird,

5 sentences about pigeon in hindi,

essay about pigeon bird,

5 sentences about sparrow in english,

my favourite bird peacock essay,

essay on pigeon in kannada,

Short Essay on ‘Cat’ in Hindi | ‘Billi’ par Nibandh in hindi (200 Words)

Short Essay on ‘Cat’ in Hindi | ‘Billi’ par Nibandh in hindi (200 Words)  Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Cat’ in Hindi | ‘Billi’ par Nibandh in hindi (200 Words)

बिल्ली

‘बिल्ली’ एक छोटा एवं चंचल सा पालतू पशु है। उसके चार छोटे पैर और एक सुंदर प्यारी पूंछ होती है। बिल्ली के पंजे और दांत बहुत तेज होते हैं। बिल्ली दिखने में छोटे बाघ जैसी दिखती है। इसके शरीर पर मुलायम और रेशमी बाल होते हैं। इसकी आंखों का रंग भूरा होता है।

बिल्लियां विश्व भर में पायी जाती हैं। यह उन पालतू पशुओं में से एक है जो सबसे ज्यादा पाले जाते हैं। कुछ लोग बिल्लियों को घरों में पालते हैं तो वहीं कुछ लोग बिल्लियों को अपशगुन भी मानते हैं। बिल्ली अमेरिका का सबसे लोकप्रिय पालतू पशु है।

बिल्लियां आरामप्रिय होती हैं। यह दिन में 13 से 14 घंटे सोती हैं। इस प्रकार बिल्ली दिन का दो तिहाई हिस्सा केवल सोने में बिता देती है। इसके सूँघने की शक्ति बहुत ज्यादा होती है। इसकी आँखें बहुत तेज होती हैं और यह अंधेरे में भी साफ-साफ देख लेती है। बिल्ली काफी ऊँचाई से गिर जाये तो भी उसे चोट नहीं लगती क्योंकि उसका शरीर बहुत लचीला होता है।

हास्यापद है कि आज भी अंधविश्वास के कारण बिल्ली का रास्ता काटना बुरा माना जाता है तथा कई बार बिल्ली के रास्ता काट जाने पर लोग वापस भी लौट जाते हैं।

 

 

cat essay topics,

my pet cat essay for class 4,

my pet cat story,

essay on cat in 200 words,

my favorite animal is cat,

my favorite pet essay,

my favorite animal is cat because,

my pet cat essay for class 6,

Short Essay on ‘Horse’ in Hindi | ‘Ghoda’ par Nibandh in hindi

Short Essay on ‘Horse’ in Hindi | ‘Ghoda’ par Nibandh in hindi Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Horse’ in Hindi | ‘Ghoda’ par Nibandh in hindi

घोड़ा

‘घोड़ा’ एक पालतू पशु है जो प्राचीन समय से मनुष्य की किसी न किसी रूप में सेवा करता आया है। यह Equidae कुटुंब का सदस्य है। इस कुटुंब में घोड़े के साथ-साथ गधा, जेबरा, टटटू एवं खच्चर भी आते हैं।

घोड़े को लगभग 5000 वर्ष पहले मनुष्य ने पहली बार पालना शुरू किया था। अंग्रेजी में नर घोड़े को ‘Stallion’ और मादा घोड़ी को ‘Mare’ कहते हैं। इसी प्रकार युवा घोड़े को अंग्रेजी में ‘Colt’ और युवा घोड़ी को ‘Filly’ कहते हैं।

घोड़े पूरी दुनिया में पाए जाते हैं। ये कई रंग और नस्ल के होते हैं। यह एक शक्तिशाली जानवर है जो बिना रुके कई घंटो तक दौड़ सकता है। यह सिर्फ नाक से सांस लेते हैं, मुंह से सांस नहीं लेते।

घोड़ा एक शाकाहारी पशु है। यह घास, भूसा एवं अनाज खाता है। इसे चना बहुत पसंद है जो इसकी ताकत का प्रमुख स्त्रोत है। यह मैदानों में हरी घास चरता है और अपने मालिक के द्वारा दिया गया खाना खाता है।

घोड़ा बोझा ढोने, सवारी करने और गाड़ी खींचने के काम में आता है। प्राचीन समय में घोड़े ही मनुष्य के आवागमन का साधन हुआ करते थे। पुराने समय में घोड़ा लड़ाई के काम में भी आता था। कुछ देशों में घोड़ों से खेत जोतने का काम भी लिया जाता है।

 

 

 

horse essay topics,

essay on horse for class 9,

essay on horse for class 7,

my favourite animal horse,

if i were a horse essay,

short paragraph on horse,

essay on horse riding,

10 lines on horse,

Short Essay on ‘Turtle’ in Hindi | ‘Kachhua’ par Nibandh in hindi

Short Essay on ‘Turtle’ in Hindi | ‘Kachhua’ par Nibandh in hindi Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

Short Essay on ‘Turtle’ in Hindi | ‘Kachhua’ par Nibandh in hindi

कछुआ

‘कछुआ’ एक प्रकार का प्राणी है, जो जल और स्थल दोनों स्थानों में पाया जाता है। इसके शरीर के मुख्य भाग को इसकी पसलियों से विकसित हुए ढाल जैसे कवच से पहचाना जाता है। जल और स्थल के कुछए तो भिन्न होते ही हैं, मीठे तथा खारे जल के कछुओं की भी पृथक जातियाँ होती हैं।

कछुए की चार टाँगें होती हैं तथा लंबी गरदन बाहर निकली रहती है। इसका गोल शरीर कड़े डिब्बे जैसे आवरण से ढका रहता है। कछुओं का ऊपरी भाग प्राय: उभरा हुआ और निचला भाग चपटा रहता है। कुछ कछुओं का ऊपरी भाग चिकना रहता है।

कछुआ धीरे–धीरे विलुप्त होने की कगार पर हैं। यदि इनके प्रति लोगों में जागरूकता नही फैलायी गयी तो यह प्रजाति पूरी तरह से ख़त्म हो सकती है। कछुओं की प्रजाति विश्व की सबसे पुरानी जीवित प्रजातियों (लगभग 200 मिलियन वर्ष) में से एक मानी जाती है।

माना जाता है कि ये प्राचीन प्रजातियां स्तनधारियों, चिड़ियों, सांपों और छिपकलियों से भी पहले धरती पर अस्तित्व में आ चुके थे। जीव वैज्ञानिकों के मुताबिक, कछुए इतने लंबे समय तक सिर्फ इसलिए खुद को बचा सके क्योंकि उनका कवच उन्हें सुरक्षा प्रदान करता है।

कछुआ को बचाने के लिए ‘विश्व कछुआ दिवस’ प्रत्येक वर्ष 23 मई को सम्पूर्ण विश्व में मनाया जाता है। विश्व कछुआ दिवस मनाने का उद्देश्य लोगों का ध्यान कछुओं की तरफ आकर्षित करने और उन्हें बचाने के लिए किए जाने वाले मानवीय प्रयासों को प्रोत्साहित करना है। इस दिन वन विभाग द्वारा जगह-जगह कार्यशाला आयोजित की जाती हैं।

essay on my pet turtle,

short essay on tortoise,

essay on pet turtle,

few lines about turtle,

about tortoise in simple english,

10 lines on turtle,

my favourite animal tortoise,

make sentence with tortoise,

‘My Mother’ Short Essay on in Hindi | ‘Mata ji’ par Hindi Nibandh

‘My Mother’ Short Essay on in Hindi | ‘Mata ji’ par Hindi Nibandh  Hindi Essay in 100-200 words, Hindi Essay in 500 words, Hindi Essay in 400 words, list of hindi essay topics, hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essay topics for college students, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8

‘My Mother’ Short Essay on in Hindi | ‘Mata ji’ par Hindi Nibandh

मेरी माँ My Mother Meri MAA

मेरे जीवन में सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति ‘मेरी माँ’ हैं। वह मेरे लिए सब कुछ करती हैं। वह बहुत प्यारी और मेरा बहुत ख्याल रखने वाली महिला हैं। मेरी माँ एक गृहिणी हैं। वह उन लोगों में से एक है जिनका मैं बहुत सम्मान करती हूँ और सबसे ज्यादा प्यार करती हूँ। मेरे लिए मेरी माँ दुनिया की सबसे अच्छी माँ हैं।

मेरी माँ एक दयालु महिला हैं। वह अपने व्यस्त कार्यक्रम से मुझे समय देती हैं। वह मुझे अध्ययन में मदद करती हैं और यहां तक कि मेरे साथ खेलती भी हैं। मेरी माँ मुझे किसी और से ज्यादा सिखाती हैं। वह बहुत संघर्ष करती हैं लेकिन कभी भी अपना धैर्य नहीं खोतीं और हमेशा अपने आप में विश्वास करती हैं। उन्होंने न केवल मुझे जीवन में कठिनाइयों को दूर करने की ताकत के लिए प्रेरित किया, बल्कि मुझे जीवन के मूल्यवान सबक भी प्रदान किए।

मेरी माँ ने मुझे रामायण, महाभारत आदि धार्मिक ग्रन्थों का पाठ पढ़ाया और महापुरुषों की कहानियाँ भी सुनायीं। उनकी सोंचने समझने की शक्ति बहुत अच्छी है। वह घर का खर्च भी अच्छी तरह चलाती हैं। घर में सुबह सबसे पहले उठती हैं और सबको सुलाने के बाद ही सोती हैं। वह हमारी पढाई का भी बहुत ध्यान रखती हैं। विद्यालय में जाकर हमारी कक्षा अध्यापिका से मिलतीं और हमारी पढ़ाई की प्रगति के बारे में जानकारी लेती रहती हैं।

मेरी माँ ने हमेशा मुझे मेरे लिए सही रास्ता दिखाया। वह एक मेहनती महिला हैं। वह हमेशा मुझे ज़रूरत में मदद करती हैं। वह मुझे बहुत प्यार करती हैं और जो कुछ भी मैं करती हूँ या करने की सोंचती हूँ, मुझे समर्थन देती हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि वह मेरी मदद करती हैं और मुझे मालूम है की भविष्य में वह ऐसा फिर करेंगी, क्योंकि दूसरों की तुलना में वह मुझसे सबसे ज्यादा प्यार करती हैं। मैं यह समझती हूँ कि हमारे घर को सुख-पूर्वक चलाने में मेरी माँ की बहुत बड़ी भूमिका है । मुझे मेरी माँ पर गर्व है।

 

error: