दीपावली हिन्दी निबंध-Essay On Deepawali- Diwali-हिन्दी निबंध - Essay in Hindi | Hindigk50k

दीपावली हिन्दी निबंध-Essay On Deepawali- Diwali-हिन्दी निबंध – Essay in Hindi

दीपावली हिन्दी निबंध-Essay On Deepawali- Diwali-हिन्दी निबंध – Essay in Hindi Here we are providing you this essay in hindi हिन्दी निबंध  which will help in hindi essays for class 4, hindi essays for class 10,  hindi essays for class 9,  hindi essays for class 7, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8.

हमारा देश त्योहारों का देश है . यहाँ रोज ही कोई न कोई त्यौहार मनाया ही जाता है . इन त्योहारों में निम्नलिखित चार त्योहार बहुत ही प्रमुख हैं :-
क .दीपावली
ख . होली .
ग .दुर्गापूजा
घ.जन्माष्टमी .
दीपावली कार्तिक महीने में अमावस्या के दिन मनाई जाती है . इस दिन लक्ष्मीजी की पूजा बड़े धूम – धाम से होती है .

मनाने के कारण :

इस त्यौहार को मनाने के दो कारण हैं – क . धार्मिक कारण ख . वैज्ञानिक कारण .

धार्मिक कारण : 
इसी दिन भगवान् रामचंद्र रावण को मारकर लक्ष्मण व सीता के साथ अयोध्या पधारे थे . उनके आने की खुशी में अयोध्या वासियों ने असंख्य दीप जलाकर अगवानी की थी . उसी दिन से यह त्यौहार मनाया जाता है .

वैज्ञानिक कारण :

वर्षा ऋतू में अनेक कीडे-मकोडे की भरमार हो जाती है ,जिससे वातावरण शुद्ध नहीं रह पाता . घरों की सफाई व दीप जलाने से इन कीड़ों का विनाश हो जाता है ,इसीलिए यह त्यौहार वर्षा ऋतू के बाद मनाया जाता है .

आयोजन व उत्सव :

पर्व के एक सप्ताह पहले से ही लोग अपने घरों की सफाई करने लगते हैं . दुकानों तथा कार्यालयों को रंग – विरंगे रंगों से सजाया जाता है . कार्तिक कृष्ण तेरस को धनतेरस कहते हैं . इस दिन प्रत्येक हिंदी के घर में नवीन वर्तन ख़रीदा जाता है . दीपावली के दिन सुबह से लोगों के मन में आनंद की लहरें उठने लगती हैं . लक्ष्मी गणेश की मूर्ति खरीद कर सायं काल उनकी पूजा की जाती है . घर के प्रत्येक जगहों पर दीप जलाया जाता है . लोग नए वस्त्र धारण करते हैं . बच्चे इस दिन खूब आतिशबाजी करते हैं . पांचवे दिन भैया दूज का पर्व मनाया जाता है .

उदेश्य :

हर त्यौहार का कुछ न कुछ उदेश्य होता है . यह पर्व हमारे प्राचीन आर्दशों की याद दिलाता है . इसी बहाने घरों की सफाई भी हो जाती है .

उपसंहार :

दीपावली प्रसन्नता एवं भाई चारा का त्यौहार है .कुछ लोग इस दिन जुआ खेलते हैं . यह समाज के लिए कलंक की बात है . हमें इस त्यौहार को सादगीपूर्ण मनाना चाहिए . आतिशबाजी से कभी कभी दुर्घटना भी हो जाती हैं . एक ही दिन में सैकड़ो रुपये व्यर्थ ही खर्च हो जाते हैं . इस त्यौहार का सामाजिक ,वैज्ञानिक व धार्मिक महत्व है .

Comments

comments

Leave a Comment