नींबू की खेती How to start Lemon Farming - Kaise kare nimbu ki kheti | Hindigk50k

नींबू की खेती How to start Lemon Farming – Kaise kare nimbu ki kheti

नींबू की खेती How to start Lemon Farming – Kaise kare nimbu ki kheti, agriculture competitive exam questions and answers, agriculture current affairs 2016 pdf, general agriculture objective questions ebook, agriculture gk app,  agriculture question bank with answers download, agriculture question and answer 2013,  agriculture mcq with answers pdf, agriculture questions for students,GK Questions on Agriculture, Agriculture Current Affairs Today, Agriculture Gk in Hindi For all Competitive Exams,

नींबू की खेती How to start Lemon Farming – Kaise kare nimbu ki kheti

नींबू की खेती कैसे करें

क्या आप नींबू की खेती करने की सोच रहे हैं ? जानिए इससे जुडी जानकारी, कैसे आप 1 acer से ही लाखों कम सकते है और कैसे करे इसकी उन्नत और वैज्ञानिक खेती, कीड़ों से बचाव । पूरे world में नींबू (lemon) का सबसे ज्यादा उत्पादन India में ही होता है । इसलिए India के किसान चाहे तो निम्बू की खेती कर के अच्छा पैसा कमा सकते है । यदि निम्बू की खेती को कृषि वैज्ञानिक द्वारा बताए गए तरीके से किया जाये तो किसानो को अच्छी उपज मिल सकती है । Jharkhand, Maharashtra, Andhra Pradesh, Tamil Nadu जैसे states में निम्बू की काफी अच्छी पैदावार होती है । इसमें सुरुवाती से ले कर उत्पादन तक कम पूंजी लगती है और अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है । तो चलिए जानते है निम्बू की खेती से जुडी जानकारी विस्तार में ।

How to start Lemon Farming – Kaise kare nimbu ki kheti

>>> नींबू की खेती कैसे करे / How to Start Lemon Farming

नींबू की खेती कैसे करे / How to Start Lemon Farming

मैं हमेशा suggest करता रहा हूँ की अगर आप agriculture से जुड़ा कोई business करना चाहते है और अगर आपके पास 1 से 5 acer तक की जमीन है तो proper training ले कर इसमें जम जाइये । तो अगर आपके पास खली पड़ी हुई कम से कम 1 acer की land हो तो आप lemon farming का business अपने India में ही कर के अच्छा profit कम सकते है । सुरुवात में भले ही आपको 2-3 साल का wait करना पड़े पर उसके बाद आप आसानी से हर साल लाख रूपया बैठे बैठे कमा सकते हैं । तो चलिए जानते है कैसे आप भी निम्बू की उन्नत खेती कर के खुद का agriculture business setup कर सकते हैं ।

 

>>> नींबू की खेती के लिए भूमि / Land Selection for Lemon Farming

नींबू की खेती के लिए भूमि / Land Selection

नींंबू की खेती को लगभग सभी तरह की भूमि पर Successfully किया जा सकता है । लेकिन फिर भी दोमट मिट्टी वाली भूमि जहाँ जल-प्रणाली का उत्तम प्रबंध किया गया हो उसे ही निम्बू की खेती के लिए सबसे अच्छा माना गया है । निम्बू की खेती के लिए भूमि की गहराई लगभग 2.5 मी.या से ज्यादा होनी चाहिए और इसका ph मान लगभग 7.0 तक होना चाहिए तभी निम्बू की अच्छी वृद्धि और उपज मिलती है । ऐसी मिट्टियाँ और ऐसा area जहाँ पर पानी जमा हो जाता हो उसे नींबू की खेती के लिए सही नहीं माना जाता है ।

निम्बू की खेती के लिए जलवायु / Suitable Climate for Citrus Cultivation For Lemon Farming

निम्बू की खेती के लिए जलवायु / Suitable Climate for Citrus Cultivation

निम्बू की खेती के लिए Warm और moderate humidity, पाला और जोड़ की हवा से मुक्त वाले area को अच्छा माना जाता है । निम्बू की अच्छी वृद्धि और इसके अच्छे उत्पादन के लिए 20-32 डिग्री से. तक का temperature की आवश्यकता होती है साथ ही इसकी खेती में औसत वार्षिक वर्षा 750 mm से ज्यादा नहीं होनी चाहिए ।

>>> निम्बू की उन्नत किस्मे / Varieties of Lemon

निम्बू की उन्नत किस्मे / Varieties of Lemon

वैसे तो आज market में कई तरह के निम्बू available हैं जिसकी अच्छी demand है । अगर आप निम्बू की खेती को एक बड़े business model में ले जाना चाहते है तो यह काफी जरुरी है की आप सही किस्म के निम्बू का चुनाव करे ताकि आपको अधिक से अधिक मुनाफा मिले । इनमे से कुछ lemon hybrid भी होते है जो अच्छी पैदवार देतीं हैं ।

Varieties of Lemon

कागजी निम्बू – इसकी Wide popularity के वजह से इसे खट्टा नींंबू का समानार्थी माना जाता है।
प्रमालिनी निम्बू – इस किस्म के निम्बू bunch में फलते है, और इसके एक गुच्छे में लगभग 3 से 7 तक फल लगते हैं । प्रमालिनी निम्बू,कागजी नींंबू के compare में 30% ज्यादा उपज देती है ।
विक्रम निम्बू – इसके फल भी bunch में ही फलते है । एक bunch में लगभग 5 से 10 फल लगते है ।
चक्र धर निम्बू – इस निम्बू में बीज नहीं होते है और इसके फल से लगभग 65% रस निकलता है ।
पि.के. एम् -1 – यह भी ज्यादा उत्पादन वाली किस्मो में से एक है । इसके फलो से लगभग 50% रस प्राप्त हो जाते है ।
ऊपर दिए गए निम्बू के किस्मो के अलावा साईं सर्बती, सीडलेस निम्बू , भी निम्बू के उन्नत किस्मो में से एक है ।

Nimbu Ki Unnat Kisme Varieties Of Lemon Waise To Aaj Market Me Kai Tarah Ke available Hain Jiski Achhi demand Hai Agar Aap Kheti Ko Ek Bade business model Le Jana Chahte Yah Kafi Jaroori Sahi Kism Ka Chunav Kare Taki Aapko Adhik Se Munafa Mile Inme Kuch lemon hybrid Bhi Hote Jo पैदवार देतीं Kagji Iski Wide popularity Wajah Ise Khatta Nimboo Samanarthi Mana Jata प्रमालिनी Is bunch Falte Aur Iske गुच्छे Lagbhag 3 7 Tak F

बीज रोपण

बीज रोपण

नींबू के पौधों को रोपने का सबसे सही समय June से July तक का होता है और अगर सिंचाई का प्रबंध सही से किया जाये तो इसकी रोपाई February और March में भी की जा सकती है । पौधे को रोपने से पूर्व हर एक गड्ढे की मिट्टी में लगभग 20 kg गोबर की खाद और 1 kg सुपर फ़ॉस्फ़ेट को अच्छी तरह से mix कर दें । पौधों को रोपने समय हर एक पौधों के बीच का distance लगभग 20-20 cm का space होना चाहिए ।

Beej Ropann Nimboo Ke Paudhon Ko Ropne Ka Sabse Sahi Samay June Se July Tak Hota Hai Aur Agar Sinchai Prabandh Kiya Jaye To Iski रोपाई February March Me Bhi Ki Jaa Sakti Paudhe Poorv Har Ek गड्ढे Mitti Lagbhag 20 kg Gobar Khad 1 Super Phosphate Achhi Tarah mix Kar Dein Beech distance CM space Hona Chahiye

खाद प्रबंधन

खाद प्रबंधन

नींबू की खेती में सड़ी हुई गोबर की खाद को हर साल दिया जाता है । पहले साल में 5 kg दुसरे साल में 10 kg तीसरे साल में 20 kg और इसी तरह हर साल पिछले साल का दोगुना खाद देना होता है । निम्बू की खेती में Organic manure साल में दो बार पड़ता है । पहला december और January में और दूसरा April और May में । जो वृक्ष फल देने वाले होते है ऐसे वृक्ष में 60 kg गोबर की खाद, 2.5 kg अमोनियम सल्फ़ेट, 2.5 kg सुपर फास्फेट और 1.5 kg म्यूरेट ऑफ़ पोटाश का use करना चाहिए ।

Khad Prabandhan Nimboo Ki Kheti Me सड़ी Hui Gobar Ko Har Sal Diya Jata Hai Pehle 5 kg Dusare 10 Teesre 20 Aur Isi Tarah Pichhle Ka Doguna Dena Hota Nimbu Organic manure Do Baar Padta Pehla december January Doosra April May Jo Vriksh Fal Dene Wale Hote Aise 60 2 Amonium Sulphate Super Phosphate 1 म्यूरेट Of Potash use Karna Chahiye

>>> सिंचाई

सिंचाई

निम्बू की खेती में साल भर नमी की जरूरत होती है । वर्षा के मौसम में सिंचाई की जरूरत नहीं होती है । ठंड के समय 1 month के interval पर सिंचाई और गर्मियों में 10 days के interval पर सिंचाई करना होता है ।

Sinchai Nimbu Ki Kheti Me Sal Bhar Nami Jarurat Hoti Hai Varsha Ke Mausam Nahi Thand Samay 1 month interval Par Aur Garmiyon 10 days Karna Hota

निम्बू का रोग व कीट से बचाव / Tips to Control Disease and Pest For Lemon Farming

निम्बू का रोग व कीट से बचाव / Tips to Control Disease and Pest

नींंबू का सिला – यह कीट नयी पत्तियों और कलियों से रस चूस जाते है । इस कीट के प्रकोप से पत्तियां गिरने लगती है । इस कीट से एक तरह का चिटचिटा पदार्थ निकलता है जिस पर काली मोल्ड जम जाती है । इस कीट के नियंत्रण हेतु इससे प्रभावित सभी parts को काट कर जला दे ।

निम्बू कि तितली – यह कीट नर्सरी के पौधों को काफी नुकसान पहुंचाती है । इसके green color के इल्ली पत्तियों को खा जाते है । यह किट April से May तक और August से October तक ज्यादा लगते है । निम्बू कि तितली से नियंत्रण के लिए अपने खेतो में नीम के काढ़ा का छिडकाव micro झाइम में mix कर करना चाहिए ।

माहू कीट – माहू कीट december से march तक ज्यादा लगते है । यह कीट फूलों व पत्तियों के सारे रस चूस जाते है जिससे फूल व पत्ते दोनों ही कमजोर होकर गिरने लगते है । इस कीट के नियंत्रण हेतु खेतो में नीम का काढ़ा का छिड़काव करना चाहिए ।

कैंकर रोग – यह रोग विशेष रूप से निम्बू पर ही लगते है । इस रोग के लगते ही पहले निम्बू के पत्तियों पर light yellow color के धब्बे होने लगते है और फिर वे धब्बे आहिस्ता आहिस्ता dark brown color के हो जाते है । इस रोग के बढ़ने से शाखाएं और फल दोनों ही ग्रसित हो जाते है । इस रोग के नियंत्रण हेतु रोग से ग्रसित शाखाओ को पौधों से छाट कर अलग कर देना चाहिए । उसके बाद कटे हुए सभी शाखाओ पर ग्रीस लगा दिया जाता है । इसके बाद बरसात start होते ही माइक्रो झाइम और नीम का काढ़ा का छिड़काव किया जाता है ।

गोदार्ती रोग – यदि इस रोग का आक्रमण तने पर हो तो इस रोग को गोदार्ती तना बिगलन कहा जाता है । इस रोग के प्रकोप से छाल में से गोंद की तरह एक पदार्थ निकालता है जिससे छाल brown हो जाती है और उसमें दरारें होने लगती है । इसके रोग से बचने हेतु बहुत से उपाय है जैसे की :-

खेत में से जल निकलने का अच्छा प्रबंध करना होगा और साथ ही इस बात का भी ध्यान रखना होगा की सिंचाई का पानी direct तने के संपर्क में नहीं आने चाहिए ।
इस रोग से ग्रसित भाग को किसी तेज़ धार वाले चाकू से छिल कर फिर उसके ऊपर से ग्रीस लगा दें ।
नीम का काढ़ा या मिट्टी का तेल (Kerosene) का भूमि में छिड़काव करे ।
विष्णु रोग – इस रोग के वजह से पत्तियों पर हरे रंग की महीनता नज़र आने लगती है । इसके अलावा पत्तियां और टहनियां dry होकर सुख जाती है । इससे बचना है तो नीम के काढ़ा को पूरे खेत में छिड़क दें ।

Nimbu Ka Rog Wa Keet Se Bachav Tips To Control Disease and Pest Nimboo Sila Yah Nayi Pattiyon Aur कलियों Ras choos Jate Hai Is Ke Prakop Pattiyan Girne Lagti Ek Tarah चिटचिटा Padarth Nikalta Jis Par Kali मोल्ड Jam Jati Niyantran Hetu Isse Prabhavit Sabhi parts Ko Kat Kar Jala De Ki Titli Nursery Paudhon Kafi Nuksan Pahunchati Iske green color Illi Kha Kit April May Tak August October Jyada Lagte Liye Apne खेतो Me Neem

फसल की तुड़ाई / Picking FOr Lemon Farming

फसल की तुड़ाई / Picking

खट्टे नींबू के पौधों में एक साल में कई बार फल लगते है और इसके फलो को तैयार होने में लगभग 6 month का time लगता है । जब फल पक कर हरे रंग से पीला रंग हो जाता है तब उसकी तुड़ाई start कर दी जाती है ।

उपज / Production for Lemon Farming

उपज / Production

यह अक्सर पुचा जाता है की निम्बू के पेड़ पर कितने साल से फल लगने लगते है । वैसे तो 1 साल के बाद ही निम्बू के छोटे-छोटे फल लगने लगते है पर वह किसी काम का नहीं होता है । 3 से 4 साल के होने तक निम्बू के पेड़ में अच्छी मात्र में निम्बू फल लगने लगते है । और 5 से 6 साल की उम्र वाले पौधो से सालाना 2,000 से 5,000 निम्बू के फल प्राप्त किये जा सकते है ।

आज के date में लगभग सभी सहरों में 10 रूपए (INR) में 3 से 5 piece ही निम्बू मिलता है ।

उस हिसाब से अगर आप देखे तो किसान भाई आसानी से हर एक piece पर Rs 0.75 से ले कर Rs 1.00 मिल सकते हैं । अगर किसान भाई कम ही मान कर चले और हर एक lemon के piece का price Rs 0.75 ही लगाये तो, कुछ इस प्रकार से profit margin आएगा :

Average Annual Production of Lemon from one Tree: 3,000 piece
Total no. of Lemon Trees in One Acer of Land: 150 Trees
Total production = 4,50,000 Lemon
Total Sales (4,50,000 x Rs 0.75) = Rs 3,37,500
अब अगर मान कर चला जाये की सब मिल कर खर्चा maximum 1 लाख सालाना भी हो तो आप आसानी से Rs 2,00,000 कम से कम कम सकते है वो भी केवल 1 acer से । यह सही बात है की सुरुवात में आपको 3 से 4 साल तक का इंतज़ार करना होगा और investment भी थोडा होगा, पर अगर आप 4 से 10 साल तक का नजरियाँ ले कर चलते है तो आपको यह बैठा बैठाया on-going कम से कम 2 लाख आसानी से कम सकते है ।

Upaj Production Yah Aksar पुचा Jata Hai Ki Nimbu Ke Ped Par Kitne Sal Se Fal Lagne Lagte Waise To 1 Baad Hee Chhote Wah Kisi Kaam Ka Nahi Hota 3 4 Hone Tak Me Achhi Matra Aur 5 6 Umra Wale Podhon Salana 2 000 Prapt Kiye Jaa Sakte Aaj Date Lagbhag Sabhi सहरों 10 Rupaye INR piece Milta Us Hisab Agar Aap Dekhe Kisaan Bhai Asani Har Ek Rs 0 75 Le Kar 00 Mil Hain Kam Maan Chale lemon price Lagaye Kuch Is Prakar pr

Comments

comments

Leave a Comment