रिसाइक्लिंग पर निबंध-Essay On Recycling -हिन्दी निबंध – Essay in Hindi

रिसाइक्लिंग पर निबंध-Essay On Recycling -हिन्दी निबंध – Essay in Hindi  Here we are providing you  this -essay in hindi- हिन्दी निबंध -रिसाइक्लिंग पर निबंध-Essay On Recycling -हिन्दी निबंध – Essay in Hindi which will help in hindi essays for class 4, hindi essays for class 10,  hindi essays for class 9,  hindi essays for class 7, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8. 

essay on recycling of waste,  recycling essay introduction, essay about recycling benefits, recycling essay conclusion, why is recycling important to nature essay, essay on recycling of paper, why should we recycle essay, importance of recycling waste,

रिसाइक्लिंग पर निबंध-Essay On Recycling -हिन्दी निबंध – Essay in Hindi  

रीसाइक्लिंग कचरे को नई सामग्री या उत्पाद में बदलने की प्रक्रिया है। यह पर्यावरण की सुरक्षा और सार्वभौमिक कार्बन उत्सर्जन को कम करने का एक शानदार तरीका है। रीसाइक्लिंग का मतलब बेकार सामग्री को कुछ उपयोगी सामग्री में परिवर्तित करना है जैसे – ग्लास, पेपर, प्लास्टिक और एल्यूमीनियम तथा स्टील जैसी धातुएं आमतौर पर पुनर्नवीनीकरण की जाती हैं।

अगर हम अपनी भविष्य की पीढ़ियों के लिए इस दुनिया की रक्षा करना चाहते हैं तो रीसाइक्लिंग आवश्यक है। हम पुराने इस्तेमाल किए हुए उत्पादों से नए उत्पाद बनाते हैं। अपने पुराने उत्पादों को पुन: उपयोग और ना फेंकने से आप वास्तव में रीसाइक्लिंग कर रहे हैं। रीसाइक्लिंग से तात्पर्य कई आधुनिक अनुप्रयोगों के साथ एक पुरानी से प्रथा है जो प्राकृतिक वातावरण के साथ-साथ इंसानों के लिए महत्वपूर्ण है। यह इस्तेमाल उत्पादों से संसाधनों के पुनरुद्धार और पुन: उपयोग को संदर्भित करता है। पर्यावरण नीति में प्रमुख रूप से रीसाइक्लिंग का हिस्सा है। यह मुख्य रूप से ठोस और खतरनाक अपशिष्ट निपटान, प्राकृतिक संसाधनों की कमी और प्रदूषित भूमि, जल और वायु पर बढ़ती चिंता की बढ़ती लागतों के कारण है। हमने आपकी परीक्षा में इस विषय के साथ आपकी मदद करने के लिए विभिन्न लंबाई के रीसाइक्लिंग पर निबंध उपलब्ध करवाए हैं। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी भी रीसाइक्लिंग निबंध का चयन कर सकते हैं:

रिसाइक्लिंग पर लम्बे और छोटे निबंध (Essay on Recycling in Hindi)

रिसाइक्लिंग पर निबंध 1 (200 शब्द) (Essay on Recycling in Hindi 200 words)

रीसाइक्लिंग के इतिहास पर नज़र डाले तो यह प्रक्रिया 1900 में शुरू हुई थी जब लोगों ने बर्तन, धूपदान और अन्य धातुओं को पिघलाकर उनका पुनर्नवीनीकरण किया लेकिन जैसे जैसे अधिक प्लास्टिक उत्पाद बनते चले गए रीसाइक्लिंग शब्द की परिभाषा में जटिलता बढ़ गई और इसे दूर करने के लिए कोड तैयार किए गए। इस प्रकार रीसाइक्लिंग कोड महत्वपूर्ण हैं ताकि आपको पता चल जाए कि रीसाइकल  क्या है। आज रीसाइक्लिंग पहले से भी कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। प्रोत्साहन कार्यक्रम लोगों को अधिक जागरूक और पर्यावरण की मदद करने के लिए मदद कर रहे हैं। रीसाइक्लिंग पूरे विश्व में की जाती है। कई देशों में कुछ प्रोग्राम रीसाइक्लिंग उत्पादों के लिए आपको भुगतान करते हैं। रीसाइक्लिंग रीड्यूस, रीयूज़ और रीसायकल का तीसरा ‘र’ है। जब आप रीसाइक्लिंग और पर्यावरण को साफ करने के लिए अपना योगदान देते हैं तो निम्न बातों को ध्यान में रखें:

  1. जब आपको किसी चीज़ की ज़रूरत नहीं है तो उसे ना ख़रीदे। ऐसा करके आप उसे व्यर्थ होने से बचा रहे हैं।
  2. अगर चीज़ खरीदने की ज़रूरत है तो उस चीज़ को ख़रीदे जिसकी कम मात्रा में पैकिंग हो। उस उत्पाद का पुन: उपयोग किया जा सकता है। उत्पाद वो खरीदें जो पर्यावरण के अनुकूल हैं।
  3. पुनर्नवीनीकरण सामग्री से बने उत्पादों को खरीदने की कोशिश करें। कागज और प्लास्टिक पुनर्नवीनीकरण उत्पादों के कुछ उदाहरण हैं।

कुछ भी फेंकने से पहले उस चीज़ को पुनः उपयोग करने का तरीका सोचें। प्लास्टिक के कंटेनरों का इस्तेमाल फ्रिज में सामानों को स्टोर करने के लिए किया जा सकता है। पुरानी वस्तुएं धर्मार्थ संगठनों को दी जा सकती हैं जहां उनका उपयोग किया जा सकता है। बगीचों में डिब्बे और कंटेनरों का उपयोग फूलों के बर्तन के रूप में किया जा सकता है।


 

रिसाइक्लिंग पर निबंध 2 (300 शब्द) (Essay on Recycling in Hindi 300 words)

प्रस्तावना

रीसाइक्लिंग अतिरिक्त संसाधनों की आवश्यकता के बिना समाज को बहुत अधिक उपयोगी उत्पाद प्रदान करने के अलावा पर्यावरण का बचाव करने में मदद करता है। इसके महत्व को कई मायनों में देखा जा सकता है। जनता को इसके महत्व के बारे में शिक्षित करना आवश्यक है ताकि वे पूरे दिल से इसके प्रति अपना योगदान दें।

रिसाइक्लिंग क्यों महत्वपूर्ण है?

नीचे दिए कारणों में रीसाइक्लिंग सहायक हो सकती है:

  • रीसाइक्लिंग पृथ्वी को बचाता है – एक उत्पाद का पुनर्नवीनीकरण पर्यावरण को सुरक्षित रखने में मदद कर सकता है। उदाहरण के लिए कागज को रीसाइक्लिंग करने के कारण अधिक पेड़ों को काटे बिना पेपर उत्पादन का परिणाम हो सकता है।
  • पुनर्चक्रण ऊर्जा बचाता है – सामग्री से एक नया उत्पाद बनाने की अपेक्षा उसी उत्पाद को रीसाइक्लिंग करने से कम ऊर्जा खर्च होती है। उदाहरण के लिए नए एल्यूमीनियम उत्पाद को बनाने के लिए बहुत अधिक ऊर्जा खर्च होती है। इस प्रकार एक पुराने एल्यूमीनियम को फिर से रीसाइक्लिंग करके हम धातु का पुन: उपयोग कर सकते हैं और बड़ी ऊर्जा खर्च होने से बच सकते हैं जो पर्यावरण की सुरक्षा में मदद करती है।
  • रीसाइक्लिंग ग्लोबल वार्मिंग को कम करने और प्रदूषण को कम करने में मदद करता है – रीसाइक्लिंग के मुख्य लाभों में से एक ऊर्जा बचत है। कार्बन या ग्रीनहाउस गैसों, जो वातावरण के लिए बहुत हानिकारक है यदि वे उत्सर्जित हो जाती हैं, के कम उत्सर्जन में ऊर्जा की बचत के परिणाम देखने को मिलते हैं जो कि ऊर्जा उत्पादन द्वारा गठित उप-उत्पाद है।
  • लैंडफिल में रीसाइक्लिंग अपशिष्ट उत्पाद को कम कर देता है – अपशिष्ट जिसे पुनर्नवीनीकरण नहीं किया जा सकता वह आम तौर पर लैंडफिल में डाला जाता है। यहाँ कचरे को क्षय, सड़ांध या विघटित होने के लिए छोड़ दिया जाता है और यह पूरी तरह से विघटित करने के लिए कई साल ले सकता है। अधिक से अधिक कचरे को लैंडफिल में भेजा जा रहा है और यदि भविष्य में लैंडफिल भेजने की बजाए रीसाइक्लिंग नहीं की गई तो लैंडफिल की जगह हमारे घरों के ठीक पीछे हो सकती है।
  • रीसाइक्लिंग पैसे बचाने में मदद करता है – पुनर्नवीनीकरण वस्तुओं पर आमतौर पर कम लागत लगती है। पुरानी सामग्री और बहुत कम ऊर्जा का उपयोग करके पुनर्नवीनीकरण उत्पाद को बहुत कम राशि पर बेचा जा सकता है। इसके अलावा रीसाइक्लिंग के लिए बेकार कचरे को बेचना फ़ायदे का सौदा है।

निष्कर्ष

रीसाइक्लिंग घर पर भी की जा सकती है और इसे बच्चों को पोषण के समय एक अच्छी आदत के रूप में सिखाया जाना चाहिए। बायोडिग्रेडेबल अपशिष्ट को पौधों के लिए खाद के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

रिसाइक्लिंग पर निबंध 3 (400 शब्द) (Essay on Recycling in Hindi 400 words)

प्रस्तावना

पर्यावरण के लिए रीसाइक्लिंग आवश्यक है। इस अभ्यास को बढ़ावा देने के लिए सरकार को सिस्टम स्थापित करने में निवेश करना चाहिए। मनुष्य को भी बेकार सामग्री को रीसाईकल करने के लिए प्रयास करना चाहिए। रीसाइक्लिंग के महत्व पर कई बार जोर दिया गया है हालांकि अभी भी बहुत से लोग इससे बचना चाहते हैं।

कारण क्यों लोग रीसायकल नहीं करते?

  1. रीसाइक्लिंग असुविधाजनक है

रीसाइक्लिंग न करने के लिए किए गए सर्वेक्षण के अनुसार प्राथमिक कारण यह था कि लोगों को यह प्रथा सुविधाजनक या उनके हिसाब सरल नहीं लगी। उन्हें लगा कि उनको स्क्रैप डीलर या रीसाइक्लिंग सेंटर में अपने घरेलू अपशिष्ट को छोड़ने के लिए अतिरिक्त कदम उठाना होगा। कई अपार्टमेंट या सोसाइटी में पर्याप्त रीसाइक्लिंग डिब्बे नहीं हैं। जिसे कोई दिलचस्पी नहीं है वह सोचता है कि रीसाइक्लिंग का कोई कार्यक्रम नहीं है लेकिन यह सच नहीं है। जब तक आपको स्क्रैप डीलिंग केंद्र नहीं मिल जाता तब तक आपको रीसाइक्लिंग में थोड़ा प्रयास करना पड़ेगा।

  1. लोगों को रीसाइक्लिंग समझ नहीं आता

रीसाइक्लिंग न करने का एक अन्य कारण यह है कि लोग रीसाइकिल करने योग्य और रीसाइकिल ना करने योग्य उत्पादों के बीच अंतर करने में सक्षम नहीं हैं। उनके अनुसार रीसाइक्लिंग समझने योग्य प्रक्रिया नहीं है।

  1. कम जगह का होना

लोगों के पास आम तौर पर छोटे घर हैं और जगह की कमी कई लोगों के लिए एक मुद्दा है। वे अपने घर के आसपास कचरा देखना नहीं चाहते जहां जगह एक समस्या है।

  1. मैं केवल तभी रिसाइकिल करूँगा जब मुझे पैसा मिलेगा

यह भी एक ख़राब बहाना है जो लोग बनाते हैं जब उनसे रीसाइक्लिंग के बारे में पूछा जाता है। उनके अनुसार स्क्रैप का निपटान से उन्हें अच्छी मात्रा में पैसा नहीं मिलता या उन्हें इसमें किसी प्रकार का कोई प्रोत्साहन शामिल नहीं दिखता। बहुत से लोगों को तब तक रीसाइकिल जरूरी नहीं लगता जब तक इसमें कोई मौद्रिक लाभ न हो।

  1. रीसाइक्लिंग से कोई फर्क नहीं पड़ता

एक बड़ी गलत धारणा यह है कि रिसाइकिलिंग से कोई अंतर नहीं पड़ता। उनके पास वास्तव में पुनर्नवीनीकृत वस्तुओं की मात्रा और इसकी संबंधित चीजों के बारे में ज्ञान नहीं है। लोग यह भी मानते हैं कि धरती पर प्राकृतिक संसाधन बहुत मात्रा में मौजूद हैं।

  1. हरियाली देखने की इच्छा नहीं है

आज ऐसे भी लोग हैं जो ग्लोबल वार्मिंग और प्रदूषण के बारे में परवाह नहीं करते हैं। उनकी प्राथमिकता सूची में इन चीजों की कोई अहमियत नहीं है। इसलिए उनमें ग्रीन-फ्रेंडली पर्यावरण के लिए रीसाइक्लिंग की पहल में योगदान करने की कोई इच्छा नहीं दिखती।

निष्कर्ष

हम मनुष्यों ने वर्षों से वातावरण को बहुत नुकसान पहुंचाया है। ग्लोबल वार्मिंग हमारी गलतियों का परिणाम है। रीसाइक्लिंग से प्राकृतिक संसाधनों के अपव्यय को रोका जा सकता है। यह प्रदूषण को रोक सकता है, पर्यावरण को बचा सकता है और अधिक उपयोगी वस्तुओं को बनाने में मदद करता है। इसलिए पर्यावरण की दिशा में हमारी जिम्मेदारी बनती है और अगर हम अपने ग्रह को बचाना चाहते हैं तो हमें दूसरों को भी रीसाईकल करने के लिए प्रेरित करना चाहिए।

रिसाइक्लिंग पर निबंध 4 (500 शब्द) (Essay on Recycling in Hindi 500 words)

प्रस्तावना

रीसाइक्लिंग में अपशिष्ट सामग्रियों को इकट्ठा करने की प्रक्रिया शामिल होती है जिसके तहत उन्हें ब्लॉक्स में तोड़ा जाता है जिसके फ़लस्वरूप वे नए उत्पादों में बदल जाते हैं। मुख्य रूप से पांच प्रकार के अपशिष्ट पदार्थ हैं। इसमें कागज, स्टील, ग्लास, एल्यूमीनियम और प्लास्टिक शामिल हैं। इन सभी का विभिन्न तरीकों से उपयोग करके पुनर्नवीनीकरण किया गया है।

रीसाइक्लिंग की प्रक्रिया

यहां बताया गया है कि कैसे अलग-अलग चीजों का पुन: उपयोग किया जाता है:

पेपर – पेपर के कचरे में कागज शीट, अख़बार, कार्डबोर्ड और कार्यालयों तथा शैक्षणिक संस्थानों में इस्तेमाल किए गए अन्य कागज़ शामिल हैं। पेपर में 2 घटक है – लकड़ी और पानी। तो सबसे पहले रीसाइक्लिंग के माध्यम से कागज को दो भागों में विभाजित किया जाता है ताकि इसे सुधारा जा सके। स्याही और गंदगी जैसे प्रदूषण को फ़िल्टर्ड किया जाता है। पेपर संकलित किया जाता है और उसे गर्म पानी में डाला जाता है। यह स्नान जल्दी से कागज को सेलूलोज़ फाइबर के छोटे से तारों में तोड़ देती है जिससे ‘पल्प’ नामक एक मसालेदार पदार्थ कहा जाता है – मूल रूप से गीला ढक्कनदार पेपर। हालांकि कागज अभी भी गंदा है। इसके बाद इसे एक स्क्रीन पर डाला जाता है जहां शेष गंदगी गोंद या प्लास्टिक के कणों की तरह निकाली जाती है। फिर इसे डी-इनकर भेजा जाता है जहां इसे धोया जाता है जिसमें हवा के बुलबुले और साबुन जैसे रासायनिक पदार्थ मुख्यतः ‘सर्फैक्टेंट’ शामिल होते हैं जो कागज को स्याही से अलग करते हैं। हवा के बुलबुले स्याही को सतह और पल्प तक ले जाते हैं जो नीचे तक जाती है। वह पल्प अब साफ है और उससे नए पेपर उत्पाद बनाए जा सकते हैं।

स्टील – स्टील का इसके किसी भी गुण को खोए बिना दोबारा पुनर्नवीनीकरण किया जा सकता है। तरल फ़्लोटिंग सिस्टम की मदद से उच्च वायु-दबाव प्रणाली स्टील को अन्य धातु से अलग करती है और इसके बाद हाइड्रोलिक मशीनरी द्वारा भारी दबाव डालने के बाद इसे कम किया जाता है। कभी-कभी गैस और प्लाज्मा मेक भी इस्तेमाल होता है तब स्टील को पिघला दिया जाता है और नए आइटम जैसे कि डिब्बे, बर्तन, कार के हिस्सों, पेपर क्लिप इत्यादि में परिवर्तित किया जाता है।

ग्लास – ग्लास बिखर जाता है और ‘क्यूलेट’ नामक छोटे टुकड़ों में टूट जाता है जिसकी चौड़ाई 5 सेमी से अधिक नहीं है। कांच के टुकड़े रंगीन, स्पष्ट, भूरे और हरे रंग में छाटें जाते हैं। अलग-अलग रंग महत्वपूर्ण है क्योंकि यह स्थायी है। ग्लास सिलिका से बना है जो पिघल जाता है और नए आकारों और उत्पादों में ढल जाता है।

एल्यूमिनियम – स्टील के समान एक बार अलग हो जाने पर एल्यूमीनियम पुनः उपयोग करने योग्य बनाने के लिए इसके साथ ज्यादा कुछ नहीं करना पड़ता। यह काटा जाता है, धोया जाता है और चिप्स में बदल जाता है जो एक बड़ी भट्ठी में पिघल जाता है और फिर मोल्ड में डाला जाता है। फिर उन्हें निर्माताओं के लिए भेज दिया जाता है जहां वे फिर से पिघलाए जाते हैं और पतली चादरों में बदल दिए जाते हैं जिन्हें नए उत्पादों में काटा, बदला और आकार दिया जाता है।

प्लास्टिक – प्लास्टिक 6 विभिन्न प्रकार के रसायनों से बना है – पॉलीथीन टेरेफाथलेट, उच्च घनत्व पॉलीथीन, पॉलीविनाइल क्लोराइड, कम घनत्व पॉलीथीन, पॉलीप्रोपाइलीन और पॉलीस्टायरीन। प्रत्येक प्लास्टिक में एक अलग आणविक संरचना होती है जो प्लास्टिक के भौतिक गुणों को निर्धारित करती है, जिसका मतलब है कि कुछ प्लास्टिक का दूसरों की तुलना में पुनरावृत्ति करना आसान है। प्लास्टिक को बड़ी कार्बन शृंखला से बनाया जाता है। इसलिए प्लास्टिक के कुछ रूपों को पिघला या जा सकता है और कुछ में सुधार किया जा सकता है जबकि अन्य को नए प्लास्टिक के साथ मिश्रित किया जा सकता है और अन्य को केवल अलग-अलग उपयोगों के लिए अन्य आकारों में ढाला जा सकता है।

निष्कर्ष

लगभग कुछ भी पुनर्नवीनीकरण किया जा सकता है और कचरे को पुन: उपयोग के लिए नया आकार दिया जा सकता है लेकिन फिर भी कुछ चीजें और सामग्री जैसे कंप्यूटर, बैटरी, लाइट बल्ब आदि हैं जिनको रीसाईकल करना जटिल हैं क्योंकि उनमें काफी हद तक विषाक्त पदार्थ शामिल हैं। इसलिए हमें उन्हें जिम्मेदारी से निपटाना होगा।


 

रिसाइक्लिंग पर निबंध 5 (600 शब्द) (Essay on Recycling in Hindi 600 words)

प्रस्तावना

हम मनुष्यों ने वर्षों से वातावरण को बहुत नुकसान पहुंचाया है। ग्लोबल वार्मिंग हमारी गलतियों का परिणाम है। रीसाइक्लिंग से प्राकृतिक संसाधनों के अपव्यय को रोका जा सकता है। इससे प्रदूषण को रोका जा सकता है, पर्यावरण को बचाया जा सकता है और अधिक उपयोगी वस्तुओं को बनाने में मदद ली जा सकती है। प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण में रीसाइक्लिंग एक महत्वपूर्ण कारक है और यह पर्यावरण में सुधार के लिए बहुत योगदानकारी भी है।

घरेलू रीसाइक्लिंग

अगर आपके पास रिसाइकिलिंग का ज्ञान है तो आपको पता होगा कि घर में और आसपास रिसाइकिलिंग काफी सरल है। आप जो खाद्य उत्पाद बाजार से खरीदते हैं उसके बारे में सख्ती से सोचकर और उन्हें रीसाईकल करने का तरीका आर्थिक रीसाइक्लिंग की दिशा में शुरुआत है।

  • विभिन्न घरेलू सामग्रियों को रिसाइकल करना – कई सामग्रियां जैसे कागज, प्लास्टिक, धातु और काँच को रिसाइकल किया जाता है। फर्नीचर, उपकरण, आर्टिफैक्ट और वाहनों की तरह वैकल्पिक चीजें भी रिसाइकल की जा सकती हैं हालांकि हम में से बहुत से ऐसा करने की कोशिश नहीं करते हैं।
  • एक ऐसा उत्पाद खरीदें जिसे रिसाइकल किया जा सके – किरयाने की दुकानों पर सामान खरीदते समय ऐसे उत्पादों को ख़रीदे जिनको रीसाईकल किया जा सके जैसे कांच के जार और टिन के डिब्बे आदि।
  • रिसाइकिलिंग प्रक्रिया से बने सामान को खरीदें – आप पैकेजिंग पर लेबल को देख कर यह बता सकते हैं कि कोई उत्पाद पर्यावरण के अनुकूल है या नहीं।
  • असुरक्षित सामग्री की खरीदारी से बचें – असुरक्षित कचरा वाले उत्पाद को रीसाईकल करने में परेशानी होती है। कोशिश करें और घर साफ़ करने के लिए सुरक्षित विकल्प की पहचान करें और संभव हो तो गैर विषैले उत्पादों का उपयोग करें।
  • रिसाइकल डिब्बे – सुनिश्चित करें कि आपके पास अपने घर में रिसाइकल करने के लिए डिब्बे हो। इसे एक साफ़ सुथरी जगह में रखें ताकि आप इसका उपयोग करना ना भूले। आपकी देशी काउंसिल आपको रिसाइकल डिब्बे देने में सक्षम होनी चाहिए जो कांच, कागज, एल्यूमीनियम और प्लास्टिक जैसी सामग्री के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

बगीचे में रिसाइकल

बगीचे के उत्पादों और पौधों का रीसाइक्लिंग करके आप अपने बगीचे में पर्यावरण को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।

  • कम्पोस्टिंग – कम्पोस्टिंग एक ऐसा तरीका है जहां कचरा खाद में परिवर्तित हो जाता है जो पौधों के विकास की सहायता के लिए आपके बगीचे में उपयोग किया जा सकता है। उद्यान में पौधों और घर में बचे हुए खाने के रूप में कचरे को रीसाइक्लिंग करने का एक शानदार तरीका है।
  • ग्रास साइक्लिंग – ग्रास साइक्लिंग करना बगीचे की घास को काटने के बाद उन्हें रीसाइक्लिंग करने के एक शानदार दृष्टिकोण है। उन्हें नीचे फेंकने की बजाए नीचे की कटाई करके छोड़ दें। वे पोषक तत्वों में विकसित होंगे और मिट्टी के भीतर उर्वरक के रूप में कार्य करेंगे।
  • बीज बोना – कचरे के डिब्बे में फलों और सब्जी के बीज ना फेंके। इसके बजाए उन्हें अपने बगीचे में बोएं। बढ़ते पौधे और पेड़ ग्लोबल वार्मिंग को कम करके और कई पक्षियों और प्राणियों के लिए घर उपलब्ध कराने के द्वारा परिवेश को बढ़ाएंगे।

समाज में रिसाइकिलिंग

  • स्थानीय रिसाइकिलिंग सुविधाएं – रीसाइक्लिंग सुविधाएं समुदाय के उपयोग के लिए प्रदान की जाती हैं। जहां कहीं भी आपकी स्थानीय रीसाइक्लिंग सुविधाएं हैं उनका उपयोग करने का तरीका सत्यापित करें।
  • स्कूल और व्यवसाय – ये रीसाइक्लिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। अपने संकायों या कार्यस्थल पर उपलब्ध रीसाइक्लिंग योजनाओं का पालन करें और उन्हें सुधारने के तरीकों के बारे में सोचें।
  • सामुदायिक परियोजनाएं – नकदी दान करके या नई अवधारणाओं को प्रदान करने और कार्यान्वित करने से रीसाइक्लिंग के संबंध में स्थानीय सामुदायिक परियोजनाएं भी शामिल हो गई हैं।
  • कैन्स के लिए कैश – यह परियोजना उन लोगों को नकद पैसा देती है जो अपने एल्यूमीनियम के डिब्बे को रीसाइकल करते हैं। यूनाइटेड किंगडम में डिब्बों को रीसाइकल करने के लिए 500 से अधिक पैसा मिलता है। भारत में हमारे पास स्क्रैप डीलर हैं जहां हम नकद पैसे के लिए इन कैन्स का आदान-प्रदान कर सकते हैं। यह एक बहुत ही अच्छी पहल है इसलिए हमें इसमें शामिल होना चाहिए और इस पद्धति द्वारा अतिरिक्त पैसा कमाना चाहिए।

निष्कर्ष

इन सरल बिंदुओं के बाद हम पर्यावरण के लिए थोड़ा सा योगदान कर सकते हैं जो निश्चित रूप से लंबे समय तक फलदायी होंगे। इससे न केवल पर्यावरण का लाभ होगा बल्कि मनुष्य को भी फायदा होगा। इसलिए इससे पहले कि आप कुछ फेंके, पहले सोचें क्या इसका पुन: उपयोग किया जा सकता है।

Comments

comments

Leave a Comment

error: