कुतुब मीनार पर निबंध-Essay On Qutub Minaar -हिन्दी निबंध - Essay in Hindi | Hindigk50k

कुतुब मीनार पर निबंध-Essay On Qutub Minaar -हिन्दी निबंध – Essay in Hindi

कुतुब मीनार पर निबंध-Essay On Qutub Minaar -हिन्दी निबंध – Essay in Hindi 

Here we are providing you this essay in hindi हिन्दी निबंध  which will help in hindi essays for class 4, hindi essays for class 10,  hindi essays for class 9,  hindi essays for class 7, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8.

हम यहाँ आपके बच्चों और विद्यार्थियों के लिए उनके स्कूल या कॉलेज में आयोजित निबंध प्रतियोगिता में भाग लेने में मदद करने के लिए विभिन्न शब्द सीमाओं में कुछ निबंध पैराग्राफ और कुतुब मीनार पर निबंध उपलब्ध करा रहे हैं। आप इनमें से कोई भी कुतुब मीनार पर निबंध या पैराग्राफ अपनी जरुरत और आवश्यकता के अनुसार चुन सकते हैं।

कुतुब मीनार पर निबंध (क़ुतुब मीनार एस्से)

You can get below some essays on Qutub Minar in Hindi language for students in 100, 150, 200, 250, 300, and 400 words.

कुतुब मीनार पर निबंध 1 (100 शब्द)

कुतुब मीनार (जिसे कुतब मीनार या कतब मीनार भी कहा जाता है) प्रसिद्ध भारतीय ऐतिहासिक स्मारक है, जो भारत की दूसरी सबसे बड़ी मीनारों (पहली मीनार फतेह बुर्ज (चप्पड़ चिड़ी, मौहाली) है, जो 100 मीटर लम्बी) में गिनी जाती है। कुतुब मीनार 73 मीटर लम्बी है, जो इन्डो-इस्लामिक शैली में बनाई गई है। यह यूनेस्को के द्वारा विश्व विरासत में जोड़ी गई है। यह प्रत्येक दिन सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक खोली जाती है। यह महरौली, दिल्ली-गुड़गाँव सड़क पर स्थित है। इस स्मारक को देखना ही इतिहास के बारे में जानने का अच्छा तरीका है। दिल्ली बहुत से ऐतिहासिक स्मारकों के लिए प्रसिद्ध शहर है।

कुतुब मीनार

कुतुब मीनार पर निबंध 2 (150 शब्द)

कुतुब मीनार भारत के प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्मारकों में एक है। इसे कुतुब मीनार या कुतब मीनार भी लिख सकते हैं। यह भारत की दूसरी सबसे बड़ी मीनार (लगभग 73 मीटर) कही जाती है। भारत की पहली सबसे ऊँची मीनार चप्पड़ चिड़ी, मौहाली (पंजाब) में फतेह बुर्ज है। कुतुब मीनार को यूनेस्को विश्व विरासत में जोड़ा गया है। यह दिल्ली में स्थित है और इंडो-इस्लामिक स्थापत्य शैली में लाल बलुआ पत्थर और संगमरमर का उपयोग करके बनाई गई है।

कुतुब मीनार के आधार का व्यास 14.3 मीटर और शीर्ष का व्यास 2.7 मीटर है। इसकी 379 सीढ़ियाँ है। इसका निर्माण कुतुब-उद्दीन-ऐबक के द्वारा 1193 में शुरु हुआ था हालांकि, इसे इल्तुतमिश नामक उत्तराधिकारी के द्वारा पूरा किया गया। इसकी पाँचवी और आखिरी मंजिल 1368 में फिराज शाह तुगलक के द्वारा बनवाई गई थी। कुतुब मीनार के परिसर के आसपास कई अन्य प्राचीन और मध्ययुगीन संरचनाओं के खंडहर हैं।

कुतुब मीनार पर निबंध 3 (200 शब्द)

कुतुब मीनार एक भारतीय ऐतिहासिक स्मारक है, जो भारत के अन्य ऐतिहासिक स्मारकों के बीच एक प्रमुख आकर्षण के रूप में अकेला खड़ा है। कुतुब का अर्थ न्याय का स्तम्भ है। यह भारत की राजधानी अर्थात् दिल्ली में स्थित है। कुतुब मीनार दुनिया की सबसे बड़ी और प्रसिद्ध टावरों में से एक बन गई है। यह यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों में सूचीबद्ध की गई है। यह मुगल वास्तुकला की उत्कृष्ट कृति का एक बड़ा उदाहरण है। यह एक 73 मीटर लम्बी, 13 वीं सदी की स्थापत्य शैली (इंडो-इस्लामिक वास्तुकला) में लाल बलुआ पत्थर से बनी मीनार है।

यह 12वीं और 13वीं सदी में कुतुब-उद्दीन ऐबक और उसके उत्तराधिकारियों द्वारा राजपूतों के ऊपर मौहम्मद गौरी की जीत का जश्न मनाने के लिए निर्मित की गई थी। इससे पहले, यह तुर्क-अफगान साम्राज्य और इस्लाम की सैन्य शक्ति का प्रतीक थी। यह शंक्वाकार आकार में 14.3 मीटर के आधार व्यास और 2.7 मीटर के शीर्ष व्यास वाली सबसे ऊँची मीनारों में से एक है। इसके अंदर 379 सीढ़ियाँ और पाँच अलग मंजिलें हैं। मीनार की ऊपरी मंजिल से शहर का एक शानदार दृश्य दिखाई देता है। इसकी पहली तीन मंजिलें लाल बलुआ पत्थरों से निर्मित हैं हालांकि, चौथी और पाँचवीं मंजिल का निर्माण संगमरमर और लाल बलुआ पत्थरों के प्रयोग से हुआ है।


 

कुतुब मीनार पर निबंध 4 (250 शब्द)

कुतुब मीनार एक सबसे प्रसिद्ध और भारत की सबसे ऊँची मीनारों में से एक है। यह अरबिन्द मार्ग, महरौली पर स्थित है और विश्व धरोहरों में जोड़ी जा चुकी है। यह भारत की दूसरी सबसे ऊँची इमारत है, जिसका निर्माण 1192 में कुतुब-उद्दीन-ऐबक के द्वारा शुरु कराया गया था और बाद में उसके उत्तराधिकारी इल्तुतमिश के द्वारा पूरा कराया गया। यह एक शंक्वाकार इंडो-इस्लामिक अफगान स्थापत्य शैली में बनाई गई मीनार है। यह 379 सीढ़ियों को रखने वाली 73 मीटर (23.8 फीट) की ऊँचाई वाली मीनार है।

कुतुब मीनार के चारों ओर एक आकर्षक हरा बगीचा है, जो आगन्तुकों के ध्यान को खींचता है। यह भारत के सबसे प्रसिद्ध और आकर्षक पर्यटन स्थलों में से एक है। यह भारत का सबसे अधिक देखा जाने वाला स्मारक है, जिसे देखने के लिए पूरी दुनिया के कोने-कोने से लोग आते हैं। यह 14.3 मीटर के आधार व्यास और 2.7 मीटर के शीर्ष व्यास वाली सबसे अलग शैली में निर्मित पाँच मंजिल (इसकी पहली तीन मंजिल लाल बलुआ पत्थरों का प्रयोग करके और ऊपर की दो मंजिल संगमरमर और बलुआ पत्थर का उपयोग करके बनाई गई है) की मीनार है।

कुतुब मीनार से सटी हुई एक और लम्बी मीनार अलाई मीनार है। कुतुब मीनार इस्लाम की विजय और ताकत के प्रतीक के साथ ही कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद में प्रार्थना करने के लिए लोगों को बुलाने की सेवा का कार्य करने का भी प्रतीक है। यह दिल्ली में आकर्षक पर्यटक गंतव्य है और इसका गर्मियों व सर्दियों की छुट्टियों में सबसे अधिक बच्चों और विद्यार्थियों द्वारा दौरा किया जाता है।

कुतुब मीनार पर निबंध 5 (300 शब्द)

कुतुब मीनार दक्षिण दिल्ली में अरबिन्द मार्ग मौहाली पर स्थित है। यह लाल बलुआ पत्थर से बनी एक प्रसिद्ध शानदार संरचना है। यह भारत की दूसरी सबसे ऊँची मीनार है, जो 800 सालों से भी अधिक प्राचीन है। इस मीनार का निर्माण कार्य 1192 में कुतुब-उद्दीन-ऐबक (जो प्रथम सबसे सफल मुस्लिम शासक के रुप में जाना जाता है, जिसने भारत में इस इस्लामिक राजवंश को बनाया था) के द्वारा शुरु कराया गया था। यह माना जाता है कि, यह मीनार भारत में राजपूतों को हराने के प्रतीक के रुप में बनवाई गई थी। इस मीनार का कार्य इसके उत्तराधिकारियों में से एक इल्तुतमिश के द्वारा पूरा कराया गया था।

यह मुगल स्थापत्य कला का शानदार नमूना है और भारत में एक पर्यटन स्थल के रुप में प्रसिद्ध है। यह हर साल लाखों पर्यटकों, विशेषरुप से छात्रों को आकर्षित करती है। यह यूनेस्को की विश्व धरोहरों में शामिल है। प्राचीन समय में, कुतुब-उद्दीन ऐबक भारत आया और उसने राजपूतों के साथ युद्ध किया और उन्हें हराने में सफल हो गया। राजपूतों के ऊपर अपनी विजय की सफलता को मनाने के लिए, उसने इस अद्भुत मीनार को बनाने का आदेश दिया। इसका निर्माण कार्य बहुत सी शताब्दियों में खत्म हुआ हालांकि, समय-समय पर इसके निर्माण कार्य में कुछ परिवर्तन (अन्तिम परिवर्तन सिकन्दर लोदी के द्वारा किया गया था) भी किए गए। मूल रुप से, यह सबसे पहले केवल एक मंजिल ऊँची थी और बाद के शासकों द्वारा इसमें और मंजिलें जोड़ी गई।

इसके आधार का व्यास 14.3 मीटर और शीर्ष व्यास 7.3 मीटर है। यह 73 मीटर लम्बी है, जिसमें 379 सीढ़ियाँ है। यह माना जाता है कि, यह सात मंजिल की थी हालांकि, ऊपरी दो मंजिल भूकम्प में गिर गई। कुछ अन्य अद्वितीय संरचनाएं, जैसे- अलाई-दरवाजा, इल्तुतमिश का मकबरा, दो मस्जिदें, आदि इस मीनार के आस-पास होने के साथ ही इसके आकर्षण को बढ़ाती है। यह इंडो-इस्लामिक स्थापत्य शैली में बनाया गया है।


 

कुतुब मीनार पर निबंध 6 (400 शब्द)

भारत की दूसरी सबसे बड़ी, आकर्षक और ऐतिहासिक स्मारक कुतुब मीनार, अरबिंद मार्ग, महरौली दिल्ली में स्थित है। यह लाल बलुआ पत्थर और संगमरमर का उपयोग कर अनूठी स्थापत्य शैली में बनाई गई है। यह माना जाता है कि, मुगलों ने राजपूतों पर अपनी जीत का जश्न मनाने के लिए इस विजय मीनार का निर्माण कराया था। इसकी दुनिया की प्रसिद्ध मीनारों में गिनती होती है और विश्व धरोहर स्थलों में इसे जोड़ा जाता है। यह 73 मीटर लम्बी, 14.3 मीटर आधार व्यास, 2.7 मीटर शीर्ष व्यास, 379 सीढ़ियाँ और पाँच मंजिल वाली मीनार है।

कुतुब मीनार का निर्माण कुतुब-उद्दीन ऐबक के द्वारा शुरू कराया गया था हालांकि, इसे इल्तुतमिश द्वारा पूरा किया गया। इस मीनार का निर्माण कार्य 1200 ईस्वी में पूरा हुआ था। यह मुगल स्थापत्य कला की सबसे महान कृतियों में से एक है, जो सुन्दर नक्काशी के साथ बहुत सी मंजिलों की इमारत है। यह आकर्षक पर्यटन स्थलों में से एक है, जो हर साल एक बड़ी भीड़ को दुनिया भर के कोनों से इसे देखने के लिए आकर्षित करती है। इसने भूकम्प के कारण बहुत से विनाशों को झेला है हालांकि, उसी समय इसे शासकों द्वारा पुनर्निर्मित भी कराया गया है। फिरोज शाह ने इसकी ऊपरी दो मंजिलों का पुनर्निर्माण कराया था, जो भूकम्प में नष्ट हो गई थी। एक अन्य पुनर्निर्माण का कार्य सिकन्दर लोदी के द्वारा 1505 में और मेजर स्मिथ के द्वारा 1794 में मीनार के नष्ट हुए भागों में कराया गया था। यह सप्ताह के सभी दिनों में सुबह 6 बजे खुलती है, और शाम 6 बजे बन्द होती है।

मीनार का निर्माण बहुत समय पहले लाल बलुआ पत्थरों और संगमरमर का प्रयोग करके किया गया था। इसमें बहुत से बाहरी किनारे और बेलनाकार या घुमावदार रास्ते हैं और इसकी बालकनियाँ इसकी मंजिलों को अलग करती हैं। कुतुब मीनार की पहली तीन मंजिलों का निर्माण लाल बलुआ पत्थरों का प्रयोग करके हुआ है हालांकि, चौथी और पाँचवीं मंजिल का निर्माण संगमरमर और बलुआ पत्थरों से हुआ है। इस मीनार के आधार में एक कुव्वत-उल-इस्लाम (जिसे भारत में निर्मित पहली मस्जिद माना जाता है) मस्जिद है। कुतुब परिसर में 7 मीटर की ऊँचाई वाला एक ब्राह्मी शिलालेख के साथ लौह स्तंभ है। मीनार की दिवारों पर कुरान (मुस्लिमों का पवित्र पौराणिक शास्त्र) की बहुत सी आयतें भी लिखी गई हैं। यह देवनागिरी और अरेबिक रुप में लिखे अपने इतिहास को भी रखता है।

यह पर्यटकों के आकर्षण का प्रसिद्ध स्मारक है, जिसके आस-पास अन्य स्मारक भी हैं। प्राचीन समय से ही, यह माना जाता है कि, यदि कोई व्यक्ति इसकी ओर पीठ करके इसके सामने खड़े होकर अपने हाथों से इस (लौह स्तम्भ) के चक्कर लगाता है, तो उसकी सभी इच्छाएं पूरी हो जाती हैं। हर साल दुनिया भर के कोनों से, पर्यटक यहाँ इस ऐतिहासिक और अद्भुत स्मारक की सुन्दरता को देखने के लिए आते हैं।

Comments

comments

Leave a Comment