मेंढक और TV Tower हिंदी कहानी Frog and Tower Hindi Kahani Story | Hindigk50k

मेंढक और TV Tower हिंदी कहानी Frog and Tower Hindi Kahani Story

मेंढक और TV Tower हिंदी कहानी Frog and Tower Hindi Kahani Story 100+ hindi story kahaniyan short bal kahani in hindi, baccho ki kahani suno, dadi maa ki kahaniyan, bal kahaniyan, cinderella ki kahani, hindi panchatantra stories, baccho ki kahaniya aur cartoon, stories, kids story in english, moral stories, kids story books, stories for kids with pictures, short story, short stories for kids, story for kids with  moral, moral stories for childrens in hindi, infobells hindi moral stories, hindi panchatantra stories, moral stories in hindi,  story in hindi for class 1, hindi story books, story in hindi for class 4, story in hindi for class 6, panchtantra ki kahaniya.

मेंढक और TV Tower हिंदी कहानी Frog and Tower Hindi Kahani Story

आज गुरुवार के दिन मेंढको की दुनिया में काफी शोर शराबा था. कुछ young frogs आज की ताज़ा खबर के बारे में बातें कर रहे थे. वे सभी newly made tallest TV tower को देख रहे थे और सोच रहे थे कि जो भी मेंढक इसके ऊपर चढ़ जायेगा उसका नाम मेंढको की दुनिया में अमर हो जायेगा. क्या दृश्य होगा, कैसी हवा चल रही होगी उतना ऊपर – एक मेंढक ने कहा; उनके साथ ही सारे frogs सहमति में टर्र टर्र करने लगे.

Frog and Tower

उन सबने decide किया कि अगले Sunday वे सभी TV Tower के ऊपर चढ़ने की कोशिश करेंगे. निश्चित दिन को बहुत सारे frogs वहां young frogs को यह असंभव काम को करते हुए देखने को एकत्रित हुए. जैसे ही सभी मेंढक ऊपर चढ़ने के लिए Line में खड़े हुए बादल की जोरदार गर्गराहट हुई. कई मेंढको ने मना किया कि तुम लोग मत चढो – यह काफी dangerous साबित होगा.

इसके पहले आजतक कोई भी इतना उचां चढ़ नहीं सका, क्या तुम लोग ऐसा कर सकोगे – कुछ लोंगो ने आशंका जताई.
ऐसा सुनकर कुछ मेंढक जो line में खड़े थे बाहर आ गए. जो बाकी बच गए Tower पर चढ़ने लगे – तेज दौड़ और भागमभाग में कुछ नन्हे और छोटे मेंढक फिसलकर गिर पड़े – पीछे से आवाज़ आई – तुम लोग नहीं चढ़ सकते, tower बहुत ऊँचा है. एक-एक कर सारे मेंढक race से बाहर निकल गए सिर्फ एक छोटे मेंढक को छोड़कर. वह छोटा मेंढक लगातार चढ़ता गया और अंततः tower के ऊपर चढ़ गया – एकमात्र और पहला मेंढक … उसकी सफलता से खुश होकर सारे मेंढक ख़ुशी से झूम उठे और शोर करने लगे.

सबने उस छोटे मेंढक को घेर लिया. तुमने यह सब कैसे कर डाला? तुम्हारे success का क्या राज है? सब पूछने लगे. वह छोटा मेंढक सिर्फ इधर उधर देखता रहा कुछ भी नहीं बोला. मालूम चला कि वह deaf यानि बहरा है. इसलिए सारे मेंढको की चिल्लाहट ‘तुम नहीं चढ़ सकते – तुम नहीं चढ़ सकते वह सुन नहीं सका और शायद यह समझता रहा कि सारे मेंढक उसे ऊपर और ऊपर जाने के लिए encourage कर रहे हैं.

अतः हम सभी को young frog की तरह ही अपना जीवन जीना चाहिए. जब तुम अपने aim को पाने के लिए struggle कर रहे हो और कोई व्यक्ति तुम्हे discourage कर रहा हो वैसे व्यक्ति कि बातों पर ध्यान मत दो, deaf बन जाओ उस मेंढक कि तरह और अपने धुन में लगे रहो.

क्या कोई ऐसा Job या Course है जिसे आप करना चाहते हो लेकिन कुछ लोग आपके marks या grade की बात करके आपको हतोत्साहित करते हैं ?

क्या कोई ऐसा नया Business Idea आपके दिमाग में है लें आपके अपने आपको कहते हैं कि तुम्हे पूंजी कहाँ से मिलेगी ?
क्या तुम rich और wealthy बनना चाहते हो, अपने सपने को साकार करना चाहते हो – जबकि तम्हारे परिवार मैं कोई भी ऐसा नहीं है. उन सबकी छोड़ो, बहरे बन जाओ. Aerodynamics के सिद्धांत के अनुसार एक bumble bee कभी उड़ नहीं सकता क्योंकि उसके शरीर का weight उसके पंखों के अनुपात में ज्यादा होता है लेकिन bumble bee इन नियमों से लापरवाह आराम से उड़ता रहता है. अतः अपना goal decide करो और fulfill your dream …..

 

आपको यह हिंदी कहानी कैसी लगी, अपने विचार कमेंट द्वारा दें. तथा अपने दोस्तों के साथ शेयर करें
धन्यवाद!

Comments

comments

Leave a Comment