स्वतंत्रता दिवस हिन्दी निबंध-Essay On Independence Day-हिन्दी निबंध - Essay in Hindi | Hindigk50k

स्वतंत्रता दिवस हिन्दी निबंध-Essay On Independence Day-हिन्दी निबंध – Essay in Hindi

स्वतंत्रता दिवस हिन्दी निबंध-Essay On Independence Day-हिन्दी निबंध – Essay in Hindi Here we are providing you this essay in hindi हिन्दी निबंध  which will help in hindi essays for class 4, hindi essays for class 10,  hindi essays for class 9,  hindi essays for class 7, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8.

पंद्रह अगस्त एवं छब्बीस जनवरी दो ऐसे राष्ट्रीय पर्व हैं जिन्हें सम्पूर्ण देश बड़े ही धूम – धाम से मनाता है . पंद्रह
अगस्त को हमें आजादी मिली थी . इसीलिए इसे स्वतंत्रता दिवस भी कहते हैं

वर्णन :

स्वतंत्रता दिवस पूरे देश के लिए गौरव का दिवस है . इस दिवस को मनाने के लिए महीनों पहले आयोजन होने लगता है . दिल्ली में तो इस दिवस को मनाने के लिए पूरे देश से सैनिक जाते हैं . पूरे भारत में सभाएँ होती हैं . इस दिन सुबह से ही बड़े भवनों पर तिरंगे झंडे पहराने लगते हैं . प्रातः काल ही सड़कों पर प्रभात फेरियाँ होने लगती है ,भारत माता की जय से सम्पूर्ण देश गूँज उठता है . बड़े बड़े शहरों में सैनिक परेड होती हैं . देश की प्रत्येक राजनीतिक पार्टियाँ तरह – तरह के आयोजन करती हैं . इस अवसर पर देश भक्ति के गाने ,नाटक एवं प्रहसन किये जाते हैं . स्कूलों ,विद्यालयों एवं कॉलेजों में सभाएँ होती हैं . यह दिन प्रतिज्ञा का दिन है . हम सभी एक झंडे के नीचे देश की शान एवं समृधि के लिए आयोजन करते हैं . राष्ट्रपति का सन्देश रेडियो एवं टेलीवीजन द्वारा प्रसारित किया जाता है .

महत्व :

पंद्रह अगस्त देशवासियों के लिए बहुत ही महत्व का दिन है . इस दिन हम अंग्रेजों के अत्याचार एवं देश वासियों के अद्भुत त्याग को याद करते हैं . इसी दिन हम गांधी जी ,सुभाष बाबु ,भगत सिंह ,नेहरु जी , सरदार पटेल आदि का स्मरण करते हैं . यह वही दिन है जब एक झंडे के नीचे हम सब एक होकर देश की रक्षा की प्रतिज्ञा करते हैं . इसे मनाने से लोगों के अन्दर राष्ट्रीय प्रेम की भावना का विकास होता है . इस दिन को प्राप्त करने के लिए कितने घर जला दिए गए .कितने लोग फाँसी पर झूल गए . उन्हें भुलाना ठीक नहीं .

कमी :

१५ अगस्त १९४७ के बाद हम हर साल इस त्यौहार को मनाते हैं . हमलोग केवल भाषण एवं नारे देकर ही संतोष कर लेते हैं .

उपसंहार :

स्वतंत्रता हर व्यक्ति के लिए एक नयी प्रेरणा लेकर आती है . हमें स्वार्थ को छोड़कर देश की गरिमा बढ़ाने में लग जाना चाहिए . यह स्वतंत्रता बहुत बहुमूल्य है .अतः हमें इसकी रक्षा का प्रयास प्राण देकर भी करना चाहिए .

Comments

comments

Leave a Comment