सबके मन की बात | Akbar Birbal ke Kisse | अकबर-बीरबल के रोचक और मजेदार किस्से #07 | Hindigk50k

सबके मन की बात | Akbar Birbal ke Kisse | अकबर-बीरबल के रोचक और मजेदार किस्से #07

सबके मन की बात | Akbar Birbal ke Kisse | अकबर-बीरबल के रोचक और मजेदार किस्से #07

अकबर बीरबल के किस्से से हिंदी मैबीरबल के छोटे किस्से,  अकबर बीरबल के सवाल जवाबकिस्से कहानियांअकबर बीरबल video,  अकबर बीरबल बुद्धिमता की कहानियाँ,  अकबर बीरबल short stories, बीरबल की चतुराई के किस्से

एक बार दरबार में एक सभासद ने बादशाह अकबर से कहा – जहाँपनाह ! ऐसा कौन सा प्रश्न है ,जो हम नहीं बता सकते और बीरबल बता सकता है ?
बादशाह ने मन में सोचा कि इसको बीरबल से नीचा दिखाऊंगा . यह सोचकर उन्होंने कहा – अच्छा बताओ इस समय लोगों के मन में क्या है ?
वह सभासद बोला – हुजूर ! यह बात तो सिवाय खुदा के और कोई नहीं बता सकता ,बीरबल बता दें तो हम जाने .
उसी समय बीरबल बुलाये गए . उनके सामने भी यही प्रश्न रखा गया . उन्होंने तुरंत ही कहा इस समय सबके मन में यही बात है कि यह दरबार सदा इसी तरह भरा रहे और बादशाह सलामत सदा जिंदा रहें .
सभी ने उनकी बात को मान लिया , क्योंकि अस्वीकार करने पर मौत किसे बुलानी थी . बेचारा सभासद अपना सा मुँह लेकर रह गया . बादशाह अकबर जबाब को सुनकर बड़े प्रसन्न हुए और बीरबल को पुरस्कार भी दिया .

Comments

comments

Leave a Comment

error: