झूठी मानव धारणा हिंदी कहानी

झूठी मानव धारणा हिंदी कहानी  100+ hindi story kahaniyan short bal kahani in hindi, baccho ki kahani suno, dadi maa ki kahaniyan, bal kahaniyan, cinderella ki kahani, hindi panchatantra stories, baccho ki kahaniya aur cartoon, stories, kids story in english, moral stories, kids story books, stories for kids with pictures, short story, short stories for kids, story for kids with  moral, moral stories for childrens in hindi, infobells hindi moral stories, hindi panchatantra stories, moral stories in hindi,  story in hindi for class 1, hindi story books, story in hindi for class 4, story in hindi for class 6, panchtantra ki kahaniya.

झूठी मानव धारणा हिंदी कहानी

एक बार एक आदमी हाथियों के बगल से गुजर रहा था. चलते-चलते वह अचानक रुक गया. उसने देखा कि इतने विशाल आकार वाले और शक्तिशाली प्राणी हाथी को एक पतली- सी रस्सी में बाँधा हुआ है. वह यह देख आश्चर्य में पड़ गया. न कोई जंजीर, न ही कोई पिंजरा. हाथी तो जब चाहे इस पतली रस्सी को तोड़कर आजाद हो जाए. लेकिन हाथी ऐसा नहीं करता है. आखिर क्यों?

false human belief

उसने पास ही महाबत (प्रशिक्षक) को देखा. उसने महाबत से पूछा- ‘आखिर क्या बात है कि हाथी इस पतली रस्सी को तोड़ने की कोशिश नहीं करते और चुपचाप इसमें बंधे और खड़े रहते हैं.’ महाबत ने कहा – ‘ये जब बहुत छोटे थे, तभी से हम इनको बाँधने के लिए इन्हीं रस्सियों का प्रयोग कर रहे हैं. छोटे हाथी के लिए यह रस्सी इतना मजबूत है कि वह इसे तोड़ नहीं सकता. वे बड़े होते हैं, तबतक उनके मन में यह विश्वास बैठ जाता है कि हम इसे तोड़ नहीं सकते, और यही वजह है कि आज भी वे इसी पतली रस्सी से बंधे हुए हैं. वे इसे तोड़ने की कोशिश भी नहीं करते.’

वह आदमी हैरान था. ये जानवर किसी भी समय अपने बंधन से मुक्त हो सकते हैं, लेकिन वे ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि उनका मानना है कि वे जहाँ थे अभी भी वहीँ टिके या फंसे हुए हैं.

हाथियों की तरह ही, हमारा जीवन एक विश्वास पर चला रहा होता है कि यह काम हम नहीं कर सकते क्योंकि इसमें हम विफल हो चुके हैं. यही धारणा हमें रोकती है.

विफलता सीखने का एक हिस्सा है. हमें अपने जीवन में संघर्ष को कभी भी नहीं छोड़ना चाहिए. आप विफल होते हैं इसलिए नहीं कि आपकी किस्मत खराब है बल्कि इसलिए कि जीवन जीने के क्रम में आप इनसे सबक लेते हैं और आगे बढ़ते हैं. अपनी इस धारणा से बाहर निकलिए और जीवन में नए अध्याय लिखिए.

आपको यह हिंदी कहानी कैसी लगी, अपने विचार कमेंट द्वारा दें. तथा अपने दोस्तों के साथ शेयर करें
धन्यवाद!

Comments

comments

Leave a Comment

error: