अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध-Essay On International YOG Diwas -हिन्दी निबंध – Essay in Hindi

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध-Essay On International YOG Diwas -हिन्दी निबंध – Essay in Hindi 

Here we are providing you this essay in hindi हिन्दी निबंध  which will help in hindi essays for class 4, hindi essays for class 10,  hindi essays for class 9,  hindi essays for class 7, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8.

तर्राष्ट्रीय योग दिवस प्रत्येक वर्ष 21 जून को मनाया जाता है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने ही इस दिन को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने का प्रस्ताव दिया था। योग का अभ्यास एक बेहतर इंसान बनने के साथ एक तेज दिमाग, स्वस्थ दिल और एक सुकून भरे शरीर को पाने के तरीकों में से एक है।

योग अपने अद्भुत स्वास्थ्य लाभों के लिए जाना जाता है। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2015 में आरंभ होने के बाद, हर साल 21 जून को मनाया जाता है। यह हमारे जीवन में इस प्राचीन भारतीय कला को अनमोल करने के महत्व पर बल देने का एक महान प्रयास है। आपकी परीक्षा में इस विषय पर आपकी मदद करने के लिए यहां विभिन्न लंबाई के अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध उपलब्ध करवाए गए हैं। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी भी अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस निबंध का चयन कर सकते हैं:

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर लंबे और छोटे निबंध (Long and Short Essay on International Yoga Day)

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध 1 (200 शब्द)

सितंबर 2014 में भारतीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को मनाने का प्रस्ताव रखा गया था। इसका समर्थन विभिन्न योग चिकित्सकों और दुनिया भर के आध्यात्मिक नेताओं द्वारा किया गया। संयुक्त राष्ट्र ने दिसंबर 2014 में 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया।

पहले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को दुनिया भर में उत्साह के साथ मनाया गया था लेकिन दिल्ली में राजपथ एक अलग ही तरह की जगह है जहाँ इसका अभ्यास किया जा सकता है। इस दिन का जश्न मनाने के लिए हजारों लोग इकट्ठे हुए। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया के विभिन्न हिस्सों की कई मशहूर हस्तियों के साथ इस आयोजन का एक हिस्सा बने और यहां योग आसनों का अभ्यास किया।

योग का बुखार इसी तरह जारी रहा और दूसरे और तीसरे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर भी लोगों ने बड़ी संख्या में भाग लिया। दूसरे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर चंडीगढ़ में एक बड़ा आयोजन आयोजित किया गया। तीसरे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर लखनऊ में भी इसी तरह से एक बड़ा आयोजन किया गया था। भारत के विभिन्न हिस्सों में और साथ ही दुनिया भर में हर साल इस दिन के लिए कई मनोरंजक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

कई योग आसन हैं जो विभिन्न स्तरों पर काम करते हैं ताकि हमें एक स्वस्थ जीवन जीने में मदद मिल सके। हमें इन सभी के अभ्यास की कोशिश करनी चाहिए और उन योग आसनों की पालना करनी चाहिए जिन्हें करना हमारे लिए फायदेमंद है। एक स्वस्थ जीवन शैली विकसित करने के लिए चुने हुए योग आसनों का नियमित रूप से अभ्यास करना चाहिए। योग को एक दिन समर्पित करने के पीछे पूरा विचार यह है कि दुनिया को यह समझने में मदद मिल सके कि इसका नियमित रूप से अभ्यास कर कितना फायदा मिल सकता है।


 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

योग, मन, शरीर और आत्मा की एकता को सक्षम बनाता है। योग के विभिन्न रूपों से हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को अलग-अलग तरीकों से लाभ मिलता है। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को इस अनूठी कला का आनंद लेने के लिए मनाया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस – एक पहल

योग की कला का जश्न मनाने के लिए एक विशेष दिन की स्थापना का विचार प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने प्रस्तावित किया था। इस पहल के माध्यम से भारतीय प्रधान मंत्री हमारे पूर्वजों द्वारा दिए गए इस अनोखे उपहार को प्रकाश में लाना चाहते थे। उन्होंने सितंबर 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) में अपने भाषण के दौरान इस सुझाव का प्रस्ताव दिया था। अपने संयुक्त राष्ट्र के संबोधन में उन्होंने यह भी सुझाव दिया था कि योग दिवस 21 जून को मनाया जाना चाहिए क्योंकि यह वर्ष का सबसे लंबा दिन है।

यूएनजीए के सदस्यों ने मोदी द्वारा दिए गए प्रस्ताव पर विचार-विमर्श किया और जल्द ही इसके लिए सकारात्मक मंजूरी दे दी। 21 जून 2015 का दिन पहले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया गया। इस दिन भारत में एक भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया था। भारत के प्रधान मंत्री श्री मोदी और कई अन्य राजनीतिक नेताओं ने राजपथ पर उत्साह के साथ यह दिन मनाया।

 

इस दिन देश के विभिन्न हिस्सों में कई बड़े और छोटे योग शिविर भी आयोजित किए गए थे। इस पवित्र कला का अभ्यास करने के लिए लोगों ने बड़ी संख्या में इन शिविरों में हिस्सा लिया। न सिर्फ भारत में बल्कि इस तरह के शिविरों का आयोजन दुनिया के अन्य हिस्सों में भी किया गया और लोगों ने बड़े उत्साह से इनमें भाग लिया। तब से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस हर साल बहुत उत्साह से मनाया जाता है।

निष्कर्ष

21 जून को मनाया जाने वाला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस प्राचीन भारतीय कला के लिए एक अनुष्ठान है। हमारे दैनिक जीवन में योग को जन्म देने से हमारे जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आ सकता है। यह हमारे तनावपूर्ण जीवन के लिए एक बड़ी राहत प्रदान करता है।


 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

यह भारतीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ही थे जिन्होंने सबसे पहले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाए जाने का विचार दिया था। इस प्रकार से वे पूरे भारत के साथ इस दृष्टिकोण को संपूर्ण रूप से साझा करना चाहते थे जो पूरे विश्व के लिए उत्पन्न हुई थी। संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) ने इस प्रस्ताव को पसंद किया और 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मान्यता दी गई। यह वर्ष 2015 में पहली बार मनाया गया था।

योग की उत्पत्ति

माना जाता है कि भारतीय पौराणिक युग से योग की जड़े जुडी हुई हैं। ऐसा कहा जाता है कि यह भगवान शिव थे जिन्होंने इस कला को जन्म दिया। शिव, जिन्हें आदि योगी के रूप में भी माना जाता है, को दुनिया के सभी योग गुरुओं के लिए प्रेरणा माना जाता है।

सामान्यत तौर पर यह माना जाता है कि यह उत्तर भारत में सिंधु-सरस्वती सभ्यता थी जिसने 5000 साल पहले इस शानदार कला की शुरूआत की थी। ऋग्वेद में पहली बार इस अवधि का उल्लेख किया है। हालांकि योग की पहली व्यवस्थित प्रस्तुति शास्त्रीय काल में पन्तजलि द्वारा की गई है।

 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को क्यों मनाया जाता है

भारतीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी, जिन्होंने योग दिवस मनाने का विचार प्रस्तावित किया, ने सुझाव दिया कि यह 21 जून को मनाया जाना चाहिए। उनके द्वारा सुझाई गई इस तारीख का कारण सामान्य नहीं था। इस अवसर को मनाने के लिए प्रस्तावित कुछ कारण हैं।

21 जून उत्तरी गोलार्ध में वर्ष का सबसे लंबा दिन है और इसे ग्रीष्मकालीन अस्थिरता कहा जाता है। यह दक्षिणाइया का एक संक्रमण प्रतीक है जिसे माना जाता है कि यह एक ऐसी अवधि होती है जो आध्यात्मिक प्रथाओं का समर्थन करती है। इस प्रकार योग की आध्यात्मिक कला का अभ्यास करने के लिए एक अच्छी अवधि माना जाता है।

इसके अलावा किंवदंती यह है कि इस संक्रमण काल ​​के दौरान भगवान शिव ने उनके साथ योग की कला के बारे में ज्ञान साझा करके आध्यात्मिक गुरुओं को प्रबुद्ध किया।

इन सभी बिंदुओं को संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) ने माना था और 21 जून को अंततः अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मान्यता दी गई थी।

निष्कर्ष

अच्छी बात यह है कि श्री मोदी और यूएनजीए ने ही केवल 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में चिह्नित नहीं किया बल्कि जब यह दिवस आया तो इसे सफल बनाने के भी कई प्रयास किए। पहला योग दिवस भारत में बड़े पैमाने पर मनाया गया। दुनिया भर के कई उल्लेखनीय व्यक्तियों ने इसमें भाग लिया। तब से यह देश और साथ ही दुनिया के अन्य भागों में बड़े जोश और उत्साह के साथ मनाया जाता है।


 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया। इस दिन पर भारत में एक बड़ा आयोजन आयोजित किया गया था। इस घटना में बड़ी संख्या में भाग लेने वाले लोगों को देखने का यह बहुत अच्छा मौका था। भीड़ के बीच बहुत खुशी और उत्तेजना थी। समय गुज़रने के साथ उत्साह कम नहीं हुआ। यह न केवल भारत में बल्कि दुनिया के अन्य हिस्सों में भी विकसित हुआ है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2016

पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2015 के बाद, वर्ष 2016 में आयोजित दूसरे योग दिवस में भी लोगों को उत्साह के साथ इक्कठे होकर देखा गया। चंडीगढ़ के कैपिटल कॉम्प्लेक्स में दूसरे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का जश्न मनाने का मुख्य आयोजन आयोजित किया गया था। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भीड़ का जोश बढ़ाने के लिए इस कार्यक्रम में भाग लिया। योग आसन करने के लिए इकट्ठे हुए हजारों लोगों के साथ श्री मोदी ने इस समारोह में योग आसन का भी अभ्यास किया। उन्होंने इस अवसर पर एक प्रेरक भाषण दिया जिससे कि देश के युवाओं को अपने रोजमर्रा के जीवन में योग को अपनाने के माध्यम से एक स्वस्थ जीवन जीने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके।

इसी तरह अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर देश के कई हिस्सों में कई बड़े और छोटे समारोह आयोजित किए गए। भारतीय सेना, भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक दल के सभी सैनिकों ने भी विभिन्न हिस्सों में मनाए जाने वाले योग दिवस के समारोहों में भाग लिया। हमारे पड़ोसी देशों और दुनिया भर के अन्य देशों ने भी समान उत्साह के साथ इस दिन को मनाया।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2017

तीसरा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस दुनिया भर में और अधिक उत्साह के साथ मनाया गया। जैसे-जैसे अधिक से अधिक लोग योग के महत्व को समझ रहे हैं और अपने जीवन में इसका पालन कर रहे हैं वैसे-वैसे योग शिविरों की संख्या और इस ओर भागीदारी वर्ष-दर-वर्ष बढ़ रही है।

प्रत्येक वर्ष की तरह भारत में तीसरा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर एक बड़ा समारोह आयोजित किया गया था। इसके लिए नवाबों का शहर लखनऊ को चुना गया था। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, योगी आदित्यनाथ, के साथ इस दिन का जश्न मनाने के लिए लखनऊ गए। इस दिन लखनऊ शहर में बारिश हुई लेकिन इसने लोगों को योग दिवस समारोह में भाग लेने पड़ा। इस खास दिन का जश्न मनाने के लिए लखनऊ के रामभाई अम्बेडकर सभा स्थली में लगभग 51,000 लोग इकट्ठा हुए। सभी लोग इस समारोह का हिस्सा बनकर अति उत्साहित और रोमांचित थे और सभी ने समर्पण के साथ योग आसन किए।

इस दिन का जश्न मनाने के लिए दिल्ली के केंद्रीय पार्क में कई लोगों के साथ भारतीय राष्ट्रपति भी इकट्ठा हुए। इसके अलावा योग दिवस का जश्न मनाने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में कई कार्यक्रम आयोजित किए गए थे।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2018

दुनिया भर में चौथे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए कई महोत्सवों की योजना बनाई जा रही है। भारत में इस अवसर पर सबसे बड़े महोत्सवों में से एक महोत्सव ऋषिकेश, उत्तराखण्ड में गंगा नदी के तट पर आयोजित होने की उम्मीद है। दुनिया भर में लोगों की बड़ी संख्या इस महोत्सव के लिए इकट्ठा होने की उम्मीद है।

निष्कर्ष

यह आश्चर्यजनक है कि कैसे इस उम्र में मन, शरीर और सोच अभी भी काम करती है। दुनिया भर के योग चिकित्सक अपने नियमित जीवन में योग को प्रोत्साहित करने के लिए लोगों से आग्रह करते हैं। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में एक विशेष दिन को मनाने के पीछे का कारण हमारे जीवन में योग को करने के महत्व पर बल देना है।


 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

वर्ष 2014 में भारतीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने का प्रस्ताव दिया। संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) को यह प्रस्ताव पसंद आया और 21 जून 2015 को पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया। श्री मोदी द्वारा प्रस्तावित प्रस्ताव और यू.एन. द्वारा किए गए निर्णय की दुनिया भर के आध्यात्मिक नेताओं और योग के चिकित्सकों द्वारा इसकी सराहना की गई। भारतीय आध्यात्मिक नेता और आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री रवि शंकर ने कहा कि योग पहले एक अनाथ बच्चे जैसा था लेकिन अब ऐसा नहीं है। संयुक्त राष्ट्र द्वारा इसे मान्यता देने के बाद इस कला को वह कद प्राप्त हुआ है जिसका यह सही मायनों में हकदार थी।

पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

पहले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को दुनिया के विभिन्न हिस्सों में बहुत उत्साह से मनाया गया। यह विशेष रूप से भारत के लिए एक खास दिन था। इसका कारण यह है कि प्राचीन काल में योग का जन्म भारत में हुआ था और इस स्तर पर इसे मान्यता प्राप्त होने के कारण यह हमारे लिए गर्व का विषय था। इस प्रकार देश में बड़े पैमाने पर इसे मनाया गया।

इस दिन के सम्मान में राजपथ, दिल्ली में एक बड़ा आयोजन आयोजित किया गया था। इस आयोजन में श्री मोदी और 84 देशों के उल्लेखनीय हस्तियों ने भाग लिया। इसके अलावा सामान्य जनता इस पहले योग दिवस समारोह के लिए बड़ी संख्या में एकत्रित हुई। इस योग दिवस के दौरान 21 योग आसन किए गए थे। प्रशिक्षित योग प्रशिक्षकों ने लोगों को ये आसन करने के लिए निर्देशित किया और लोगों ने बड़े उत्साह से उनके निर्देशों का पालन किया। इस आयोजन ने दो गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स सेट किए। पहला रिकॉर्ड सबसे बड़ी योग कक्षा के लिए बना जिसमें 35,985 प्रतिभागियों ने भाग लिया और दूसरा इसमें भाग लेने वाली देशों की सबसे बड़ी संख्या शामिल थी। आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा मंत्रालय, यूनानी, सिद्ध और होम्योपैथी (आयुष) ने इस आयोजन की व्यवस्था की थी। आयुष मंत्री श्रीपाद येसो नाइक को इसके लिए पुरस्कार मिला।

इसके अलावा देश में विभिन्न स्थानों पर कई योग शिविरों का आयोजन किया गया। विभिन्न योग आसन अभ्यास करने के लिए लोग पार्क, सामुदायिक हॉल और अन्य स्थानों में इकट्ठे हुए। योग प्रशिक्षकों ने लोगों को ये योग सत्र सफल बनाने के लिए प्रेरित किया। सामान्य जनता द्वारा दिखाया गया उत्साह आश्चर्यजनक था। न केवल महानगरों में रहने वाले लोगों ने बल्कि छोटे शहरों और गांवों में रहने वाले लोगों ने भी योग सत्रों का आयोजन किया और इनमें भाग लिया। यह वाकई एक नज़ारा था। इतनी बड़ी भागीदारी क्यों की जा सकी इसका एक कारण यह है था कि संयोगवश 21 जून 2015 को रविवार का दिन था।

उसी दिन एन सी सी कैडेटों ने लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में “एकल वर्दीधारी युवा संगठन द्वारा एक साथ सबसे बड़ा योग प्रदर्शन” अपना नाम दर्ज करवाया।

तो सब बातों में एक बात यह है कि यह एक अच्छी शुरुआत थी। लोग न केवल पहली बार प्रथम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर भाग लेने के लिए बड़ी संख्या में बाहर आए बल्कि योग को भी अपनी दैनिक दिनचर्या में भी शामिल करने के लिए प्रेरित किया। योग प्रशिक्षण केन्द्रों पर योग दिवस के बाद विभिन्न योग सत्रों में दाखिला लेने के लिए बड़ी संख्या में लोगों को देखा गया। भारत के लोग पहले से ही योग के महत्व के बारे में जानते थे लेकिन योग दिवस की शुरुआत ने इसे आगे बढ़ाया। यह उन्हें स्वस्थ जीवन शैली की दिशा में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता था। दूसरी ओर दुनिया भर के कई लोगों के लिए यह एक नई अवधारणा थी। वे इस तरह की एक महान कला के लिए ख़ुद को धन्य महसूस करते थे। इसलिए यह दिवस भारत और साथ ही विदेशों में भी कई नए योग केंद्रों की स्थापना के रूप में चिह्नित है।

निष्कर्ष

यह भारतीयों के लिए गर्व का विषय है कि मन और शरीर को फिट रखने के लिए हमारी प्राचीन कला स्वीकार की गई और दुनिया भर में इसकी सराहना की गई है। भारत कई तरह के खजानों का देश है और हम दुनिया के साथ उनमें से सबसे अच्छे खजानों में से एक को साझा करते हुए बहुत प्रसन्न हैं।

Comments

comments

Leave a Comment

error: